दाढ़ी नहीं बनाने की सौगंध नहीं तोड़ेंगे शिवकुमार, बोले- अभी वक्त नहीं आया

बेंगलुरु,

कर्नाटक कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष डीके शिवकुमार शनिवार को डिप्टी सीएम पद की शपथ लेंगे. शिवकुमार को सितंबर 2019 में ED ने गिरफ्तार किया था. 104 दिन जेल में रहने के बाद उन्हें जमानत मिली थी. शिवकुमार ने जेल में रहकर कसम खाई थी कि जब तक वे कर्नाटक की सत्ता में नहीं आ जाएंगे, तब तक दाढ़ी नहीं बनवाएंगे. कर्नाटक चुनाव के दौरान उन्होंने आजतक से बातचीत में इसका खुलासा भी किया था. लेकिन अब कर्नाटक में कांग्रेस के सत्ता में आ जाने के बाद उनसे एक इंटरव्यू में पूछा गया कि क्या वे अब अपनी दाढ़ी बनवाएंगे, तो उन्होंने कहा- अभी सही वक्त नहीं आया है.

दरअसल, कर्नाटक में कांग्रेस ने विधानसभा चुनाव से पहले मुख्यमंत्री चेहरे को घोषित नहीं किया था. चुनाव के दौरान से ही सिद्धारमैया और डीके शिवकुमार अपनी अपनी दावेदारी कर रहे थे. नतीजों के बाद 5 दिन तक बेंगलुरु से दिल्ली तक चले मंथन के बाद सिद्धारमैया को सीएम बनाने का फैसला किया गया. वहीं, डीके शिवकुमार को डिप्टी सीएम पद से संतोष करना पड़ा.

सोनिया की इच्छाओं का पालन करेंगे- डीके शिवकुमार
माना जा रहा है कि वे इससे खुश नहीं हैं. एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा कि वे सोनिया गांधी को अपनी मां के समान मानते हैं और हमेशा उनकी इच्छाओं का पालन करेंगे. इतना ही नहीं जब उनसे पूछा गया कि कर्नाटक में कांग्रेस सत्ता में आ गई है तो क्या वे अपनी दाढ़ी बनाएंगे…इस पर उन्होंने कहा कि अभी सही वक्त नहीं आया है.

धैर्य से काम ले रहा- शिवकुमार
टाइम्स ऑफ इंडिया को दिये इंटरव्यू में उनसे पूछा गया कि ईडी के एक मामले में जब आप जेल गए थे, तब आपने कसम खाई थी, जब तक आप सत्ता में नहीं आएंगे, तब तक आप अपनी दाढ़ी नहीं कटवाएंगे. क्या अब आप इसे शेव करेंगे?इस पर शिवकुमार ने कहा, नहीं, वह समय अभी नहीं आया है. जैसा कि मैंने कई बार कहा है, धैर्य ही मेरी ताकत है. मैं अब भी धैर्य से काम ले रहा हूं.

मैं सवाल का उत्तर नहीं दे सकता- डीके
जब शिवकुमार से पूछा गया कि क्या आप दाढ़ी कटवाने के लिए सीएम बनने तक का इंतजार करेंगे?इस पर शिवकुमार ने कहा, मैं इस सवाल का जवाब नहीं दे रहा हूं. अभी मेरा ध्यान सरकार के गठन और उसकी स्थिरता सुनिश्चित करने पर है ताकि हमारी ‘गारंटी योजनाओं’ को पूरा किया जा सके, जिसका हमने वादा किया था. वहीं, जब उनसे पूछा गया कि उन्होंने कहा था, किसी भी पावर शेयरिंग के फॉर्मूले से सहमत नहीं हैं, तो क्या उन्होंने समझौता किया?

इस पर शिवकुमार ने कहा, यह न तो समझौते के बारे में है और न ही पावर शेयरिंग करने के बारे में. यह सरकार बनाने और जनता से किए गए वादों को पूरा करने के लिए एकजुट होने के बारे में है. जैसा कि मैंने कई बार कहा है, मैं व्यक्तित्व की नहीं बल्कि पार्टी की पूजा करने में विश्वास करता हूं. मैं हमेशा आलाकमान और सोनिया गांधी, जिन्हें मैं अपनी मां कहता हूं, उनकी आज्ञा का पालन करता हूं और मैंने अब वही किया.

क्या सिद्धारमैया के बाद सीएम बनेंगे शिवकुमार?
इससे पहले इंडिया टुडे से बातचीत के दौरान जब उनसे पूछा गया कि क्या 2-3 साल के फॉर्मूले के तहत सिद्धारमैया के 2 साल के कार्यकाल के बाद वे मुख्यमंत्री बनेंगे. इस पर डीके शिवकुमार ने कहा था, हमारे बीच में जो गोपनीय बातचीत हुई, उसका मैं खुलासा नहीं करना चाहता. उन्होंने कहा, इसे कांग्रेस अध्यक्ष के लिए छोड़ देना चाहिए. जब समय आएगा, कांग्रेस अध्यक्ष इस पर जवाब देंगे. इस पर जब उनसे पूछा गया कि क्या कुछ समय बाद नेतृत्व को लेकर दोबारा चर्चा होगी? इस पर शिवकुमार ने एक बार फिर कहा, मैं इस पर कोई खुलासा नहीं करना चाहता. अभी शासन चलाना ज्यादा जरूरी है.

About bheldn

Check Also

जाति जनगणना को कोई ताकत नहीं रोक सकती… इशारों-इशारों में राहुल का पीएम मोदी पर निशाना

नई दिल्ली कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने बुधवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और …