G-20 बैठक में नहीं आया सऊदी अरब, पहले भी दिया था बड़ा झटका

नई दिल्ली,

सोमवार से जम्मू कश्मीर में शुरू हुई तीन दिवसीय टूरिज्म वर्किंग ग्रुप की बैठक में सऊदी अरब ने आने से इनकार कर दिया है. जी-20 के इस अहम बैठक से पहले ही पाकिस्तान ने कई मुस्लिम देशों से इस समिट में भाग नहीं लेने की अपील की थी. सऊदी अरब के अलावा, चीन और तुर्की ने भी इस समिट में हिस्सा नहीं लिया है. सऊदी अरब ने बैठक में शामिल ना होने की वजह नहीं बताई है लेकिन इसे कश्मीर मुद्दे से जोड़कर देखा जा रहा है. पाकिस्तान भी इसे अपनी कूटनीतिक जीत बताने में जुट गया है.

हालांकि, यह पहली बार नहीं है जब जी-20 के सदस्य देश सऊदी अरब ने भारत को झटका दिया है. इससे पहले सऊदी अरब ने जब 2020 में जी-20 समिट की अध्यक्षता की थी तो जी-20 समिट के लिए जारी की गई विशेष मुद्रा पर छपे मैप में जम्मू कश्मीर को भारत से अलग बताया था. सऊदी अरब के इस कदम पर भारत सरकार ने कड़ी प्रतिक्रिया दी थी. जिसके बाद सऊदी अरब ने इस करेंसी को वापस ले लिया था.

जम्मू कश्मीर में आयोजित बैठक में आने से इनकार
जम्मू कश्मीर के टूरिज्म सेक्टर को बढ़ावा देने और चीन और पाकिस्तान को कड़ा संदेश देते हुए भारत G-20 और Y-20 की बैठक लेह और श्रीनगर में कर रहा है. पिछले महीने अप्रैल में भारत ने जब इस बैठक को लेकर घोषणा की थी तो पाकिस्तान ने आरोप लगाया था कि भारत श्रीनगर और लेह में बैठक आयोजित कर अपने एजेंडे को बढ़ावा दे रहा है. इसके अलावा पाकिस्तान ने दुनिया के कई मुल्कों से इस समिट में भाग नहीं लेने का अनुरोध किया था.

इसके बाद से ही यह कयास लगाए जा रहे थे कि पाकिस्तान के दो करीबी दोस्त सऊदी अरब और तुर्की इस समिट में आने से इनकार कर सकते हैं. और वही हुआ भी. तुर्की और सऊदी अरब की ओर से किसी भी प्रतिनिधि को इस समिट में भाग लेने के लिए कश्मीर नहीं भेजा गया है. हालांकि, पिछले कुछ सालों में सऊदी अरब और भारत के संबंध मजबूत हुए हैं, ऐसे में उसका शामिल नहीं होना भारत के लिए झटके के तौर पर देखा जा रहा है.

अपनी अध्यक्षता में कश्मीर को बताया था भारत से अलग
साल 2020 में जी-20 की अध्यक्षता सऊदी अरब ने की थी. जी-20 को लेकर सऊदी अरब की ओर से जारी 20 रियाल की मुद्रा में जम्मू कश्मीर को भारत से अलग क्षेत्र के रूप में दिखाया गया था. इस स्पेशल बैंकनोट में एक तरफ सऊदी किंग सलमान का फोटो और सऊदी G-20 का लोगो था. जबकि दूसरी तरफ वर्ल्ड मैप था. जिसमें जम्मू-कश्मीर और लद्दाख को भारत से अलग दिखाया गया था. वहीं, अक्साई चिन को चीन के हिस्से के रूप में दिखाया गया था. सऊदी के इस बैंक नोट पर भारत सरकार ने कड़ी प्रतिक्रिया दी थी.

भारतीय विदेश मंत्रालय के तत्कालीन प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने कहा था, “हमने सऊदी अरब की ओर से जारी बैंक नोट को देखा है. इसमें भारतीय बॉर्डर को गलत तरीके से दर्शाया गया है. मैं यहां स्पष्ट कर देना चाहता हूं कि केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर और लद्दाख भारत के अभिन्न और अटूट अंग हैं. हमने भारत में सऊदी के राजदूत को इससे अवगत करा दिया है. हमने सऊदी अरब से इसमें तत्काल सुधार करने के लिए कहा है.”

 

About bheldn

Check Also

इलाज के खर्च बढ़ने के कारण लोग पौष्टिक भोजन से हो रहे हैं दूर, AIIMS की नई स्टडी में चौंकाने वाला खुलासा

नई दिल्ली: एम्स के गैस्ट्रोएंट्रोलॉजी और मानव पोषण विभाग ने एक स्टडी की है। इस …