IPL के बाद जारी होगा विश्व कप का शेड्यूल, नरेंद्र मोदी स्टेडियम में होगा भारत-पाक मैच

अहमदाबाद

अहमदाबाद का नरेंद्र मोदी स्टेडियम अक्टूबर-नवंबर में होने वाले आईसीसी वनडे वर्ल्ड कप में भारत और पाकिस्तान मैच की मेजबानी करने की रेस में सबसे आगे चल रहा है। साल 2016 के बाद भारतीय सरजमीं पर दो कट्टर प्रतिद्वंद्वियों के बीच यह पहला मैच होगा। पता चला है कि भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) ने बड़ी संख्या में प्रशंसकों (विदेश से भारत आने वाले) की संभावना में अहमदाबाद स्टेडियम में हाई-वोल्टेज मैच की मेजबानी करने का फैसला किया है। नरेंद्र मोदी स्टेडियम की दर्शक क्षमता एक लाख है, जो देश के किसी भी स्टेडियम के मुकाबले सबसे ज्यादा है।

पता चला है कि मौजूदा समय में चल रहे इंडियन प्रीमियर लीग के खत्म होने के बाद बीसीसीआई भव्य तरीके से विश्व कप कार्यक्रम की घोषणा करेगा। अगर सब कुछ तय कार्यक्रम के मुताबिक रहा तो वनडे वर्ल्ड कप 5 अक्टूबर से शुरू होगा। इसके स्थानों (अभ्यास मैच भी शामिल) के रूप में नागपुर, बेंगलुरु, त्रिवेंद्रम, मुंबई, दिल्ली, लखनऊ, गुवाहाटी, हैदराबाद, कोलकाता, राजकोट, इंदौर, बेंगलुरु और धर्मशाला को शॉर्ट लिस्ट किया गया है। हालांकि, इन स्थलों में से केवल सात ही भारत के लीग मैचों की मेजबानी करेंगे। अहमदाबाद एकमात्र ऐसा स्थान हो सकता है जहां भारत दो मैच खेलता है, बशर्ते टीम फाइनल में पहुंच जाए।

यह भी पता चला है कि पाकिस्तान सुरक्षा कारणों से अपने ज्यादातर मैच चेन्नई और बेंगलुरू में खेल सकता है। कोलकाता के ईडन गार्डंस को भी वेन्यू माना जा रहा है। इसी तरह, बांग्लादेश भी अपने अधिकांश मैच कोलकाता और गुवाहाटी में खेल सकता है, क्योंकि इससे पड़ोसी देश के प्रशंसकों के लिए यात्रा की दूरी कम हो जाएगी। अक्टूबर-नवंबर में मानसून का मौसम होने के कारण, बीसीसीआई नवंबर के पहले सप्ताह से पहले देश के दक्षिणी हिस्सों में मैच खत्म करने की योजना बना रहा है। इंडियन एक्सप्रेस को पता चला है कि बीसीसीआई ने भारतीय टीम प्रबंधन के साथ भी परामर्श किया है और पाकिस्तान के अलावा अन्य मैचों के लिए भी उसकी प्राथमिकताएं मांगीं हैं।

सूत्रों ने बताया कि भारतीय टीम ने बीसीसीआई से अनुरोध किया है कि वह ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड, न्यूजीलैंड और दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ मैच ऐसे स्थलों पर आवंटित करे, जहां स्पिनर्स को मदद मिले। टीम इंडिया ने बोर्ड से कहा कि वह धीमी पिचों को तरजीह देना चाहता है, क्योंकि वह घर में होने वाले इस मेगा इवेंट का तथाकथित अधिकतम लाभ लेना चाहता है। पिछले कुछ वर्षों से ऐसा चलन में भी है।

बीसीसीआई के एक सूत्र ने बताया, भारतीय टीम ने पिछले कुछ वर्षों में घर में धीमी पिचों पर अच्छा प्रदर्शन किया है। इसलिए टीम प्रबंधन ने अनुरोध किया था कि जब भी कार्यक्रम तैयार किया जा रहा हो तो भारतीय टीम को धीमी पिचों पर शीर्ष टीमों का सामना करना चाहिए। वे घरेलू परिस्थितयों का फायदा उठाना चाहते थे।

चेन्नई में हो सकता है भारत-ऑस्ट्रेलिया का मैच
सूत्रों ने कहा कि राज्य क्रिकेट बोर्ड पहले ही अपनी इच्छा सूची बीसीसीआई को दे चुकी हैं, लेकिन मैचों के आयोजन स्थलों के आवंटन पर फैसला सिर्फ बीसीसीआई ही करेगा। सूत्र ने बताया कि भारत और ऑस्ट्रेलिया का मुकाबला चेन्नई के एमए चिदंबरम स्टेडियम में होने की प्रबल संभावना है, जबकि न्यूजीलैंड, इंग्लैंड, दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ मुकाबले ऐसे स्टेडियम में खेले जाएंगे, जहां धीमी पिचें होंगी।

स्टेडियमों को अपग्रेड करने पर बीसीसीआई खर्च करेगा 500 करोड़
बीसीसीआई ने 50 ओवर के विश्व कप से पहले देश भर में स्टेडियमों को अपग्रेड करने के लिए 500 करोड़ रुपए से अधिक का प्रावधान किया है। बीसीसीआई सचिव जय शाह ने कहा था कि स्टेडियमों की स्थिति पर हालिया आलोचना के बाद बोर्ड अपने बुनियादी ढांचे का उन्नयन करेगा, जिसमें स्वच्छ शौचालय, आसान पहुंच और साफ सीटें शीर्ष प्राथमिकताएं होंगी।

जय शाह ने कहा था, विश्व कप से पहले देश में सभी मौजूदा बुनियादी ढांचे को अपग्रेड किया जाएगा। आईपीएल और विश्व कप के दौरान ज्यादा से ज्यादा प्रशंसकों के साथ जुड़ने के लिए स्टेडियम का आकलन किया गया है, इसलिए इस अवधि के दौरान बुनियादी ढांचे का उन्नयन किया जाएगा।

 

About bheldn

Check Also

टी20 में कौन करेगा टीम इंडिया की कैप्टेंसी? गौतम गंभीर बोले- वह ऐसे कप्तान…

कोलंबो, आईसीसी मेन्स टी20 वर्ल्ड कप 2024 में भारतीय टीम ने ऐतिहासिक विजय हासिल की …