खुशी को मार दिया है, अब उसके पास जा रहा हूं… युवक ने लाइव आकर मारी गोली

रांची,

“मैं खुशी को मार दिया हूं, अब खुद को मार रहा हूं. हम लोकेशन भेज दिए हैं. मेरा 87 वाला नंबर चालू है. और आप लोग इस पर कॉल कर सकते हैं. अपना अनुराधा दीदी को अपना लोकेशन भेज दिए हैं, करेंट लोकेशन. खुशी को मार दिए हैं, अब उसी के पास जा रहे हैं. बाय-बाय…”फेसबुक पर लाइव आकर इन बातों को कहने के बाद अंकित कुमार ने 13 मई की दोपहर को गोली मारकर आत्महत्या कर ली. बताते चलें कि उसने एक दिन पहले रांची में निवेदिता नाम की छात्रा की गोली मारकर हत्या कर दी थी.

अंकित ने शनिवार को कोकर के अयोध्यापुरी स्थित एक घर में खुद को गोली मार ली. मौके पर ही उसकी मौत हो गई. उसने जिस पिस्टल से निवेदिता उर्फ खुशी को गोली मारी थी, उसी पिस्टल से खुद को भी गोली मार ली.

पुलिस गिरफ्तारी के लिए दे रही थी दबिश
दूसरी ओर पुलिस उसकी गिरफ्तारी के लिए बिहार के नवादा समेत कई ठिकाने पर छापेमारी कर रही थी. अंकित कुमार अरगोड़ा में किराए का मकान लेकर रहता है. अंकित और निवेदिता के बीच काफी समय से प्रेम-प्रसंग चल रहा था. दो माह से निवेदिता अंकित से बात नहीं कर रही थी. इससे नाराज होकर अंकित ने इस घटना को अंजाम दिया था.

शुक्रवार शाम को नाश्ता करने निकली थी युवती
निवेदिता रांची के अरगोड़ा थाना क्षेत्र स्थित पटेल चौक के पास हॉस्टल में रहती थी. अंकित ने उसे शुक्रवार की शाम को उस वक्त 3 गोलियां मारी थीं, जब वह अपनी सहेली श्रृष्टि कुमारी के साथ हरमू बाजार में नाश्ता करने के लिए गई थी. शाम 6.15 बजे वह नाश्ता करने के बाद हॉस्टल लौट रही थी.

हॉस्टल से 50 मीटर की दूर पर जब वह पहुंची, उसी दौरान अपराधी अंकित कुमार उसके पास पहुंचा. उसने निवेदिता से पूछा कि मुझसे बात क्यों नहीं कर रही हो. निवेदिता ने उसकी बात का कोई जवाब नहीं दिया. इसी दौरान अंकित ने निवेदिता को तीन गोली मार दी. एक गोली निवेदिता की आंख में लगी, जबकि दो गोली छाती में लगी. वहीं, गोली छिटकने से उसकी सहेली श्रृष्टि भी घायल होकर सड़क पर गिर गई थी.

पुलिस ने पहुंचाया अस्पताल, इलाज के दौरान मौत
फायरिंग की आवाज सुनकर आस-पास के लोगों ने अपराधियों को खदेड़ा भी. मगर, अपराधी तेज रफ्तार से बाइक चलाकर मौके से फरार हो गए. निवेदिता को गोली मारे जाने की सूचना स्थानीय लोगों ने तुरंत अरगोड़ा थाने को दी. थाना प्रभारी विनोद कुमार तुरंत मौके पर पहुंचे और आनन-फानन में घायल युवती को आनन-फानन में रांची के रिम्स ले जाया गया.

मगर, डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया. घटना की जानकारी मिलते ही सिटी एसपी शुभांशु जैन भी मौके पर पहुंच गए थे. उन्होंने बताया कि युवती के परिजनों को इस घटना के बारे में सूचित कर दिया गया है. लड़की का नाम निवेदिता और उसकी उम्र 20 साल थी. वह बिहार के नवादा जिला की रहने वाली थी और पटेल चौक स्थित एक हॉस्टल में रहकर पढ़ाई कर रही थी. वह शनिवार को वो अपने घर वापस जाने वाली थी.

 

About bheldn

Check Also

असम की जेल में कैद खालिस्तानी अमृतपाल सिंह लड़ेगा लोकसभा चुनाव, जानें पंजाब की किस सीट से भरेगा पर्चा

चंडीगढ़ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत असम की जेल में बंद कट्टरपंथी सिख उपदेशक अमृतपाल …