‘बोलो राघव जी महाराज की जय…’, दिग्विजय के 6 साल के पोते का पहला भाषण

गुना ,

राघौगढ़ राजपरिवार की चौथी पीढ़ी का राजनीति में पदार्पण हो गया है. जयवर्धन सिंह के बेटे सहस्त्रजय सिंह ने महज 6 साल की उम्र में अपना पहला भाषण दिया तो लोगों ने तालियों से स्वागत किया. सहस्त्रजय अपने पिता जयवर्धन के साथ एक धार्मिक आयोजन में पहुंचे थे. इस दौरान राजपरिवार का यह नन्हा बालक पारंपरिक वेशभूषा में नजर आया. धार्मिक कार्यक्रम में दिग्विजय सिंह के पोते सहस्त्रजय सिंह ने मासूम लहजे में माइक पर कहा, “मैं दाता (पिता) के साथ आया हूं ..स्पीच (भाषण) देने आया हूं.”

इस दौरान जयवर्धन सिंह ने बताया, सहस्त्रजय ने रात में कहा कि उन्हें गांव में जाना है और भाषण देना है. जब सहस्त्रजय से सवाल किया गया कि आपका भाषण सुनने कौन आएगा? भाषण देना है तो प्रोग्राम फिक्स करो…तो तपाक से मासूम सहस्त्रजय सिंह अपने पिता जयवर्द्धन से बोले- ‘प्रोग्राम आप फिक्स करो.’ जयवर्धन ने सहस्त्रजय को समझाते हुए कहा, ‘यदि भाषण देना है तो शुरुआत घर से करो.’ इसी के चलते केवट राज जयंती के धार्मिक आयोजन में जयवर्धन सिंह के बेटे ने मासूमियत भरे अंदाज में पहला भाषण दिया.

कांग्रेस विधायक जयवर्धन ने कार्यक्रम में मौजूद लोगों को बताया, दो दिन पहले पंडित धीरेंद्र शास्त्री राघौगढ़ किले पर पधारे थे. पंडित जी के साथ सहस्त्रजय ने काफी बातें कीं. राघौगढ़ किले में चारों ओर हनुमान जी विराजे हैं. सहस्त्रजय सिंह भी अब हनुमान चालीसा का पाठ करने लगे हैं. धार्मिक कार्यों में सहस्त्रजय की विशेष रुचि रहती है.

राजपरिवार के सदस्य ने आगे कहा, हमें बचपन से सिखाया गया है कि सभी का भला हो और सभी का विकास हो.” इस दौरान अपने मासूम बेटे सहस्त्रजय सिंह को समझाते हुए जयवर्धन बोले कि सभी लोग उनका परिवार हैं. पीढ़ी दर पीढ़ी केवट समाज के लोगों ने राघौगढ़ परिवार का साथ दिया है.

 

About bheldn

Check Also

महाराष्ट्र: BJP ने स्टार प्रचारकों की लिस्ट से हटाया एकनाथ शिंदे और अजित पवार का नाम

नई दिल्ली, भाजपा ने शुक्रवार को महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे और उपमुख्यमंत्री अजित पवार …