कांग्रेस भ्रम फैला रही है कि पीएम मोदी का जलवा कम हो रहा है : मंगल पांडेय

पटना

क्या कर्नाटक के चुनाव परिणाम का असर 2024 के लोकसभा चुनाव में भी देखने को मिलेगा ? क्या 2024 के लोकसभा चुनावों में भी राष्ट्रवाद की जगह जातिवाद की राजनीति हावी होगी ? क्या जिस तरह से मुसलमानों ने कांग्रेस के पक्ष में एकतरफा मतदान किया है, उसी प्रकार 2024 के लोकसभा चुनाव में भी कांग्रेस के पक्ष में मतदान करेंगे? क्या कर्नाटक में बीजेपी की हार को 2024 लोकसभा चुनाव कांग्रेस की जीत का कारण बन सकता है ? ये सवाल इसलिए उठ रहे हैं क्योंकि बिहार के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री और पश्चिम बंगाल बीजेपी के प्रभारी मंगल पांडेय ने दावा किया है कि 2024 लोकसभा चुनाव में बीजेपी प्रचंड बहुमत से जीत हासिल करेगी और नरेंद्र मोदी लगातार तीसरी बार प्रधानमंत्री बनेंगे।

जनता में बढ़ रही है मोदी के प्रति दीवानगी : मंगल पांडेय
बिहार के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने कहा कि कर्नाटक विधानसभा चुनाव परिणाम आगामी लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की जीत का आधार नहीं हो सकता। उन्होंने कहा कि देश की तमाम विपक्षी पार्टियां अभी से 2024 में जीत का ख्वाब देख रही हैं। बिहार के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री ने विपक्षी दलों के नेताओं को स्पष्ट रूप से कहा कि बीजेपी भले ही कर्नाटक में हार गई, लेकिन कर्नाटक चुनाव में बीजेपी के वोट प्रतिशत में कोई कमी नहीं हुई। उन्होंने कहा कि देश के लोकप्रिय पीएम नरेंद्र मोदी के प्रति जनता की दीवानगी कायम है।

क्षेत्रीय पार्टियों पर मंडरा रहा है खतरा : मंगल पांडेय
बिहार बीजेपी के नेता और पश्चिम बंगाल प्रभारी मंगल पांडे ने कहा कि कर्नाटक चुनाव को लेकर भारत निर्वाचन आयोग के द्वारा जारी आंकड़ों पर गौर करें तो कर्नाटक विधानसभा 2023 में भारतीय जनता पार्टी का कुल वोट प्रतिशत 35.8 फीसदी है। जबकि पांच साल पहले 2018 में हुए कर्नाटक विधानसभा चुनावों में भी पार्टी का वोट प्रतिशत 36.2 फीसदी था। बीजेपी को मामूली वोटों का नुकसान हुआ है जो कि न के बराबर है। मंगल पांडेय ने कहा कि कांग्रेस के खाते में कर्नाटक की क्षेत्रीय पार्टी जेडीएस का वोट गया। यानी पूरी कोशिश करने के बाद भी कांग्रेस बीजेपी के वोट को तोड़ पाने में असफल रही। इससे पता लगता है कि कांग्रेस की नजर क्षेत्रीय पार्टियों के वोट बैंक पर है। कांग्रेस को यह भी लगता है कि बीजेपी विरोधी क्षेत्रीय पार्टियों के वोट बैंक को आसानी से तोड़ा जा सकता है।

कांग्रेस का हुआ सूपड़ा साफ-बीजेपी
मंगल पांडेय ने कहा कि कांग्रेस एक राज्य की जीत को केंद्र की जीत मान रही है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस को याद होगा कि इस साल त्रिपुरा विधानसभा में वो केवल तीन सीटों पर सिमट गयी। मेघालय में उनका प्रदर्शन निराशाजनक रहा केवल पांच सीटें मिली जबकि नागालैंड में कांग्रेस का खाता भी नहीं खुला। मंगल पांडेय ने कहा कि गुजरात में कांग्रेस को महज 17 सीटों पर ही संतोष करना पड़ा जबकि बीजेपी ने 156 सीटें लाकर बंपर जीत हासिल की। इसके पहले उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में भी बीजेपी ने शानदार जीत दर्ज की थी। उसी उत्तर प्रदेश में कांग्रेस मात्र 2 सीट जीत पाई थी। वहीं शनिवार 13 मई को कर्नाटक के परिणाम के साथ यूपी नगर पालिका चुनाव के परिणाम भी आए थे। इस चुनाव में भी बीजेपी ने प्रचंड बहुमत से क्लीन स्वीप किया। मंगल पांडेय ने कहा कि कांग्रेस भ्रम फैला रही है कि पीएम मोदी का जलवा कम हो रहा है। मंगल पांडेय ने कहा कि कांग्रेस को जान लेना चाहिए कि दिल्ली और पंजाब जैसे राज्यों में कभी उनका जलवा होता था। मगर वहां कांग्रेस का क्या हश्र हुआ। राजस्थान में कांग्रेस पार्टी अंतर्कलह से जूझ रही है। पूर्वोत्तर से लेकर अन्य हिंदी भाषी प्रदेशों में कांग्रेस की हाल के दिनों में करारी हार हुई है।

About bheldn

Check Also

BPSC पेपर लीक मामले में एक महिला समेत 5 गिरफ्तार, आरोपी उज्जैन से लाए गए पटना

पटना, बिहार पब्लिक सर्विस कमीशन (BPSC) द्वारा ली गई शिक्षक भर्ती परीक्षा पेपर लीक मामले …