अमेरिका-यूरोप छोड़िए, अब भारत ही है दुनिया का बॉस, विश्वास ना हो तो देख लो यह रैंकिंग

नई दिल्ली

सबसे शक्तिशाली या ताकतवर होनी क्या पहचान है? जो सारे जहां की विपदाओं के बीच भी अडिग खड़ा रहे। चुनौतियां उससे टकराकर चूर-चूर हो जाएं। वही तो है ‘द बॉस’। अमेरिका को दुनिया सदियों से महाशक्ति मानती आई है, लेकिन यह तो डिफॉल्ट होने के करीब है। अगर 31 मई तक अमेरिका में कर्ज की सीमा नहीं बढ़ाई गई, तो 1 जून को यह देश दिवालिया हो जाएगा। यूरोप की हालत पिछले कुछ वर्षों से क्या है, हम सब जानते हैं। यहां की सबसे बड़ी इकॉनमी पर मंदी छा गई है। दिसंबर तिमाही और मार्च तिमाही में जर्मन जीडीपी में निगेटिव ग्रोथ दर्ज हुई थी। इससे जर्मन इकॉनमी मंदी में चली गई है। दुनिया की तमाम बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में इस साल मंदी आने की आशंका है। चाहे वह, यूके हो, यूएस हो, जापान हो, फ्रांस हो या रूस। वहीं, एक तरफ भारत है, जो लगातार दुनिया में सबसे तेज रफ्तार से ग्रोथ कर रहा है। यहां मंदी आने की आशंका 0% है। इसलिए ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री का पीएम मोदी को ‘द बॉस’ कहना सिर्फ यूं ही नहीं था।

दुनिया के बड़े-बड़े देश मंदी की कगार पर
साल 2023 में दुनिया के बड़े-बड़े विकसित देशों में भी मंदी की आशंका है। World of Statistics ने ट्विटर पर एक लिस्ट शेयर की है। इसमें साल 2023 में मंदी की संभावना के प्रतिशत के आधार पर देशों की रैंकिंग की गई है। इस लिस्ट में तमाम बड़े-बड़े देशों के नाम हैं, जहां इस साल मंदी की काफी आशंका है। सबसे ज्यादा मंदी की आशंका यूके में 75% है। वहीं, भारत में मंदी की आशंका 0% है। इस तरह भारत इस लिस्ट में तमाम बड़े देशों से आगे है। चाहे वह अमेरिका हो, जापान हो या फ्रांस।

यूके में मंदी की आशंका 75%
दुनिया में मंदी की सबसे ज्यादा आशंका यूके में 75 फीसदी है। न्यूजीलैंड दूसरे नंबर पर है। वहां इस साल मंदी आने की 70% आशंका है। अमेरिका 65% आशंका के साथ तीसरे नंबर पर है। यूरोप की सबसे बड़ी इकॉनमी जर्मनी, इटली और कनाडा में मंदी आने की आशंका 60% है। इसी तरह फ्रांस में यह 50%, साउथ अफ्रीका में 45%, ऑस्ट्रेलिया में 40%, रूस में 37.5%, जापान में 35%, साउथ कोरिया में 30% और मेक्सिको में 27.5% आशंका है। स्पेन में मंदी आने की आशंका 25%, स्विट्जरलैंड में 20% और ब्राजील में 15% है। दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी इकॉनमी चीन में इस साल मंदी आने की आशंका 12.5%, सऊदी अरब में 5% और इंडोनेशिया में 2% है।

इतिहास में पहली बार दिवालिया हो जाएगा अमेरिका
अमेरिका में पिछले 3 महीने में तीन बड़े बैंक डूब गए हैं। बैंकिंग संकट ही नहीं नकदी संकट का भी खतरा है। अमेरिका के वित्त मंत्री ने चेतावनी दी है कि अगर एक जून तक डेट सीलिंग यानी कर्ज की सीमा नहीं बढ़ाई गई तो अमेरिका डिफॉल्ट कर जाएगा। इससे अमेरिका में मंदी की आशंका और बढ़ गई है।

भारत कर रहा सबसे तेज ग्रोथ
World of Statistics के मुताबिक भारत में मंदी की आशंका 0% है। भारत दुनिया के बड़े देशों में एकमात्र ऐसा देश है, जहां मंदी की आशंका जीरो फीसदी है। IMF के अनुसार इस साल भी भारत की अर्थव्यवस्था दुनिया में सबसे तेजी से ग्रोथ करने वाली अर्थव्यवस्था होगी। RBI गवर्नर शक्तिकांत दास ने भी कहा कि सभी बड़े आर्थिक संकेत बता रहे हैं कि वित्त वर्ष 2022-23 में देश की जीडीपी ग्रोथ रेट 7 फीसदी से ज्यादा रहेगी।

About bheldn

Check Also

गर्मी को लेकर क्यों बढ़ रही टेंशन? लोकसभा चुनाव में लू वाला कनेक्शन समझ लीजिए

नई दिल्ली 2024 लोकसभा चुनाव में एक फेज की वोटिंग 19 अप्रैल को संपन्न हो …