प्रियांक खड़गे के सहयोगी के घर पर IT की रेड, हाल ही में कांग्रेस में हुए थे शामिल

बेंगलुरु,

कर्नाटक में विधानसभा चुनाव के प्रचार के बीच आयकर विभाग का एक्शन भी जारी है. आयकर विभाग (IT) ने कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे के बेटे प्रियांक खड़गे के सहयोगी अरविंद चौहान के घर पर छापेमारी की है. अरविंद के गुलबर्गा स्थित आवास पर यह छापा मारा गया. इस दौरान क्या बरामदगी हुई, इसकी जानकारी अभी नहीं मिल सकी है.वहीं हावेरी जिले में कांग्रेस कार्यकर्ता चन्नाबासवा के घर पर भी छापा मारा गया है.

प्रियांक बोले- यह बदला लेने की कार्रवाई
इस छापेमारी पर प्रियांक खड़गे ने बीजेपी पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा,’कांग्रेस नेता अरविंद चौहान की स्टोन क्रशिंग यूनिट, होटल और उनके घर पर कल रात आयकर विभाग ने छापेमारी की है. वे बीजेपी से कांग्रेस में शामिल हुए हैं. भाजपा ने बदला लेने के लिए आईटी एजेंसी को खुला छोड़ दिया है. वह चित्तपुर से भाजपा के टिकट के दावेदार थे, जो बाद में कांग्रेस में शामिल हो गए.’ प्रियांक खड़गे ने कहा कि चौहान एक साफ-सुथरी छवि वाले व्यक्ति हैं जिनका कोई पिछला आपराधिक या कर चोरी का रिकॉर्ड नहीं रहा है.

प्रियांक ने कहा,’बीजेपी पहले ही यह चुनाव हार रही है. सिर्फ कलबुर्गी में ही नहीं, बल्कि पूरे राज्य में. यह उनकी मानसिक हालत को दिखा रहा है. निराश होकर वे धर्म, जाति, भडकाने वाली लड़ाई, निजी हमले ला रहे हैं. यह उनकी नियम पुस्तिका है, जैसे-जैसे चुनाव करीब आ रहा है, अगर वे जीत रहे हैं तो वे कुछ नहीं करेंगे, हारने पर ही विपक्ष को डराने की कोशिश करते हैं.

शुक्रवार को भी हुई थी छापेमारी
आयकर विभाग ने शुक्रवार को बेंगलुरु और मैसूरु में कई स्थानों पर बड़े पैमाने पर छापेमारी की थी. आयकर विभाग की टीम ने इस दौरान कुछ फाइनेंसरों के ठिकानों पर रेड की थी. इनमें वो फाइनेंसर शामिल हैं जिन्होने आगामी चुनावों में उम्मीदवारों को धन मुहैया कराने के लिए कथित तौर पर नकदी जुटाई थी. ये छापेमारी बेंगलुरु शहर के शांति नगर, कॉक्स टाउन, शिवाजी नगर, आरएमवी एक्सटेंशन, कनिंघम रोड, सदाशिव नगर, कुमारपार्क वेस्ट और फेयरफील्ड लेआउट इलाकों में स्थित परिसरों में की गई. छापों के परिणामस्वरूप बड़ी मात्रा में बेहिसाब नकदी और आभूषण और उनके गुप्त ठिकानों में रखे सोने-चांदी को जब्त किया गया.

कुछ दिन पहले भी आयकर विभाग ने गैलेंट ग्रुप से संबंधित ठिकानों पर छापेमारी की थी. कर चोरी की शिकायत पर आयकर विभाग ने गैलेंट ग्रुप के दफ्तर, अधिकारियो के साथ ही एंट्री ऑपरेटर्स के ठिकानों पर छापेमारी की थी. 24 घंटे से भी अधिक समय तक चली छापेमारी की इस कार्रवाई में करोड़ों रुपये की नकदी और आभूषण बरामद हुए थे. गैलेंट समूह की कंपनियों और इनसे संबंधित ठिकानों की तलाशी के दौरान करीब 16 करोड़ रुपये की नकदी और आभूषण बरामद किए गए थे.

 

About bheldn

Check Also

संपत्ति के बंटवारे पर हुआ मंथन तो सुप्रीम कोर्ट बोला- हम मार्क्सवादी व्याख्या का पालन नहीं कर सकते

नई दिल्ली संपत्ति के फिर से बंटवारे पर बढ़ते राजनीतिक विवाद के बीच सुप्रीम कोर्ट …