’15-20 शव तो हमने अपने हाथों से निकाले, घायलों का बचना भी मुश्किल’, प्रत्यक्षदर्शी से जानिए खरगोन बस हादसे की कहानी

खरगोन

मध्य प्रदेश के खरगोन जिले में मंगलवार सुबह हुआ बस हादसा ड्राइवर की लापरवाही की वजह से हुआ। घटनास्थल पर मौजूद ग्रामीण गिरधारी मंडलोई ने बताया कि बस की स्पीड काफी ज्यादा थी। इसके चलते ड्राइवर का नियंत्रण बिगड़ा और बस पुल से नीचे नदी में जा गिरी।

गिरधारी ने बताया कि बस के नीचे गिरते ही वे वहां पहुंचे तो चारों ओर चीख-पुकार मची हुई थी। वे अन्य लोगों के साथ बस में फंसे लोगों को निकालने में जुट गए। बस पूरी भरी हुई थी। इसमें 50 से ज्यादा लोग सवार थे। 15-20 शव तो उन्होंने खुद निकाले। गिरधारी ने यह भी बताया कि हादसे में घायल लोगों की हालत भी काफी खराब है। उनमें से कितने की जान बच पाएगी, यह कहना मुश्किल है।

स्थानीय लोगों का यह भी कहना है कि इस रूट पर चलने वाली बसों में अधिकतर क्षमता से ज्यादा यात्रियों को भरा जाता है। लोगों के विरोध करने पर बस का स्टाफ रंगदारी करता है। यात्रियों को मार-पीट की धमकी दी जाती है। आरटीओ से शिकायत करने पर भी कोई कार्रवाई नहीं होती। इसके चलते लोग ऐसी ही हालत में यात्रा करने को मजबूर हैं।

इस भीषण हादसे में अब तक 16 मौतें हो चुकी हैं। करीब 25 लोग घायल हैं। उन्हें खरगोन के जिला अस्पताल में भर्ती किया गया है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने हादसे पर दुख जताया है। राज्य सरकार ने मृतकों और घायलों के लिए मुआवजे का ऐलान किया है। हादसे की मजिस्ट्रेट से जांच के आदेश भी दिए गए हैं।

About bheldn

Check Also

राजनाथ सिंह के बाद अब “परिवार” को मोर्चे पर उतारेगी BJP, क्षत्रिय मतदाताओं को लामबंद करने की तैयारी!

गाजियाबाद गाजियाबाद लोकसभा से बीजेपी प्रत्याशी अतुल गर्ग को रेकॉर्ड वोटों से जिताने के लिए …