रुपया चलता है तो घिसता है… जब अटल ने भ्रष्टाचार पर सुनाया था राजीव का किस्सा

नई दिल्ली

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के कई भाषण आज भी याद किए जाते हैं। उन्हें तर्कशक्ति और अच्छे वक्ता के रूप में जाना जाता था। वाजपेयी ऐसे नेता थे जिनकी क्षमताओं को देखते हुए कांग्रेस की सरकार में भी विदेश में भारत का पक्ष रखने भेजा गया था। भ्रष्टाचार को लेकर संसद में एक बार वाजपेयी ने ऐतिहासिक भाषण दिया था। उन्होंने कहा था कि भ्रष्टाचार एक राजनीतिक रोग बन गया है। इस दौरान उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के एक कथन को दोहराया। उन्होंने कहा कि एक बार राजीव गांधी ने कहा था कि मैं दिल्ली से 1 रुपया भेजता हूं, लेकिन जनता तक पहुंचते-पहुंचते केवल 19 पैसे बचता है।

जब संसद में सुनाया भ्रष्टाचार का किस्सा
भ्रष्टाचार को लेकर संसद में वाजपेयी ने कहा, ‘क्या ये सच नहीं है कि भ्रष्टाचार एक राष्ट्रीय रोग बन चुका है। मुझे याद है स्वर्गीय राजीव गांधी ने एक भाषण में कहा था कि मैं दिल्ली से एक रुपया भेजता हूं। लेकिन जहां रुपया भेजता हूं वहां पहुंचते-पहुंचते 19 पैसा रह जाता है। मैंने उनसे कहा कि ये चमत्कार कैसे होता है, तो वो हंस कर कहने लगे कि जब रुपया चलता है तो वो घिसता है… रुपया घिसता है, हाथ में लगता है, जेब में जाता है, छोटा हो रहा है।’ इस बयान के बाद पूरे सदन में जमकर ठहाके लगे थे।

काला धन को लेकर भी उठाया मुद्दा
प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी संसद में 50 साल के विकास पर भाषण दे रहे थे। उन्होंने विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा था कि हम आजादी के पचास साल की जयंती मना रहे हैं, लेकिन हम अभी क्यों पिछड़े हैं। वाजपेयी ने कहा था कि हमारे बीच भेद हो सकते हैं लेकिन देश के विकास के लिए क्या हम मिलजुल कर काम नहीं कर सकते हैं। इस दौरान उन्होंने काला धन का मुद्दा भी उठाया था। उन्होंने कहा था कि आम आदमी के टैक्स का पैसा कहां जाता है, किसकी तिजोरियां भरी जा रही हैं। विदेशी बैंकों में धन कैसे पहुंच रहा है।

वाजपेयी के कई ऐतिहासिक भाषणों की होती है चर्चा
बता दें कि अटल बिहारी वाजपेयी की कई कविताएं और भाषण आज भी चर्चा में रहती हैं। उनके भाषणों को आज के मुद्दों से भी जोड़कर देखा जाता है। वो ऐसे नेता थे, जिनका पक्ष और विपक्ष के नेता सम्मान किया करते थे। वो ऐसी राजनीतिक परंपरा को मानते थे, जिसमें राजनीतिक विरोधियों के लिए सम्मान और मानवीय मर्यादा का खास स्थान रहा करता था। अटल बिहारी वाजपेयी भारत के तीन बार के प्रधानमंत्री थे। वे पहले 16 मई से 1 जून 1996 तक, फिर 1998 में और फिर19 मार्च 1999 से 22 मई 2004 तक भारत के प्रधानमंत्री रहे। 16 अगस्त 2018 को उनका निधन हो गया।

About bheldn

Check Also

मोदी के मंगलसूत्र वाले बयान पर चुनाव आयोग पहुंची कांग्रेस, कहा- पीएम के खिलाफ ऐक्शन लिया जाए

नई दिल्ली: कांग्रेस ने सोमवार को निर्वाचन आयोग से आग्रह किया कि वह प्रधानमंत्री नरेन्द्र …