सोनिया गांधी की ‘संप्रभुता’ वाली टिप्पणी पर फंस गई कांग्रेस, EC का पार्टी अध्यक्ष को नोटिस

नई दिल्ली,

कर्नाटक विधानसभा चुनाव का प्रचार सोमवार की शाम समाप्त हो गया है. अब 10 मई को वोटिंग होनी है. उससे पहले कांग्रेस की मुश्किलें बढ़ती दिख रही हैं. चुनाव आयोग ने कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे को नोटिस जारी किया है. बता दें कि कांग्रेस के ट्विटर हैंडल पर सोनिया गांधी के ‘संप्रभुता’ वाला बयान पोस्ट किया गया था. इस मामले में बीजेपी ने चुनाव आयोग से शिकायत की थी.

अब चुनाव आयोग ने खड़गे से स्पष्टीकरण मांगा है या रेक्टिफाई करने के लिए कहा है. चुनाव आयोग का कहना है कि यह राजनीतिक दलों की तरफ से किए गए शपथ का उल्लंघन है. ECI ने खड़गे को कर्नाटक राज्य के संदर्भ में ‘संप्रभुता’ शब्द का जिक्र करते हुए सोशल मीडिया पोस्ट को स्पष्ट करने और सुधारने के लिए कहा है.

बीजेपी नेताओं ने ट्वीट कर शिकायत की थी
बता दें कि 8 मई, 2023 को भारतीय जनता पार्टी के नेता भूपेंद्र यादव, डॉ. जितेंद्र सिंह, तरुण चुघ, अनिल बलूनी और ओम पाठक ने एक ट्वीट किया था और चुनाव आयोग को शिकायत की थी. जिसमें भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से 6 मई, 2023 की रात 9:46 बजे किए गए ट्वीट पर ध्यान दिलाया.

कांग्रेस के ट्वीट में लिखा गया था…
‘कांग्रेस संसदीय दल (CPP) अध्यक्ष श्रीमती सोनिया गांधी जी ने 6.5 करोड़ कन्नडिगों को एक बड़ा संदेश भेजा: कांग्रेस किसी को भी कर्नाटक की प्रतिष्ठा, संप्रभुता या अखंडता के लिए खतरा पैदा करने की अनुमति नहीं देगी.’

भाजपा ने शिकायत में ये आरोप लगाए थे…
कर्नाटक, देश का बेहद महत्वपूर्ण राज्य है और भारत के संघ के एक सदस्य राज्य की संप्रभुता की रक्षा के लिए कोई भी आह्वान अलगाव के लिए आह्वान है और खतरनाक और हानिकारक परिणामों से भरा है. इसके अलावा, बीजेपी की शिकायत के अनुसार, उपरोक्त ट्वीट जनप्रतिनिधित्व अधिनियम, 1951 की धारा 29ए (5) के तहत राजनीतिक दलों द्वारा ली गई अनिवार्य शपथ का उल्लंघन है.

लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम, 1951 की धारा 29ए(5) में क्या कहा गया है…
… संघ या निकाय कानून द्वारा स्थापित भारत के संविधान और समाजवाद, धर्मनिरपेक्षता और लोकतंत्र के सिद्धांतों के प्रति सच्ची आस्था और निष्ठा रखेगा और भारत की संप्रभुता, एकता और अखंडता को बनाए रखेगा.

‘अखबारों में दिए विज्ञापन पर बीजेपी को भी नोटिस’
कांग्रेस और भाजपा के बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर चल रहा है. हाल ही में बीजेपी ने कांग्रेस के विज्ञापन पर आपत्ति जताई थी और चुनाव आयोग से शिकायत की थी. उसके बाद कांग्रेस ने भी बीजेपी के समाचार पत्रों में दिए विज्ञापन को लेकर ईसीआई से शिकायत की है. कांग्रेस की शिकायत पर ECI ने एक्शन लिया है और राज्य भाजपा अध्यक्ष को नोटिस जारी किया है.

चुनाव आयोग ने बीजेपी को 9 मई 2023 की रात 8 बजे तक विज्ञापन में किए गए दावों के फैक्ट भेजने का वक्त दिया है. 7 मई, 2023 को ECI ने एक एडवाइजरी जारी की थी. इसमें पार्टियों से कहा था कि विज्ञापनों में असत्यापित आरोप या दावे नहीं किए जाने चाहिए. आयोग ने कर्नाटक के भाजपा अध्यक्ष को एक अखबार में विज्ञापन प्रकाशित करने के लिए एक नोटिस जारी किया है. आयोग ने कहा- विज्ञापन में किए गए दावों की व्याख्या करें कि प्रासंगिक कानूनी प्रावधानों का उल्लंघन करने के लिए क्यों नहीं कार्रवाई शुरू की जानी चाहिए?

ECI को कांग्रेस नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने 8 मई, 2023 को शिकायत की थी. इसमें कहा था कि बीजेपी ने 8 मई, 2023 को एक अखबार में विज्ञापन प्रकाशित किया है, जिसमें विभिन्न दावे किए गए हैं, जिन पर कांग्रेस पार्टी ने आरोप लगाया है कि यह निराधार है.

 

About bheldn

Check Also

मोदी की बातों को वाहियात बताने वाले मुस्लिम नेता पर गिरी गाज, BJP ने पार्टी से बाहर का रास्ता दिखाया

बीकानेर/जयपुर राजस्थान में लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण की वोटिंग से पहले बीजेपी ने बड़ा …