पुलिस ने महिला किसान को मारा थप्पड़ तो भड़का पंजाब, रोकीं ट्रेनें, कांग्रेस बोली- यह है AAP का बदलाव

चंडीगढ़

पंजाब के गुरदासपुर जिले में पुलिसकर्मी ने महिला किसान को थप्पड़ जड़ दिया, जिसके बाद पूरे पंजाब में इसको लेकर बवाल मच गया है। महिला किसान को थप्पड़ मारे जाने से भड़के किसानों ने लुधियाना से जालंधर और अमृतसर जालंधर-जम्मू के बीच रेलवे मेन लाइन जाम कर दी है। वहीं पुलिसकर्मी के महिला किसान को थप्पड़ मारने का वीडियो भी काफी तेजी से वायरल हो रहा है। किसान पर पुलिसकर्मी के हमले की इस घटना के बाद आम आदमी पार्टी सरकार भी सवालों के घेरे में है। पंजाब कांग्रेस कमिटी के अध्यक्ष अमरिंदर सिंह राजा वडिंग ने भगवंत मान की सरकार पर तीखा हमला किया है।

छापेमारी करने पहुंची थी पंजाब पुलिस
बीते बुधवार को किसान दिल्ली-कटरा नेशनल हाईवे पर जमीन अधिग्रहण को लेकर विरोध प्रदर्शन कर रहे थे। इसकी सूचना पर पुलिस गुरदासपुर जिले के श्री हरगोबिंदपुर प्रखंड के भमरी गांव में छापेमारी करने पहुंची थी, जहां पंजाब पुलिस के जवान ने महिला को थप्पड़ मार दिया। सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल होने के बाद पंजाब पुलिस की जमकर किरकिरी हो रही है

यह है आम आदमी पार्टी का बदलाव: कांग्रेस
पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष अमरिंदर सिंह राजा वडिंग ने पुलिसकर्मी के थप्पड़ मारने का वीडियो ट्वीट किया है। आम आदमी पार्टी सरकार पर सवाल उठाते हुए राजा वडिंग ने कहा, ‘यह आम आदमी पार्टी का जनविरोधी बदलाव है। पंजाब कांग्रेस किसानों के साथ मजबूती से खड़ी है और किसानों को उनकी जमीन से पुलिस फोर्स के जरिए हटाने के कदम की कड़े शब्दों में निंदा करती है। महिलाओं और बुजुर्गों के साथ जिस तरह बदसलूकी की गई है, उसके जिम्मेदार पंजाब पुलिस के अधिकारियों पर कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए।’

जमीन अधिग्रहण का विरोध कर रहे हैं किसान
दिल्ली-कटरा नेशनल हाईवे पर किसानों की जमीन का अधिग्रहण किया जा रहा है। बीते दिनों से ही किसान इसके खिलाफ लगातार प्रदर्शन कर रहे हैं। हद तो तब हो गई जब विरोध के दौरान पंजाब पुलिस का अमानवीय चेहरा सामने आ गया, जिसकी कोई उम्मीद भी नहीं कर सकता है। महिला सुरक्षा को लेकर सरकार की पुलिस दावा करती है, लेकिन यहां तो पुलिसकर्मी ने महिला पर ही हाथ छोड़ दिया। इस घटना के बाद गुस्साए किसानों का कहना है कि पुलिसकर्मी पर कड़ा एक्शन होना चाहिए, नहीं तो वे अपना विरोध प्रदर्शन जारी रखेंगे।

क्यों मचा है बवाल?
भारत माला प्रोजेक्ट के लिए जमीन अधिग्रहण हो रहा है। इसके तहत दिल्ली-कटरा नेशनल हाइवे पर किसानों की जमीन का अधिग्रहण किया जा रहा है। बीते अप्रैल महीने में भी किसानों ने इस मुद्दे पर विरोध प्रदर्शन किया था। किसानों ने रेल रोको आंदोलन के तहत पटरियों पर अपने ट्रैक्टर तक खड़े कर दिए थे। मामला बढ़ता देखकर प्रशासन ने किसानों को आश्वासन दिया था। इसके बाद किसानों ने विरोध बंद किया था। महिला किसान को थप्पड़ मारने के बाद किसान जालंधर में रेलवे ट्रैक पर जुट गए। किसानों ने लुधियाना से जालंधर और अमृतसर से जालंधर-जम्मू के बीच रेलवे लाइन पर ट्रेनें रोक दीं।

About bheldn

Check Also

विजयन के टारगेट करने पर कांग्रेस ने साफ किया CAA पर स्टैंड, चिदंबरम ने बताया सरकार बनने पर क्या करेंगे

तिरुवनंतपुरम कांग्रेस की अगुवाई वाली I.N.D.I.A अलायंस अगर सत्ता में आया तो पार्टी सीएए को …