टिल्लू ताजपुरिया की हत्या में शामिल 2 कैदी अरेस्ट, चादर से ढंका था CCTV

नई दिल्ली ,

गैंगस्टर टिल्लू ताजपुरिया की हत्या के मामले में स्पेशल सेल की टीम ने तिहाड़ जेल में बंद विनोद और आतउर रहमान नाम के दो कैदियों को गिरफ्तार किया है. विनोद पर आरोप है कि उसने हत्याकांड के दौरान चादर से सीसीटीवी छुपाने की कोशिश की थी. इसके अलावा एक आरोपी को उसी चादर से टिल्लू के बैरेक में कूदाने में भी मदद की थी.

अताउर रहमान पर आरोप है कि उसने हत्याकांड के बाद चाकू छुपाने में मदद की. स्पेशल सेल की टीम गुरुवार को तिहाड़ पहुंची थी और उसने क्राइम सीन को रीक्रिएट किया था. बता दें, दिल्ली के स्पेशल पुलिस कमिश्नर स्पेशल सेल एचजीएस धालीवाल तिहाड़ की जेल नंबर 8, 9 में गए थे.

वहां उन्होंने टिल्लू हत्याकांड की जांच की, जहां से हमलवार कूदे थे और टिल्लू की हत्या की थी. ये सीन रिक्रिएट किया गया. इस दौरान फॉरेंसिक टीम भी मौके पर मौजूद थी, जिन्होंने जांच कर इस केस से जुड़े एविडेन्स जुटाए.

टिल्लू की हत्या को अंजाम देने वाले चारों आरोपियों से खुद स्पेशल सीपी ने घंटों पूछताछ की. 14 अप्रैल को तिहाड़ में गैंगस्टर प्रिंस तेवतिया और 2 मई को टिल्लू ताजपुरिया की हत्या के साथ तिहाड़ में अब तक 19 दिन में दो मर्डर हुए हैं. दोनों हत्याओं की जांच स्पेशल सेल की टीम कर रही है

दो साल पहले बनाया गया था टिल्लू की हत्या का प्लान
स्पेशल सेल की रिमांड पर पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि दो साल पहले भी टिल्लू ताजपुरिया को खत्म करने का प्लान बनाया गया था. मगर, उस समय दोनों तरफ के गैंगस्टर को अलग-अलग जेलों में शिफ्ट कर दिया गया. इस कारण ये प्लान फेल हो गया था. तिहाड़ में मौका मिलने के बाद उसकी हत्या कर दी.

गोगी गैंग के गुर्गों ने कराई थी टिल्लू की हत्या
बता दें, गैंगस्टर टिल्लू को गोगी गैंग के गुर्गों ने तिहाड़ की हाई सिक्योरिटी सेल में चाकू से ताबड़तोड़ वार कर मौत के घाट उतारा था. इस घटना का वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था. जिसके बाद तिहाड़ जेल प्रशासन की जमकर किरकिरी हुई थी.

अब इस मामले में तिहाड़ जेल के डीजी समेत 99 अधिकारियों का ट्रांसफर कर दिया गया है. बता दें कि डीजी तिहाड़ संजय बेनीवाल के आदेश पर गुरुवार को तबादले जारी किए गए हैं. जानकारी के मुताबिक, सभी अफसरों व कर्मचारियों की जेलों को बदला गया है.

 

About bheldn

Check Also

प्राइवेट प्रॉपर्टी पर हो सकता है किसी समुदाय या संगठन का हक, सुप्रीम कोर्ट के 9 जजों की बेंच ने क्या कहा?

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने आज कहा कि संविधान का उद्देश्य सामाजिक बदलाव की भावना …