50 मिनट तक यात्री विमान का पीछा करता दिखा UFO, हुआ आमना-सामना, शॉकिंग खुलासे के कई सबूत

नई दिल्ली,

दुनिया भर में रोजाना बड़ी संख्या में विमान उड़ान भरते हैं. इस दौरान कभी मौसम खराब होने तो कभी विमान में किसी तकनीकी दिक्कत के चलते लोगों को हादसे होने का डर सताता है. लेकिन एक विमान के साथ जो कुछ हुआ, उस बारे में शायद ही किसी ने कभी सोचा हो. एक टीवी शो में दावा किया गया है कि ये घटना जापान एयरलाइंस के एक विमान के साथ हुई है. एक UFO करीब 50 मिनट तक इस विमान का पीछा करता रहा.

डेली स्टार की रिपोर्ट के अनुसार, घटना तब हुई, जब विमान अमेरिका के आसमान में उड़ान भर रहा था. मगर अमेरिकी सरकार ने इस पूरी घटना पर पर्दा डाल दिया. इस पर्दे को हटाने का काम एक टीवी शो ने किया है. उसी पर इसका खुलासा भी हुआ.

जापान एयरलाइंस का विमान बोइंग 747 का पीछा एक रहस्यमयी डिस्क के आकार की चीज ने 350 मील तक किया. जो उससे आकार में भी कई गुना बड़ी थी. जिसके चलते विमान को फ्रांस के पेरिस से एन रूट कर अलास्का के एंकोरेज में लैंड किया गया.

कैप्टन केंजु तेरौची को UFO से पीछा छुड़ाने के लिए विमान को 360 डिग्री पर टर्न करना पड़ा. वह पूर्व फाइटर पायलट रह चुके हैं और उन्हें 10,000 घंटों का विमान उड़ाने का अनुभव है. जो चीज पीछा कर रही थी, उसमें जगमगाती रोशनी थी. जब तक विमान लैंड नहीं हो गया, UFO की गति तेज रही, वो पीछा करना जारी रखे हुए था और ऐसे मूव्स कर रहा था, जो ग्रैविटी को चुनौती दे दें.

पायलट को ग्राउंड जॉब दी गई
UFO देखने का दावा करने वाले इस पायलट को बाद में ग्राउंड पर डेस्क जॉब दे दी गई. उस वक्त संघीय उड्डयन प्राधिकरण की दुर्घटना और जांच ब्रांच के प्रमुख रहे जॉन कोलाहन ने जांच की और पाया की रहस्यमयी चीज को रडार ने कैच कर लिया है. जॉन ने UFO पर बनी नेशनल जियोग्राफिक की डॉक्यूमेंट्री ‘Investigating The Unknown’ में मंगलवार (23 मई) को बताया कि उन्हें तब वाशिंगटन में CIA और व्हाइट हाउस के अधिकारियों के साथ बैठक करने के लिए समन भेजा गया और कहा गया कि कभी भी 1986 के इस एनकाउंटर के बारे में कुछ मत बोलना.

जॉन ने कहा कि उन्होंने अधिकारियों को रडार फुटेज दिखाई, कैप्टन तेरौची और दो को-पायलट चश्मदीद गवाह थे और वो रिकॉर्डिंग भी थी, जिसमें एयर ट्रैफिर कंट्रोल और सरकारी अधिकारियों के बीच की बातचीत दर्ज थी. उन्होंने आगे बताया, ‘मेरे सामने एक शख्स था, उसने सब सुनने के बाद कहा ‘ठीक है.’ उस शख्स ने मुझसे कहा कि हम यहां कभी नहीं थे, सारा डाटा जब्त कर रहे हैं और तुम्हें इस बात को गोपनीय रखने की शपथ लेनी है. फिर मैंने कहा कि तो आप क्या सोचते हैं कि ये क्या है? तो उसने कहा कि खैर ये UFO है.’ आपको बता दें, इस घटना की पुष्टि नहीं हो सकी है.

विमान वाली इस घटना के दो महीने बाद ही अलास्का एयरलाइंस के विमान को भी ऐसी ही घटना का सामना करना पड़ा था. जो उनके रडार में 18,000 मील प्रति घंटे की रफ्तार से उड़ रहा था. ये विमान भी एंकोरेज जा रहा था. लगभग उसी समय एक अमेरिकी वायु सेना के KC-135 जेट के पास उड़ान भरने वाले पायलट ने डिस्क के आकार की एक बड़ी चीज को केवल 40 फीट के भीतर दिखने की सूचना दी थी, जो बाद में गायब हो गई.

हजारों लोगों ने किए दावे
डॉक्यूमेंट्री में बताया गया कि 2006 तक 15000 से अधिक लोगों ने शिकागो एयरपोर्ट पर ऐसी रहस्यमयी चीज देखने की बात कही है, जिनमें पायलट और ग्राउंड क्रू शामिल हैं. लेखिका और जांचकर्ता लेस्ली कीन ने कहा कि अधिकारियों ने इस घटना को पहले ‘एयरपोर्ट की रोशनी का बादलों में चमकना’ और फिर बर्फ गिरने के कारण होने वाली मौसम की गतिविधि के तौर पर खारिज कर दिया. लेकिन कुछ घटनाएं दिन के वक्त भी हुई हैं. उन्होंने कहा कि एविएशन वर्ल्ड ने UFO दिखने की अनगिनत घटनाओं को अनदेखा किया है, जो सुरक्षा के लिए बड़ा खतरा हैं.

 

About bheldn

Check Also

गुजरात : BJP के खिलाफ क्षत्रिय समाज का आंदोलन तेज, शुरू किया ‘धर्म रथ’

गांधीनगर, राजकोट सीट से भाजपा के उम्मीदवार परसोत्तम रूपाला के बयान के बाद क्षत्रिय समाज …