तिहाड़ में यह क्या हो रहा है! गैंगस्टर टिल्लू ताजपुरिया की बेरहमी से हत्या पर दिल्‍ली HC ने खूब फटकारा

नई दिल्‍ली

‘सबसे सुरक्षित’ कही जाने वाली तिहाड़ जेल में यह क्या हो रहा है! क्‍या कैदी सलाखें काटकर लोगों की हत्या कर सकते हैं? आखिर चल क्या रहा है? दिल्‍ली हाई कोर्ट ने सरकारी वकील ने सोमवार को कुछ तीखे सवाल किए। तिहाड़ के भीतर गैंगस्टर टिल्लू ताजपुरिया की बेरहमी से हत्या कर दी गई। पुलिस की मौजूदगी में उसपर धारदार हथियार से वार हुए। उसके पिता ने हत्या की सीबीआई जांच के लिए हाई कोर्ट में अर्जी डाली है। सोमवार को जस्टिस जगमीत सिंह की बेंच ने सुनवाई के दौरान कहा कि पूरी घटना सीसीटीवी में रिकॉर्ड हुई। जज ने कहा कि वह यह नहीं समझ पा रहे कि हत्या को रोकने के लिए जेल अधिकारियों ने कदम क्‍यों नहीं उठाए। सरकारी वकील से अदालत ने पूछा- यहां क्या हो रहा है? क्‍या ये कैदी सलाखें काट सकते हैं और हत्या कर सकते हैं? क्या किसी अधिकारी को सस्पेंड किया गया है? HC ने कहा कि यह स्वीकार्य नहीं है। कोर्ट ने एक स्टेटस रिपोर्ट मांगी है और तिहाड़ के अधीक्षक को मौजूद रहने के लिए कहा है।

ऐडिशनल स्टैंडिंग काउंसिल राहुल त्यागी ने कहा कि हत्या एक गैंगवार के चलते हुए। मामले की जांच स्‍पेशल सेल को ट्रांसफर की गई है। अदालत ने अपने आदेश में सरकारी वकील से कहा कि चूक के लिए जो भी अधिकारी जिम्मेदार हैं, उनकी जवाबदेही तय की जाए। जस्टिस जगमीत सिंह ने दिल्‍ली पुलिस से कहा कि वह ताजपुरिया के पिता और भाई को सुरक्षा देने पर विचार करे।

तमिलनाडु पुलिस के ADGP पहुंचेंगे तिहाड़ जेल
तिहाड़ जेल के हाई सिक्योरिटी वॉर्ड में बंद सुनील उर्फ टिल्लू ताजपुरिया की सनसनीखेज हत्या के मामले में लगातार जांच पर जांच कमिटी का गठन किया जा रहा है। जहां दिल्ली पुलिस ने इस मामले की जांच स्पेशल सेल को सौंप दी है, वहीं तमिलनाडु स्पेशल पुलिस फोर्स के जवानों का सीसीटीवी में विडियो सामने आने के बाद जो किरकिरी हुई है, उसके बाद तमिलनाडु के डीजीपी सी सिलेंद्र बाबू ने तिहाड़ जेल की घटना की जांच के आदेश दिए हैं।

गौरतलब है कि गैंगस्टर टिल्लू ताजपुरिया की तिहाड़ जेल में सुए से वार करके हुई हत्या के दौरान तमिलनाडु टीएसपी के कुछ पुलिसकर्मी वहां मूकदर्शक बनकर खड़े नजर आ रहे थे। जानकारी के अनुसार, उसी मामले में तमिलनाडु पुलिस के एडीजीपी एचएम जयराम आज इसकी जांच के लिए तिहाड़ जेल का दौरा कर रहे हैं। वह उस वॉर्ड में पहुंचेंगे, जहां पर टिल्लू ताजपुरिया पर हमला किया गया था। पूरी छानबीन करके यह पता करने की कोशिश करेंगे कि कैसे और क्यों लापरवाही की गई थी।

About bheldn

Check Also

प्राइवेट प्रॉपर्टी पर हो सकता है किसी समुदाय या संगठन का हक, सुप्रीम कोर्ट के 9 जजों की बेंच ने क्या कहा?

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने आज कहा कि संविधान का उद्देश्य सामाजिक बदलाव की भावना …