मोका तूफान पर IMD का आ गया बड़ा अलर्ट, कहां करेगा लैंडफॉल, कितनी बारिश जानिए सबकुछ

कोलकाता

साल का पहला चक्रवात मोका 11 मई के बाद दिशा बदलकर बांग्लादेश और म्यामांर की तरफ जा सकता है। भारत मौसम विज्ञान विभाग ने इस बारे में जानकारी दी है। हालांकि इसका लैंडफाल कहां होगा इसको लेकर स्थिति स्पष्ट नहीं हैं। मोका तूफान पश्चिम बंगाल को कितना प्रभावित करेगा? यह इस बात पर निर्भर करेगा कि यह बांग्लादेश जाते समय तटीय इलाकों से कितनी दूर या कितनी पास रहता है। इसलिए तटीय इलाकों के लिए हवाओं और बारिश की चेतावनी नहीं जारी की गई है। मोका तूफान को लेकर अगला बुलेटिन मंगलवार को जारी होगा। मौसम विज्ञान विभाग की ओर से पश्चिम बंगाल के साथ ही ओडिशा और आंध्र प्रदेश में अलर्ट जारी किया गया है। वहीं बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने भी मोका तूफान को लेकर लोगों से न घबराने की अपील की है।

10 मई को तूफान का रूप ले सकता है मोका
भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने मोका चक्रवात को लेकर जानकारी दी। जिसके मुताबिक दक्षिण पूर्व बंगाल की खाड़ी और उसके नजदीक दक्षिण अंडमान सागर के ऊपर सोमवार को कम दबाव का क्षेत्र बना। आईएमडी के महानिदेशक मृत्युंजय महापात्र ने कहा, ‘कम दबाव का यह क्षेत्र यहां पर ही 9 मई को चक्रवात में बदल सकता है। जिसके बाद में दक्षिण पूर्व बंगाल की खाड़ी और उससे लगे बंगाल के साथ ही अंडमान सागर के पूर्वी मध्य खाड़ी के इलाकों में 10 मई को चक्रवाती तूफान का रूप ले सकता है।’

बांग्लादेश और म्यांमार पर छाया साया
मोका शुरू में 11 मई तक उत्तर-उत्तर पश्चिम से पूर्व मध्य बंगाल की खाड़ी की ओर और उसके बाद उत्तर-उत्तर पूर्व दिशा में बांग्लादेश-म्यांमा तटों की ओर बढ़ सकता है। मौसम विभाग ने कहा, ‘दक्षिण पूर्व बंगाल की खाड़ी और उससे सटे दक्षिण अंडमान सागर में जो लोग हैं उन्हें सुरक्षित स्थानों पर लौटने की सलाह दी जाती है। वहीं मध्य बंगाल की खाड़ी और उत्तर अंडमान सागर के लोगों को नौ मई से पहले लौटने की सलाह दी जाती है। हालांकि 8 मई से 12 मई तक अंडमान निकोबार द्वीपसमूह के पास पर्यटन, तटीय गतिविधियों पर नजर रखने का सुझाव दिया गया है।

About bheldn

Check Also

प्राइवेट प्रॉपर्टी पर हो सकता है किसी समुदाय या संगठन का हक, सुप्रीम कोर्ट के 9 जजों की बेंच ने क्या कहा?

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने आज कहा कि संविधान का उद्देश्य सामाजिक बदलाव की भावना …