गर्मी सताने लगी, इस बार मॉनसून भी देरी से आएगा, जानें मौसम विभाग ने क्या बताया

नई दिल्ली

इस बार भारत में मॉनसून के आगमन में थोड़ा विलंब हो सकता है। मौसम विभाग ने बताया है कि इस बार केरल में दक्षिण पश्चिम मॉनसून पहुंचने में देरी हो सकती है। मॉनसून का देशभर में इंतजार रहता है क्योंकि बारिश की फुहारों से न सिर्फ लोगों को गर्मी से राहत मिलती है बल्कि खेती-किसानी भी उस पर निर्भर रहती है। जैसे-जैसे मॉनसून उत्तर की तरफ बढ़ता है, मौसम बदलता जाता है। केरल में मॉनसून पहुंचने की तारीख 1 जून है और इसमें 7 दिनों का उतार-चढ़ाव देखने को मिलता है। इस बार केरल में मॉनसून 4 जून को दस्तक दे सकता है।

कब टाइम पर रहा मॉनसून
2018 में 29 मई को, 2019 में 8 जून, 2020 में 1 जून को समय पर, 2021 में 3 जून और 2022 यानी पिछले साल मॉनसून 29 मई को केरल पहुंचा था। IMD पिछले 18 साल से मॉनसून के भारत आगमन पर पूर्वानुमान लगाता आ रहा है। कुल 6 पैरामीटरों पर यह पूर्वानुमान लगाया जाता है। इसमें उत्तर पश्चिम भारत का न्यूनतम तापमान भी शामिल है।

पिछले दिनों जब मई के महीने में दिल्ली-एनसीआर समेत उत्तर भारत के कई इलाकों में बारिश हुई और लोगों को ठंड का एहसास होने लगा। कुछ लोगों में आशंका पैदा हो गई थी कि इस बार मॉनसून में देरी हो सकती है। हालांकि अभी ज्यादा देरी की संभावना नहीं है।

यह जानना महत्वपूर्ण है कि अगर मॉनसून में ज्यादा देर होती है तो खरीफ की प्रमुख फसलों की बुवाई में देरी हो सकती है। यानी मॉनसून खेती को प्रभावित कर सकता है। मॉनसून पर ही ग्रामीणों की आय, खपत ही नहीं बल्कि देश की आर्थिक तरक्की भी निर्भर करती है।

About bheldn

Check Also

प्राइवेट प्रॉपर्टी पर हो सकता है किसी समुदाय या संगठन का हक, सुप्रीम कोर्ट के 9 जजों की बेंच ने क्या कहा?

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने आज कहा कि संविधान का उद्देश्य सामाजिक बदलाव की भावना …