पढ़ते-लिखते नहीं हो… डांट पर जवान बेटे ने लड़ाई जुबान तो माता-पिता ने ले ली जान

रायगढ़

छत्तीसगढ़ के रायगढ़ में क्षणिक आवेश में आकर मां-बाप ने अपने जवान बेटे की हत्या कर दी है। हत्या के बाद इसे सड़क हादसे का रूप दिया है। माता-पिता ने शव को बाइक के साथ सड़क किराने फेंक दिया। पूरा मामला रायगढ़ जिले के लैलूंगा थाना क्षेत्र का है। दरअसल, पिछले छह अप्रैल को थाना लैलूंगा अंतर्गत लोहडापानी लकरा टोकरी रोड के पास एक युवक का शव कच्ची सड़क किनारे पड़ा मिला था। मृतक की शिनाख्त टेकमणी पैंकरा पिता कुहूरू सिंगार के रूप में हुआ था।

घटना को लेकर मृतक के मामा अशोक कुमार पैंकरा बताया कि उसका भांजा टेकमणी पैकरा कोतबा हॉस्टल में रहकर कक्षा ग्यारहवीं में पढ़ाई करता था। पांच अप्रैल को हॉस्टल से घर आया था। शाम चार-पांच बजे के करीब घर की मोटरसाइकिल लेकर घूमने निकला था। दूसरे दिन सुबह उसकी मां उसे खोजने निकली तो टेकमणी का शव सड़क किनारे पड़ा हुआ मिला। उसके सिर और शरीर में चोट लगी हुई थी।

इसके बाद परिवार के लोगों ने पुलिस को सूचना दी। मृतक के परिजनों ने पुलिस को बताया कि बाइक से गिरकर इसकी मौत हुई है। घटना को लेकर शव और घटनास्थल का बारीकी से निरीक्षण किया गया। मृतक के शरीर में आई चोट, मौके पर पड़ी बाइक और शव की स्थिति संदेहास्पद प्रतीत हुआ। पीएम रिपोर्ट में डॉक्टर ने बताया कि युवक की मौत गला दबाने, दम घुटने और सिर पर चोट की वजह से हुई है।

शव मिलने का स्थान और मृतक के घर की दूरी ज्यादा नहीं थी। पुलिस जांच पड़ताल के लिए मृतक के घर गई। मृतक के घर के आंगन में गोबर से लिपा-पोती और कई जगह जमीन की हल्की खुदाई (छिलाई) दिखा। परछी, चौखट, बाड़ी से लेकर घर के पीछे लाइन से खून जैसे दाग पड़े दिखे।

फॉरेंसिक विशेषज्ञों की टीम, जनप्रतिनिधि और गांव के प्रमुख व्यक्तियों को मृतक के घर पर बुलाया गया। फॉरेंसिक टीम ने ब्लड सैंपल कलेक्ट कर रासायनिक परीक्षण के लिए भेजा गया था। फॉरेंसिक रिपोर्ट में कलेक्ट किए गए सैंपल मानव रक्त बताया गया, जिस पर पुलिस टीम को मृतक के घरवालों पर संदेह हुआ।

इसके बाद पुलिस की टीम ने संदेहियों को हिरासत में लेकर कड़ाई से पूछताछ की। साथ ही माता-पिता के बयान में भिन्नता थी। लैलूंगा पुलिस ने मृतक के माता-पिता को हिरासत में लेकर पीएम रिपोर्ट और फॉरेंसिक रिपोर्ट का हवाला देकर कड़ाई से पूछताछ की। इसके बाद दोनों ने हत्या की बात स्वीकार कर ली।

दोनों ने बताया कि टेकमणी पांच अप्रैल को हॉस्टल से घर आया था। घर की बाइक से बाहर गया और काफी देर बाद लौटा। उसकी मां करमवती पैंकरा ने कहा कि पढ़ाई-लिखाई करते नहीं हो केवल घूमा करते हो। इसके बाद टेकमणी अपनी मां से झगड़ा करने लगा। वहां मौजूद टेकमणी के पिता कुहूरू सिंगार ने भी बेटा को उसकी मां से झगड़ा विवाद करने पर डांटा तो दोनों पिता-पुत्र में विवाद हुआ। इसी बीच कुहूरू सिंगार डंडा उठाकर बेटे टेकमणी की पिटाई शुरू कर दी। उसके सिर पर चोट आया और वहीं पर गिर गया।

गिरने के बाद उसकी मौत हो गई। दोनों पति-पत्नी शव को बोरे में भरा। घर के पीछे बारी होते हुए शव को बाइक पर लादकर लोहडापानी लकरा टोंगरी रोड मोड़ के पास फेंक आए, जिससे घटना, रोड एक्सीडेंट लगे। घटना के बाद दोनों ने लकड़ी के डंडा और बोरा को आग में जलाकर राख भी नष्ट कर दिए। जमीन पर गिरे खून को छुपाने के लिए गोबर से लीपा पोती के साथ जमीन की हल्की खुदाई कर दी।

घटना में आरोपियों के विरुद्ध पाए गए साक्ष्य के आधार पर आरोपी कुहूरू सिंगार (पिता) और करमवती पैंकरा (मां) दोनों को हत्या और साक्ष्य छिपाने के अपराध (धारा 302,201,34 IPC) में गिरफ्तार कर न्यायिक रिमांड पर भेजा गया है।

About bheldn

Check Also

असम की जेल में कैद खालिस्तानी अमृतपाल सिंह लड़ेगा लोकसभा चुनाव, जानें पंजाब की किस सीट से भरेगा पर्चा

चंडीगढ़ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत असम की जेल में बंद कट्टरपंथी सिख उपदेशक अमृतपाल …