रूस से सस्ता तेल खरीद भारत कर रहा ये काम, रिपोर्ट में हुआ खुलासा

नई दिल्ली,

अमेरिका समेत कई पश्चिमी देश रूस पर आर्थिक प्रतिबंध लगाए हुए हैं. आर्थिक प्रतिबंध का मकसद रूसी आय के स्रोत में कमी लाना है. इसी मकसद से यूरोपीय देश रूस से कच्चा तेल नहीं खरीद रहे हैं. अपनी ऊर्जा जरूरतों को पूरा करने के लिए यूरोपीय देश भारत, चीन, तुर्की, यूएई और सिंगापुर से तेल खरीद रहे हैं. लेकिन ये देश भी रूस से ही खरीदे गए तेल को रिफाइन कर यूरोपीय देशों को निर्यात कर रहे हैं.

सेंटर फॉर रिसर्च ऑन एनर्जी एंड क्लीन एयर (CREA) की एक रिपोर्ट के मुताबिक, रूस पर लागू आर्थिक प्रतिबंध के कारण यूरोपीय देश भारत, चीन, तुर्की, यूएई और सिंगापुर से भारी मात्रा में रूसी तेल खरीद रहे हैं. रूसी तेल को यूरोपीय देशों को बेचने वाले इन पांच देशों को रिपोर्ट में ‘Laundromat’ (लॉन्ड्रोमैट) कंट्री कहा गया है. भारत इस लिस्ट में सबसे ऊपर है. यानी इन पांच देशों में सबसे ज्यादा रूसी तेल का निर्यात भारत ने किया है.

रूसी तेल खरीदकर दूसरे देशों को बेचने में आगे भारत: रिपोर्ट
यूरोपीय कंट्री फिनलैंड की राजधानी हेलंस्की बेस्ड CREA की एक रिपोर्ट के मुताबिक, 2023 की पहली तिमाही में भारत लॉन्ड्रोमैट कंट्री को लीड कर रहा है, जो रूसी तेल खरीदते हैं और इसे रिफाइन कर यूरोपीय प्रतिबंधों को दरकिनार करते हुए बेचते हैं.

अंतरराष्ट्रीय एजेंसी ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट और एनालिटिक्स फर्म Kpler की रिपोर्ट भी CREA की रिपोर्ट से मेल खाती है. रिपोर्ट में यह बताया गया है कि यूरोपीय यूनियन के वो देश जो रूसी तेल पर प्राइस कैप लागू करने का समर्थन करते हैं और तय सीमा से ऊपर तेल व्यापार और बीमा पर रोक लगाते हैं. वही देश प्राइस कैप से ऊपर कीमत पर रूसी तेल खरीद रहे भारत, चीन, तुर्की, यूएई और सिंगापुर से रिफाइन तेल खरीद रहे हैं.

रिपोर्ट में भारतीय तेल कंपनियों और यूरोपीय खरीदारों पर प्राइस कैप को दरकिनार करने का आरोप लगाया गया है. उनका आरोप है कि गुजरात स्थित रिफाइनरी रूसी तेल को रिफाइन कर यूरोपीय देशों में बेचने में अहम भूमिका निभा रही है. दरअसल, गुजरात स्थित एक रिफाइनरी को रूसी ऑयल कंपनी रोजनेफ्ट (Rosneft) भी को-ओन (सह-मालिक) करती है.

रूस पर लागू आर्थिक प्रतिबंध को नजरअंदाज करते हुए भारत भारी मात्रा में रूसी तेल आयात कर रहा है. लगातार पिछले छह महीनों से रूस भारत के लिए नंबर एक तेल सप्लायर बना हुआ है. क्रूड ऑयल की कीमत बढ़ने के कारण भारत भी प्राइस कैप से ऊपर भुगतान कर रहा है. जबकि अमेरिका समेत कई यूरोपीय देश यह चेतावनी दे चुके हैं कि सभी कंपनियां यह सुनिश्चित करें कि रूसी तेल की खरीद प्राइस कैप के भीतर हो.

प्राइस कैप लगाने वाले देश ही खरीद रहे रूसी तेल
रिपोर्ट के मुताबिक, प्राइस कैप लगाने वाले संगठन के देशों ने उन देशों से तेल आयात में बढ़ोतरी की है, जो देश यूक्रेन युद्ध के बाद से रूसी कच्चे तेल के सबसे बड़े आयातक बन गए हैं. सेंटर फॉर रिसर्च ऑन एनर्जी एंड क्लीन एयर (CREA) की ओर से जारी रिपोर्ट में कहा गया है कि रूसी तेल पर लागू प्राइस कैप में यह एक बड़ा लूप होल है, जो रूस पर लागू प्रतिबंधों के प्रभाव को कमजोर कर सकती है.रिपोर्ट में कहा गया है कि यूरोपीय देश जो पहले रूस से सीधे तेल खरीदते थे, आर्थिक प्रतिबंध लगाने के बाद वो अब तीसरे देशों से खरीद रहे हैं.

तथाकथित ‘लॉन्ड्रोमैट’ देशों में भारत ने अप्रैल महीने में सबसे ज्यादा रूसी तेल आयात किया है. यह लगातार पांचवां महीना है, जब भारत ने सबसे ज्यादा रूसी तेल आयात किया है. लॉन्ड्रोमैट में शामिल देश प्राइस कैप लगाने वाले देशों को लगभग 3.8 मिलियन टन तेल निर्यात करते हैं. इन देशों में यूरोपीय यूनियन, जी-7 कंट्री, ऑस्ट्रेलिया और जापान भी शामिल है.

About bheldn

Check Also

जानलेवा हमले के बाद बाइडेन ने ट्रंप से की फोन पर बात, वॉशिंगटन लौट रहे अमेरिकी राष्ट्रपति

वॉशिंगटन, अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पर जानलेवा हमले के बाद जो बाइडेन ने …