‘पहले 2 साल मुझे CM, फिर 3 साल DK शिवकुमार’, सिद्धारमैया का फॉर्मूला

बेंगलुरु,

कर्नाटक में शानदार जीत और स्पष्ट बहुमत मिलने के बाद कांग्रेस अब जल्द ही मुख्यमंत्री के नाम का ऐलान कर सकती है. बेंगलुरु के एक होटल में रविवार को विधायक दल की बैठक हुई जिसमें पार्टी के सभी नवनिर्वाचित 135 विधायकों ने हिस्सा लिया. मुख्यमंत्री का नाम तय करने के लिए विधायकों ने वोटिंग की. विधायकों में किसी ने शिवकुमार, तो किसी ने सिद्धारमैया, किसी ने डॉक्टर जी परमेश्वर, किसी ने खड़गे तो किसी ने लिंगायत नेता एमबी पाटिल के नाम का सुझाव दिया. कुछ विधायकों ने पार्टी हाईकमान पर फैसला छोड़ दिया.

खड़गे के सामने होगी मतों की गिनती
पर्यवेक्षक बैलट बॉक्स को कांग्रेस आलाकमान तक ले जाएंगे और खड़गे के सामने खोलकर वोटों की गिनती करेंगे.अधिकतम मत प्राप्त करने वाले नेता का नाम गुप्त रखा जाएगा क्योंकि, मतदान केवल राय जानने के लिए ऐसा किया गया था. सिद्धारमैया और डीके शिवकुमार को आज शाम तक दिल्ली बुलाया गया है. चर्चा के बाद मंगलवार या बुधवार तक फैसला लिया जा सकता है. सूत्रों के मुताबिक, गुरुवार को नए मुख्यमंत्री और 30 कैबिनेट सदस्य शपथ ले सकते हैं.

सिद्धारमैया का फॉर्मूला
सूत्रों के मुताबिक, सिद्धारमैया ने सत्ता में साझेदारी का सुझाव देते हुए कहा कि पहले 2 साल उन्हें मुख्यमंत्री बनाया जाए और बाद के 3 साल डीके शिवकुमार को सीएम की कुर्सी सौंपी जाए. सिद्धारमैया ने कहा, ‘चूंकि वह उम्रदराज़ हैं, इसलिए वह कम से कम 2024 के संसदीय चुनावों तक पहले चरण में सरकार चलाना चाहते हैं.’ हालांकि शिवकुमार ने सिद्धारमैया के इस फॉर्मूले को राजस्थान और छत्तीसगढ़ का हवाला देते हुए खारिज कर दिया.

दोनों नेताओं ने सभी विधायकों से अपने-अपने लिए समर्थन मांगा. आलाकमान के लिए बड़ी चुनौती यह है कि अगर डीके को विधायक दल नेता के रूप में चुना जाता है तो सिद्धारमैया को फिर कैसे मनाया जाए और उन्हें क्या जिम्मेदारी दी जाए. शिवकुमार का पक्ष इसलिए भी मजबूत है क्योंकि पार्टी पिछले तीन वर्षों में उनके द्वारा किए गए प्रयासों से अच्छी तरह वाकिफ है.

अगर डीके शिवकुमार को सीएम नहीं बनाया जाता है तो कैडर को गलत संदेश जा सकता है, क्योंकि उन्होंने पार्टी के वफादार सिपाही के रूप में अपनी एक अलग छवि बनाई है. यहां अब डीके के संगठनात्मक कौशल को तरजीह दी जाए या फिर सिद्धारमैया के प्रशासनिक कौशल को, इस पर फैसला लेना आलाकमान के लिए चुनौती से कम नहीं होगा.

ऐसा रहा चुनाव परिणाम
आपको बता दें कि कर्नाटक विधानसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी ने 224 में से 136 सीटों पर जीत दर्ज की है. पार्टी को 43 फीसदी वोट शेयर मिला है. कांग्रेस की इस धुआंधार जीत के बाद इंडिया टुडे की डेटा इंटेलिजेंस यूनिट (DIU) ने चुनाव में जीत के अंतर का विश्लेषण किया. इस विश्लेषण में पता चला कि कांग्रेस ने 2018 की तुलना में काफी सीटों पर आराम से जीत दर्ज की, लेकिन कुछ सीटें ऐसी भी थीं, जहां जीत का अंतर बेहद कम रहा. इन सीटों पर थोड़ा सा भी नुकसान होने पर कांग्रेस प्रत्याशियों की हार हो सकती थी.

About bheldn

Check Also

सात फेरों की गांठ खोलकर दुल्‍हन बोली- शादी नहीं करनी, वजह सुनकर सब रह गए हैरान

कानपुर: कानपुर में बाराती उस समय हैरान रह गए जब दुल्‍हन ने चौथा फेरा लेने …