कानून मंत्रालय छिनने के बाद CJI चंद्रचूड़ को क्या बोले किरेन रिजिजू, ट्वीट में कह दी दिल की बात

नई दिल्ली

किरेन रिजिजू केंद्रीय कानून मंत्रालय के पद से हटा दिए गए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनसे कानून मंत्रालय छीनकर पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय भेज दिया है। पुरानी जिम्मेदारी छिनकर नया मंत्रालय दिए जाने के बाद किरेन रिजिजू ने ट्वीट कर अपनी भावनाएं व्यक्त कीं। उन्होंने अपने ट्वीट में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आभार जताया तो सर्वोच्च न्यायालय के प्रधान न्यायाधीश डीवाई चंद्रचूड़ से लेकर कानून के क्षेत्र से जुड़े तमाम लोगों का शुक्रिया कहा। रिजिजू ने कहा कि अब वो पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय में भी पूरे जोशो खरोश से काम करेंगे।

रिजिजू ने पीएम मोदी का कहा शुक्रिया
रिजिजू ने अपने ट्वीट में सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश डी.वाई. चंद्रचूड़ और अन्य सभी न्यायाधीशों के साथ-साथ हाई कोर्टों के मुख्य न्यायाधीशों और न्यायाधीशों, निचली न्यायपालिका और सभी लॉ ऑफिसर्स को धन्यवाद दिया है। मंत्रालय बदले जाने के बाद केंद्रीय मंत्री किरेन रिजिजू ने ट्वीट कर कहा, ‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन में केंद्रीय कानून और न्याय मंत्री के रूप में सेवा करना उनके लिए सौभाग्य और सम्मान की बात रही।’

सीजेआई चंद्रचूड़ के लिए क्या कहा रिजिजू ने, देखिए
उन्होंने जजों को धन्यवाद कहते हुए आगे कहा, ‘मैं भारत के मुख्य न्यायाधीश डी वाई चंद्रचूड़, सर्वोच्च न्यायालय के सभी न्यायाधीशों, उच्च न्यायालयों के मुख्य न्यायाधीशों और न्यायाधीशों, निचली न्यायपालिका और सभी लॉ ऑफिसर्स को न्याय को सुनिश्चित करने और हमारे नागरिकों के लिए कानूनी सेवाएं प्रदान करने में भारी समर्थन के लिए धन्यवाद देता हूं।’ रिजिजू ने अपने पुराने जोश के साथ ही नए मंत्रालय में भी काम करने की बात कहते हुए आगे कहा कि वो पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विजन को उसी जोश के साथ पूरा करने के लिए तत्पर हैं, जिसे उन्होंने भाजपा के एक विनम्र कार्यकर्ता के रूप में आत्मसात किया है।

राज्य मंत्री बघेल का भी विभाग बदला
ध्यान रहे कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को अपने मंत्रिमंडल में बड़ा बदलाव करते हुए किरेन रिजिजू को कानून मंत्री के पद से हटा दिया है। उनकी जगह पर अर्जुन राम मेघवाल को कानून मंत्रालय की जिम्मेदारी सौंपी गई है। वहीं, कानून मंत्रालय में राज्य मंत्री रहे एसपी सिंह बघेल का भी मंत्रालय बदल दिया गया। वो अब स्वास्थ्य राज्यमंत्री होंगे। स्वास्थ्य मंत्री के रूप में मनसुख मांडविया उनके सीनियर होंगे।

जूडिशरी से टकराव के कारण हुआ बदलाव?
बताया जा रहा है कि न्यायपालिका से लगातार टकराव की मुद्रा में रहने के कारण किरेन रिजिजू से कानून मंत्रालय छीना गया है। चुनावी वर्ष में सरकार न्यायपालिका से टकराव नहीं चाहती। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सलाह पर राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने मोदी कैबिनेट में इस बदलाव को मंजूरी दे दी है। रिजिजू की जगह अर्जुन राम मेघवाल कानून एवं न्याय मंत्रालय की जिम्मेदारी संभालेंगे। उन्हें उनके मौजूदा मंत्रालय के साथ-साथ कानून और न्याय मंत्रालय में राज्य मंत्री के तौर पर स्वतंत्र प्रभार सौंपा गया है।

सरकार और न्यायपालिका में खींचतान
सरकार और न्यायपालिका के बीच न्यायाधीशों की नियुक्ति के संबंध में कई मतभेद थे। पिछले साल एक मीडिया कार्यक्रम में उन्होंने कहा था कि न्यायाधीश केवल उन लोगों की नियुक्ति या पदोन्नति की सिफारिश करते हैं, जिन्हें वे जानते हैं, वो हमेशा सबसे योग्य व्यक्ति की नियुक्ति नहीं करते। साथ ही, पिछले साल नवंबर में रिजिजू ने सुप्रीम कोर्ट और हाई कोर्ट के न्यायाधीशों की नियुक्ति के तंत्र पर हमला करते हुए कहा कि कॉलेजियम प्रणाली संविधान के लिए विदेशी है। फरवरी में सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम की तरफ से अनुशंसित हाई कोर्ट जजों के ट्रांसफर को मंजूरी देने में देरी हुई तो सर्वोच्च अदालत ने केंद्र सरकार को चेतावनी दे दी थी। सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि अगर मंजूरी नहीं दी गई तो प्रशासनिक और न्यायिक कार्रवाइयां हो सकती हैं जो अच्छा नहीं होगा।

About bheldn

Check Also

‘राज्य सरकार ED के समन से परेशान क्यों…’, सुप्रीम कोर्ट ने तमिलनाडु सरकार से पूछे तीखे सवाल

नई दिल्ली, ED बनाम तमिलनाडु सरकार मामले में कथित अवैध रेत-खनन घोटाले में सुप्रीम कोर्ट …