15 दिन में सेना के 10 जवान शहीद, जम्मू के इन जिलों में नापाक साजिश कर रहे आतंकी

जम्मू

आतंकी संगठनों ने अब कश्मीर में आतंकी घटनाओं को कम करके जम्मू रीजन की तरफ रूख हमला बोलना शुरू क‍िया क‍िया है। इसमें राजौरी और पुंछ जिलों (आरपी) रेंज आतंकवाद‍ियों की टॉप ल‍िस्‍ट में शाम‍िल हैं। इन दो जिलों में पिछले 15 दिनों में सेना के दस जांबाज जवान शहीद हो चुके हैं। दोनों जगहों पर आतंकियों की तरफ से पूरे प्लान के साथ हमला किया गया। दरअसल पिछले कुछ समय से आरपी रेंज में आतंकी हलचल काफी बढ़ी है। साल के शुरुआत के पहले ही दिन आतंकियों की तरफ से राजौरी के ढांगरी में पांच हिंदुओं की हत्या की गई थी। उसके अगले ही दिन आईईडी धमाके में दो बच्चों की जान गई थी।

दअरसल बीते महीने 20 अप्रैल को आतंकियों ने पुंछ जिले में सेना के वाहन पर घात लगाकर हमला किया था। इसमें सेना के वाहन पर फायरिंग करके व‍िस्‍फोटक फेंका गया और पांच जवान शहीद हो गए थे। उन आतंकियों की तलाश में पिछले कई दिनों से सर्च आपॅरेशन चलाया जा रहा है।

15 द‍िन में 10 जवान शहीद
शुक्रवार को एक सूचना के आधार पर राजौरी जिले के कंडी इलाके में आतंकियों की मौजूदगी पर सेना की टीम ने सर्च आपॅरेशन चलाया था। इसमें आपॅरेशन जारी है और अभी तक सेना के पांच जवान शहीद हुए हैं। इस प्रकार से पिछले 15 दिनों में दस जवान शहीद हो चुके हैं। इससे की दोनों जिलों की सुरक्षा को कड़ा कर दिया गया है।

साल के पहले द‍िन हुई थी पांच ह‍िंदुओं की हत्‍या
अगर इस साल के शुरू की बात की जाए तो आतंकियों ने साल के पहले दिन ढांगरी में हमला किया था। पूरे प्लान के साथ हिंदु परिवारों के घरों में घुसकर हमला किया गया था। इसमें पांच को मौके पर मार दिया गया था। आतंकियों ने दूसरे दिन भी हमले का प्लान बनाया था। इसमें उसी जगह पर आईईडी को लगाया गया था। जहां पर हिंदुओं की हत्या की गई थी।

पुंछ में घुसपैठ की थी नाकाम
इस जगह पर दूसरे दिन आईईडी लगाने का प्लान यह था कि जब दूसरे दिन यहां पर वीआईपी लोग आए तो वह भी निशान बन सके। लेकिन धमाके के समय सिर्फ दो बच्चे की मौजूद थे। उनकी मौत हुई थी। नौ अप्रैल को पुंछ जिले में सेना ने घुसपैठ को विफल किया था। इसमें एक आतंकी को मार गिराया गया था। जबकि दो को गिरफ्तार किया गया था।

प‍िछले साल कब-कब हुए हमले
16 दिसंबर को राजौरी में अल्फा गेट के पास आतंकियों ने हमला किया था। जिसमें दो नागरिकों की मौत हुई थी। सात जुलाई 2022 को सुन्द्रबनी इलाके में मुठभेड में दो जवान शहीद हुए थे और तीन आतंकी मारे गए थे। छह अगस्त 2021 को थन्नामंडी में दो आतंकी मारे गए थे।

About bheldn

Check Also

सात फेरों की गांठ खोलकर दुल्‍हन बोली- शादी नहीं करनी, वजह सुनकर सब रह गए हैरान

कानपुर: कानपुर में बाराती उस समय हैरान रह गए जब दुल्‍हन ने चौथा फेरा लेने …