इंसानियत के दुश्मन! 2.5 लाख में बेचते थे कैंसर के इलाज का नकली इंजेक्‍शन, पांच अरेस्‍ट

नोएडा

कैंसर के गंभीर मरीजों को कीमोथेरपी के दौरान महंगे इंजेक्‍शन दिए जाते हैं। इनकी कीमत लाखों में होती है लेकिन ऐसे भी लोग हैं जो मानवता की परवाह किए बिना इनका भी फर्जीवाड़ा करते हैं। नकली कीमो इंजेक्‍शन बेचने के आरोप में तुर्की के एक नागरिक के अलावा तीन लोगों को पुलिस ने अरेस्‍ट किया है। एक इंजेक्‍शन को 2.5 लाख रुपये में बेचा गया था।

अरेस्‍ट हुए लोगों में से एक नोएडा की एक फार्मेसी का डॉक्‍टर भी है। सूत्रों का कहना है कि एक प्राइवेट अस्‍पताल का डॉक्‍टर भी संदेह के घेरे में है। उसी ने इस फार्मेसी का इंजेक्‍शन लिखा था। यह गिरफ्तारी मुख्‍यमंत्री के फ्लाइंग स्‍क्‍वॉड और ड्रग्‍स कंट्रोल डिपार्टमेंट ने सोमवार को की।

टीम ने हार्टलैंड फार्मेसी के कनिष्‍क राजकुमार को नोएडा के सेक्‍टर 62 से अरेस्‍ट किया। इसके बाद मुंबई से तुर्की के नागरिक अली को भी अरेस्‍ट से किया। असल में टीम को 21 अप्रैल को किसी मुखबिर ने बताया था कि नोएडा के सेक्‍टर 52 में एक अस्‍पताल के पास 2.5 लाख रुपये में कैंसर के नकली इंजेक्‍शन बेचे जाएंगे। इसी सूचना पर पहुंची टीम ने पश्चिम बंगाल के रहने वाले संदीप को डेफिब्रोटाइड के नकली इंजेक्‍शन के साथ पकड़ा।

पुलिस ने पूछा तो संदीप ने बताया कि वह मोती उर्रहमान अंसारी के लिए मा करता है। मुख्‍य आरोपी अंसारी ने ड्रग्‍स कंट्रोल टीम के सामने सरेंडर कर दिया। उसने बताया कि ये इंजेक्‍शन नोएडा के कनिष्‍क से खरीदे गए हैं और चार बार में 40 इंजेक्‍शन की खरीद हुई है। इसी सूचना के बाद कनिष्‍क को अरेस्‍ट किया गया था।

About bheldn

Check Also

J-K: कुपवाड़ा में सुरक्षा बलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़, पुंछ में एक जवान शहीद

श्रीनगर, जम्मू-कश्मीर में पिछले कुछ समय से आतंकी घटनाएं तेज हो गई हैं. इस कड़ी …