हेलो! बीजेपी अध्यक्ष का OSD बोल रहा हूं, मंत्री बनना है क्या? शिंदे के विधायक करोड़ों गंवाने ही वाले थे कि…

नेता जी घर पर लेटे हुए थे, लेकिन आंखे खुली हुई थी। आंख खोलकर सपने देख रहे थे। सोच रहे थे महाराष्ट्र में मंत्रिमंडल का विस्तार होने वाला है, काश मुख्यमंत्री जी की कृपा बरस जाए! काश अच्छा मंत्रीपद मिल जाए! तभी विधायक जी की घंटी बजती है, मतलब फोन की घंटी बजती है। अचानक ख्वाब में खलल पड़ने पर मंत्री जी चौंक जाते हैं और गुस्से में फोन उठाते हैं। तभी सामने से आवाज आती है- मैं बीजेपी अध्यक्ष जे पी नड्डा का ओएसडी बोल रहा हूं, मंत्री बनना है क्या!

विधायकों को ठगने वाला महाठग
खैर ये तो ऐसा सपना था जो ज्यादातर विधायक मंत्रिमंडल विस्तार के वक्त देखते ही हैं, लेकिन अब जो होता है वो विधायक जी का सपना नहीं महाराष्ट्र की हकीकत है। जहां एक ऐसा महाठग सामने आया है जिसने ऐसे ही एक दो नहीं महाराष्ट्र 6 से ज्यादा विधायकों को करोड़ों रुपये का चूना लगाने की कोशिश की। दरअसल जल्द ही शिंदे सरकार अपने मंत्रिमंडल का विस्तार करने वाली है। कई विधायकों को मंत्रिमंडल मिलने की उम्मीद है और कइयों को चाह। बस इसी का फायदा उठाने का प्लान बनाया महाराष्ट्र के महाठग ने।

हेलो मैं जे पी नड्डा का पीए बोल रहा हूं…
इस महाठग ने खुद को बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे पी नड्डा का पीए बताया और महाराष्ट्र के विधायकों को फोन करना शुरू किया। इस ठग ने कहा कि अगर मंत्रीपद चाहते हैं तो एक करोड़ 67 लाख रुपये दें। यहां तक कि इसने कुछ मंत्रियों को भी फोन किया। ये कहकर कि अगर और बेहतर मंत्रिपद चाहिए तो करोड़ रुपये अकाउंट में ट्रांसफर करवा दें, मनमुताबिक मंत्रालय मिल जाएगा।

सामने आई महाठग की पूरी हकीकत
ये महाठग कई दिनों तक विधायकों के साथ इसी तरह टच में रहा, लेकिन जब इसने कई विधायकों को फोन किया तो नेताओं को दाल में काला लगा। पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई गई। अब बीजेपी अध्यक्ष जे पी नड्डा का नाम लेकर ठगी हो रही थी तो मामला तो बड़ा था ही। पुलिस ने तुरंत जांच शुरू की। फोन नंबर जांचे गए, लोकेशन ट्रेस की गई और फिर सामने आई इस महाठग की सच्चाई।

आरोपी को मोरबी से गिरफ्तार किया गया
गुजरात के मोरबी से आखिरकार विधायकों को ठगने वाले इस महाठग को गिरफ्तार कर लिया गया। इसका नाम नीरज है और ये अहमदाबाद का रहने वाला है। इसने पूछताछ में कई और खुलासे किए हैं। सिर्फ महाराष्ट्र ही नहीं बल्कि नागालैंड और गोवा के विधायकों के साथ भी इसने यही शातिर चाल चली थी। ये लगातार इन विधायकों के संपर्क में था, लेकिन अब पहुंच चुका है सलाखों के पीछे। पुलिस जांच कर रही है कि नीरज के अलावा इसके साथ कोई और तो शामिल नहीं है। विधायकों से भी इस बारे में बात की गई है।

About bheldn

Check Also

असम की जेल में कैद खालिस्तानी अमृतपाल सिंह लड़ेगा लोकसभा चुनाव, जानें पंजाब की किस सीट से भरेगा पर्चा

चंडीगढ़ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत असम की जेल में बंद कट्टरपंथी सिख उपदेशक अमृतपाल …