धरने पर बैठे पहलवानों से मिलने जंतर-मंतर पहुंचीं पीटी उषा, 4 दिन पहले ही बताया था अनुशासनहीन

नई दिल्ली

इंडियन ओलंपिक एसोसिएशन की अध्यक्ष और दिग्गज एथलीट पीटी उषा बुधवार सुबह धरन दे रहे पहलवानों से मिलने जंतर-मंतर पहुंची। पीटी उषा ने कुछ समय पहले ही बयान दिया था कि धरने पर बैठे खिलाड़ी अनुशासनहीन हैं और देश की छवि को खराब कर रहे हैं। इसके अलावा किसान नेता राकेश टिकैत भी इन खिलाड़ियों से मिलने पहुंचे।

टिकैत ने यहां मीडिया से बात करते हुए कहा, ‘दिल्ली पुलिस ने दो नियम बनाए हैं। अगर कोई आम आदमी होता तो पुलिस गिरफ्तारी करने में बिलकुल समय नहीं लगाती लेकिन अगर कोई वीआईपीएल या सरकार का आदमी है तो अलग नियम माने जाते हैं। लोगों को नहीं भूलना चाहिए कि अभी भी चार लाख ट्रैक्टर हमारे घरों में हैं.’

पीटी उषा ने पहलवानों से की बातचीत
रेसलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष ने जाकर विनेश फोगाट और संगीत फोगाट से बातचीत करती नजर आई। धरना दे रहे पहलवान पीटी उषा के बयान से काफी नाराज थे। साक्षी मलिक से लेकर विनेश फोगाट ने पीटी उषा के खिलाफ नाराजगी जाहिर की थी।

पीटी उषा ने धरना देने वालों को बताया था अनुशासनहीन
ओलंपिक एसोसिएशन ने भी मामले की जांच के लिए कमेटी बनाई थी जिसमें बॉक्सर मैरीकॉम और रेसलर योगेश्वर दत्त शामिल थे। हालांकि इस कमेटी की जांच रिपोर्ट भी सामने नहीं है। उषा से जब इसको लेकर सवाल किया गया था तो उन्होंने कहा, ‘पहलवानों का सड़कों पर प्रदर्शन करना अनुशासनहीनता है और इससे देश की छवि खराब हो रही है। उन्हें पहले हमारे पास आना चाहिए था।’

बजरंग ने पीटी उषा के बयान पर जताई थी निराशा
पीटी उषा का बयान सुनकर बजरंग ने कहा, ‘वह खुद एक महिला हैं लेकिन फिर भी खिलाड़ियों का दर्द नहीं समझा। ये सुनकर बड़ा दुख हुआ। हमने तीन महीने इंतजार किया है। हम उनके पास भी गए थे फिर भी हमारे साथ न्याय नहीं हुआ और हमें यहां आना पड़ा।”

 

About bheldn

Check Also

तीसरे नंबर पर खेलने का मौका मिला तो स्टोइनिस ने मारा चौका, चेन्नई के खिलाफ ठोका शतक

चेन्नई: ऑस्ट्रेलिया के अनुभवी ऑलारउंडर मार्कस स्टोइनिस आईपीएल 2024 में लखनऊ सुपर जायंट्स के लिए …