पाकिस्‍तानी सेना और ISI से सीधी दुश्‍मनी पड़ी भारी, इमरान खान अरेस्‍ट, गृहयुद्ध की ओर बढ़ा देश?

इस्‍लामाबाद

पाकिस्‍तान के पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान का पाकिस्‍तानी सेना और आईएसआई के खिलाफ मोर्चा खोलना भारी पड़ गया है। पाकिस्‍तान की शहबाज सरकार और सेना को कई दिनों तक चकमा देने वाले इमरान खान आखिरकार अरेस्‍ट हो गए हैं। इमरान खान की पार्टी पीटीआई का आरोप है कि गिरफ्तारी के दौरान इमरान खान को भी पीटा गया है। बताया जा रहा है कि इमरान खान इस्‍लामाबाद हाई कोर्ट में पहुंचे थे और इसी दौरान उन्‍हें पाकिस्‍तानी सेना से जुड़े रेंजर्स ने अरेस्‍ट कर लिया। इमरान खान को एक तरह से घसीटते हुए ले जाने की तस्‍वीरें सामने आई हैं। इससे पहले इमरान खान ने कोर्ट जाने से पहले पाकिस्‍तानी सेना को खुली धमकी दी थी।

दरअसल, पाकिस्‍तान में आम चुनाव के जल्‍द नहीं होने की वजह से इमरान खान बौखला गए हैं और लगातार सेना के खिलाफ मोर्चा खोले हुए हैं। इमरान खान ने देश की शक्तिशाली खुफिया एजेंसी आईएसआई के एक आलाधिकारी के खिलाफ बहुत गंभीर आरोप लगाए हैं। इमरान खान ने कहा कि आईएसआई के जनरल फैसल नसीर उनके हत्‍या की साजिश रच रहे हैं। पीटीआई नेता ने कहा कि दो बार उनके हत्‍या की कोशिश की गई है।

मेरी हत्‍या की हो रही है साजिश, इमरान का बड़ा दावा
इमरान ने यह भी कहा कि पाकिस्‍तान के चर्चित पत्रकार अरशद शरीफ की केन्‍या में क्रूर तरीके से हत्‍या के पीछे भी जनरल फैसल नसीर का ही हाथ है। अरशद शरीफ अक्‍सर पाकिस्‍तानी सेना के खिलाफ आवाज उठाते रहते थे और हत्‍या की डर से ही केन्‍या चले गए थे। इस हत्‍याकांड के बाद पाकिस्‍तान सुलग उठा था। इमरान खान लगातार इस हत्‍याकांड को लेकर शहबाज सरकार और सेना के खिलाफ मोर्चा खोले हुए थे।

इमरान खान ने इससे पहले यह भी कहा था कि जनरल फैसल नसीर, पीएम शहबाज और गृहमंत्री राणा सनाउल्‍ला ने उनके हत्‍या की साजिश रची थी। इमरान खान को इस हमले में पैर में गोली लगी थी। इमरान खान के इस आरोप के बाद पाकिस्‍तानी सेना ने एक बयान जारी करके इमरान खान के आरोपों को खारिज कर दिया था। इसके बाद इमरान खान ने एक बार फिर से कोर्ट जाने से पहले पाकिस्‍तानी सेना और आईएसआई पर हमला बोला। इमरान खान ने कहा कि यह मेरी सेना है और यह मेरा पाकिस्‍तान है, मुझे झूठ बोलने की जरूरत नहीं है।

इमरान खान की इस गिरफ्तारी के बाद पाकिस्‍तान में राजनीतिक तनाव अपने चरम पर पहुंच गया है। इमरान खान इस समय अपनी लोकप्रियता के चरम पर हैं और लाखों की तादाद में समर्थकों के साथ रैलियां कर रहे हैं। राजनीतिक विश्‍लेषकों को अब डर सता रहा है कि देश में राजनीतिक हिंसा का दौर शुरू हो सकता है जो गृहयुद्ध में भी बदल सकता है। इसको रोकने के लिए पाकिस्‍तानी सेना देश में मार्शल लॉ भी लगा सकती है। पाकिस्‍तान में नवंबर के आसपास चुनाव होने वाले हैं। इमरान खान को डर है कि उन्‍हें चुनाव में हिस्‍सा लेने से भी रोका जा सकता है। अब इमरान खान को आखिरी उम्‍मीद पाकिस्‍तानी सुप्रीम कोर्ट से है। हालांकि सुप्रीम कोर्ट भी सेना के इशारे पर ही काम करती है।

About bheldn

Check Also

चीन के गुलाम मुइज्जू ने जीता मालदीव का संसदीय चुनाव, भारत समर्थक MDP की करारी हार

माले मालदीव की संसद मजलिस के लिए हुए चुनाव में चीन समर्थक राष्ट्रपति मोहम्मद मुइज्जू …