बागेश्वर बाबा की कथा सुनने तरेत मठ जाएंगे तेजस्वी यादव, पूर्व डीजीपी ने कर दिया कन्फर्म

पटना

बागेश्वर धाम के सरकार धीरेंद्र शास्त्री के पटना आने के पहले आरजेडी और खासतौर पर तेज प्रताप यादव ने जोरदार विरोध किया था। उनके अलावा भी कुछ और आरजेडी नेताओं ने धीरेंद्र शास्त्री को पटना में रोकने का दावा तक किया था। लेकिन ऐसा लगता है कि बिहार के डेप्युटी सीएम तेजस्वी यादव को न तो बड़े भाई की बात पसंद आई और न ही अपने पार्टी नेताओं का दावा। पूर्व डीजीपी के मुताबिक बागेश्वर बाबा की कथा का न्योता लेकर वो सोमवार को तेजस्वी यादव से मिले। डीजीपी ने कहा कि तेजस्वी यादव ने तरेत मठ में बागेश्वर बाबा की कथा में आने के लिए हां कर दी है।

‘बाबा बागेश्वर की कथा सुनने तेजस्वी यादव जाएंगे तरेत मठ’
पूर्व डीजीपी मृत्युंजय कुमार ठाकुर ने कहा कि ‘पहले हमने लिखित में न्योता दिया था, अब हमने सशरीर डेप्युटी सीएम से (तेजस्वी यादव) मुलाकात की है। उन्होंने आश्वासन दिया है कि बजरंगबली की कृपा होगी तो वो जरूर आएंगे। लालू जी का स्वास्थ्य अगर अलाउ करेगा तो वो आ सकते हैं। तेजस्वी यादव की बागेश्वर सरकार से मुलाकात तरेत मठ में होगी। हमारी ये कथा नन पॉलिटिकल है। सभी पार्टी के लोग आएंगे तो इसमें चार चांद लग जाएंगे। तेजस्वी आज भी आ सकते हैं और कल भी आ सकते हैं। माननीय सीएम को लेकर भी कोशिश करेंगे कि वो 16 या 17 को आएं।’

बाबा बागेश्वर की कथा में भारी भीड़
उधर बाबा बागेश्वर की अपील के बाद भी सोमवार को सुबह से ही लोग तरेत पाली मठ में जुटने लगे। हालांकि पटना में नौबतपुर तरेत मठ में मंच से ये ऐलान कर दिया गया है कि दोपहर 3 बजे से बागेश्वर बाबा का दिव्य दरबार लगेगा, इसमें सामूहिक अर्जी ली जाएगी। कोई विशेष अर्जी नहीं होगी। हाल ये था कि नेशनल हाईवे के अलावा नौबतपुर की तरफ आने वाले बिहटा सरमेरा रोड, शिवाला से होकर नौबतपुर आने वाला स्टेट हाईवे और नहर के रास्ते पर गाड़ियों का लंबा जाम लग गया। कल यानि रविवार की कथा को धीरेंद्र शास्त्री ने भारी भीड़ के बीच लोगों की बिगड़ती तबीयत के चलते रोक दिया था।

About bheldn

Check Also

असम की जेल में कैद खालिस्तानी अमृतपाल सिंह लड़ेगा लोकसभा चुनाव, जानें पंजाब की किस सीट से भरेगा पर्चा

चंडीगढ़ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत असम की जेल में बंद कट्टरपंथी सिख उपदेशक अमृतपाल …