सेना को समर्थन, सुप्रीम कोर्ट के खिलाफ धरना… इमरान खान के खिलाफ अब नवाज शरीफ ने संभाला

लाहौर

इमरान खान को इस्लामाबाद हाईकोर्ट से चार मामलों में मिली राहत के बाद अब नवाज शरीफ ने मोर्चा संभाल लिया है। नवाज शरीफ लंदन में भगोड़े की जिंदगी जी रहे हैं। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) इमरान खान की रिहाई के अदालत के फैसले खिलाफ लाहौर समेत देश भर में बड़े शहरों में विरोध-प्रदर्शन करेगी। उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं से पाकिस्तानी सेना के पक्ष में भी रैलियां निकालने को कहा है। आज सत्ताधारी गठबंधन पीडीएम की बैठक में वीडियो लिंक के जरिए शामिल नवाज शरीफ ने सुप्रीम कोर्ट के खिलाफ गुस्से का भी इजहार किया। आज इस्लामाबाद उच्च न्यायालय (आईएचसी) की खंडपीठ ने अल-कादिर ट्रस्ट भ्रष्टाचार मामले में पाकिस्तान तहरीक-ए इंसाफ (पीटीआई) प्रमुख इमरान खान को दो सप्ताह की अंतरिम जमानत दी।

नवाज शरीफ ने रैलियों का किया आह्वान
समा टीवी ने बताया कि पीएमएल-एन प्रमुख नवाज शरीफ ने पार्टी नेतृत्व से विरोध-प्रदर्शनों के लिए अपने समर्थकों को जुटाने का आह्वान किया है। रैलियां लाहौर, फैसलाबाद, सरगोधा, गुजरांवाला और कसूर में आयोजित की जाएंगी, जिनमें मरियम नवाज पंजाब की प्रांतीय राजधानी में विरोध प्रदर्शन का नेतृत्व करेंगी। इसके अलावा, पीएमएल-एन ने खैबर पख्तूनख्वा (केपी), क्वेटा और कराची में विरोध रैलियां आयोजित करने की भी योजना बनाई है।

पीएमएल- एन ने बनाई विरोध प्रदर्शन की योजना
आगामी विरोध-प्रदर्शनों के लिए पार्टी की रणनीति और कार्य योजना पर चर्चा करने के लिए साहीवाल, बहावलपुर और रावलपिंडी में भी बैठकें आयोजित की जाएंगी। समा टीवी ने बताया कि देश में बढ़ते राजनीतिक तनाव के बीच विरोध प्रदर्शन करने का निर्णय लिया गया है। द न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, पाकिस्तान के सर्वोच्च न्यायालय द्वारा खान की रिहाई के आदेश पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ ने पक्षपाती होने के लिए न्यायपालिका की आलोचना की।

शहबाज शरीफ ने कोर्ट पर साधा निशाना
प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ ने कहा, न्यायपालिका इमरान खान के लिए एक लोहे की ढाल बन गई है। उन्होंने कहा कि न्यायपालिका विभाजित है। जियो न्यूज ने बताया कि प्रधानमंत्री ने इस्लामाबाद में एक कैबिनेट बैठक को संबोधित करते हुए न्यायपालिका से देश में अन्य राजनेताओं के साथ किए गए व्यवहार पर सवाल उठाया। सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश उमर अता बंदियाल द्वारा नौ मई को उनकी गिरफ्तारी को अवैध घोषित करते हुए पीटीआई अध्यक्ष की रिहाई के आदेश के एक दिन बाद प्रधानमंत्री की टिप्पणी आई है।

About bheldn

Check Also

भारत और चीन में सीमा पर ‘युद्ध’ जैसी तैयारी, दलाई लामा ने चुपके से शुरू की ड्रैगन से बातचीत, चल क्‍या रहा?

बीजिंग: भारत और चीन के बीच इन दिनों सीमा पर युद्ध जैसी तैयारी है। गलवान …