राजमहल में रची गई बड़ी साजिश, 100 करोड़ की संपत्ति के लिए बेटी पर महारानी की हत्या का आरोप

उज्जैन

एमपी के देवास रोड के नरवर राजघराने की महारानी अनिला कुमारी (95) पिछले कई महीनों से लापता थीं। करीब सालभर से ज्यादा उन्हें कोठी में देखा नहीं गया। आखिरी बार 22 अक्टूबर 2021 को पावर ऑफ अटॉर्नी के लिए परिवार के ही कुछ लोग महारानी को रजिस्ट्रार कार्यालय ले गए थे। जिसके बाद से वे वापस नहीं लौटीं थी। इस विषय पर 7 महीने पहले भी उनके पोते हिमावत सिंह ने थाने में शिकायत की थी। एक बार फिर अब महारानी की मृत्यु को लेकर परिवार की बहू कनकबली और पोते ने प्रेसवार्ता अपनी बात रखी। । इसकी शिकायत नरवर थाने में किए जाने के बाद रविवार को महारानी की बहू व पोते माधवनगर थाने भी पहुंचे।

महारानी के पोते और बहु ने मौत की आशंका के चलते गंभीर आरोप लगाए हैं। उनका कहना है कि महारानी ठीक से सुनने और समझने में सक्षम नहीं थीं। रजिस्ट्रार में भी उनकी मानसिक स्थिति ठीक नहीं होना बताई गई थीं। ऐसी स्थिति में महारानी का लंबे समय से गायब होना और उनकी मृत्यु की सूचना का महीने भर बाद मिलना संदेहास्पद है। पोते ने महारानी की बेटी पर आरोप लगाते हुए कहा है कि पावर ऑफ अटॉर्नी के बाद उन्होंने वसीयत भी अपने नाम करा ली है। 100 बीघा जमीन और प्रॉपर्टी भी बेच दी गई। तहसीलदार ने भी इस संदर्भ में बेटी से जानकारी मांगी। रविवार को महारानी की बहू व पोते माधवनगर थाने भी पहुंचे।

बेटी ने बताया आरोपों को बताया निराधार
इन सभी आरोपों के जवाब में महारानी की बेटी विभासिंह और नाती कुशाग्र सिंह ने सारे आरोपों को निराधार बताया हैं। साथ ही कहा है कि हम पूरे दस्तावेज के साथ इसका जवाब न्यायालय में देंगे। मौत की शिकायत को लेकर हिमावत सिंह रविवार को माधवनगर थाने पर शिकायत करने पहुंचे थे। माधवनगर थाना प्रभारी ने बताया कि यह उनके थाना क्षेत्र का मामला नहीं है, हमने पूर्व की शिकायतों को भी नरवर थाने भिजवा दिया था। जबकि नरवर थाना प्रभारी संजय मंडलोई ने बताया कि संबंधित परिवार के लोगों ने परिवार के ही कुछ लोगों के खिलाफ महारानी की मौत को लेकर हत्या की आशंका जताते हुए आवेदन दिया गया है। लेकिन बयान देने के लिए शिकायतकर्ता थाने नहीं आए हैं। हम दो बार सूचना दे चुके हैं।

रची जा रही हैं साजिशें
महारानी के परिवार के लोगों का कहना है कि दलाल और भू-माफिया उनकी जमीन हथियाना चाहते हैं। इसके लिए कई साजिशें रची जा रही हैं। उनके पोते के खिलाफ भी साजिश और हत्या का केस माधवनगर थाने में दर्ज कराया गया था। कुछ महीनों पहले राज परिवार के वीरेंद्र सिंह झाला व राजपाल सिंह झाला ने बताया था कि झाला वंशज में महारानी अनिला कुमारी ही मुखिया थी। संभवत: प्रॉपर्टी विवाद के चलते महारानी को कहीं छिपा दिया गया था। इसलिए जब नवरात्रि पर परिजन उनका आशीर्वाद लेने के लिए इकट्ठा हुए थे तब वे नहीं मिलीं थी।

बेटी ने दी थी मौत की जानकारी
महारानी की बेटी विभा सिंह ने परिजनों को बताया था कि 16 फरवरी 2023 की मौत हो गई थी। हालांकि महारानी के पोते ने आरोप लगाया कि अभी तक महारानी की लाश मिली और न ही उनका डेथ सर्टिफिकेड जारी किया गया।

क्या है विवाद
महारानी के पास करीब 250 बीघा जमीन थी। जिसमें से 150 बीघा जमीन विभा सिंह के नाम थी। बाकि 100 बीघा जमीन परिवार के अन्य सदस्यों के नाम थे। परिजनों का आरोप है कि विभा सिंह ने अपने हिस्से को छोड़कर 100 बीघा जमीन भी बेच दी है। बताया जा रहा है कि जमीन की कीमत करोड़ों में थी। इसके अलावा महारानी के पास अरबों रुपए की दौलत है।

About bheldn

Check Also

मोदी की बातों को वाहियात बताने वाले मुस्लिम नेता पर गिरी गाज, BJP ने पार्टी से बाहर का रास्ता दिखाया

बीकानेर/जयपुर राजस्थान में लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण की वोटिंग से पहले बीजेपी ने बड़ा …