मुझे ऐसे गिरफ्तार किया जैसे मैं पाकिस्तान का सबसे बड़ा आतंकी हूं… जमानत मिलने के बाद बोले इमरान खान

इस्लामाबाद

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान को इस्लामाबाद हाईकोर्ट से गिरफ्तार किया गया था, जिसके बाद पाकिस्तान में पिछले कुछ दिनों में तनाव देखने को मिला। लोगों ने गुस्से में सेना के अधिकारियों के घरों में आग लगा दी। इस पूरे घटनाक्रम के बीच अदालत ने इमरान की गिरफ्तारी पर 17 मई तक रोक लगा दी है। अदालत से राहत मिलने के बाद पहली बार इमरान खान ने अपने समर्थकों को संबोधित किया। उन्होंने अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं से किसी भी तरह की हिंसा में शामिल न होने को कहा है।

वीडियो के जरिए अपने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि जिन लोगों को चुनाव में हार का डर है, वही चाहते हैं कि देश में अराजकता फैले। इमरान ने कहा, ‘मुझ पर जब गोली चली तब अराजकता क्यों नहीं फैली? मैं जेल में था और बाहर क्या हो रहा है मुझे नहीं पता था। हम फैक्ट की जांच कर रहे हैं। लेकिन हमारी पार्टी ऐसा नहीं करती। पीटीआई इकलौती पार्टी है जिसकी रैलियों में बच्चे और महिलाएं भी आती हैं।’ इमरान आगे सेना पर बरसे और कहा, ‘मैंने उनसे कहा कि वह वारंट दिखाएं तो मैं साथ जाऊंगा। लेकिन आर्मी ने क्या किया, क्योंकि रेंजर्स आर्मी का ही हिस्सा है। हम शांत बैठे थे और वे खिड़कियां तोड़ रहे थे।’

मुझे डंडे मारे गए
इमरान खान ने पूछा कि गिरफ्तार करना क्या फौज का काम है? उन्होंने कहा, ‘पुलिस को आना चाहिए था, लेकिन फौज आई। उन्होंने हमारे लोगों को डंडे मारे, मुझे डंडे मारे। फिर पूरी दुनिया ने देखा कि पाकिस्तान का सबसे बड़े नेता को आखिर किस तरह से ले जाया गया। मैंने जितने अच्छे काम किए हैं अगर वह किसी और देश में होते तो नोबेल पुरस्कार मिल जाता।’ इमरान खान ने इस दौरान डीजीआईएसपीआर पर भी हमला बोला। उन्होंने कहा कि जब मैं जेल में था तब आप बयान दे रहे थे। अब मैं उनका जवाब देना चाहूंगा।

DG-ISPR को दी नसीहत
उन्होंने कहा, ‘आपने कहा कि मैं एक पाखंडी हूं और जितना मैंने सेना को नुकसान पहुंचाया उतना किसी ने नहीं किया। DG-ISPR साहब ध्यान से सुनो। मैंने अपने देश का पूरी दुनिया में नेतृत्व किया है, जब आप पैदा भी नहीं हुए थे। मैंने अपने देश को हर फोरम पर बचाया है। क्या मैं जब प्रधानमंत्री था तब सेना की इमेज अच्छी नहीं थी। लोग तब सेना को पसंद करते थे। लेकिन जब सेना प्रमुख ने मुझे धोखा देकर पाकिस्तान के सबसे बड़े अपराधियों को सत्ता सौंप दी तब लोग उनकी आलोचना करने लगे। आप पॉलिटिक्स में आ गए हैं। अपनी पार्टी बना लीजिए।’

इमरान को याद आया पूर्वी पाकिस्तान
इमरान खान ने कहा कि मैं पाकिस्तान के चीफ जस्टिस के नेतृत्व में इस हिंसा की एक स्वतंत्र जांच चाहता हूं। इमरान खान का दावा है कि सत्ताधारी दल और सेना ने हिंसा कराई है, ताकि उनकी पार्टी पीटीआई को आतंकी संगठन साबित किया जा सके। उन्होंने कहा, ‘मेरी गिरफ्तारी के बाद सभी मीडिया पर सेंसरशिप कर दी गई। मैं आज पूर्वी पाकिस्तान याद दिलाना चाहूंगा। मैं मैच खेलने गया था और हमारा जहाज आखिरी जहाज था जो वापस आया था। पाकिस्तान के खिलाफ लोगों में नफरत थी। तब भी मीडिया बैन कर दी गई थी। फर्क ये है आज सोशल मीडिया है और इन्होंने उसे भी बंद कर दिया।’

About bheldn

Check Also

अबू धाबी में मंदिर बनवाया इसलिए अल्‍लाह का कहर टूटा… पाकिस्तानियों की नफरत फिर आई सामने

इस्लामाबाद: पाकिस्तान के लोग दिन रात सिर्फ धर्म की बात करते हैं। दुनिया में कहीं …