‘पता नहीं कल जिंदा होंगे या नहीं… महापंचायत जरूर होगी,’ रोते-रोते बोलीं विनेश फोगाट

नई दिल्ली,

दिल्ली में कुश्ती महासंघ के प्रमुख बृजभूषण शरण सिंह के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे पहलवान रविवार को महिला महापंचायत करेंगे. पहलवानों ने शनिवार को साफ किया है कि वे 28 मई को नई संसद के सामने शांतिपूर्ण महिला महापंचायत आयोजित करेंगे. आंदोलन की अगुआई करने वालीं महिला पहलवान विनेश फोगाट ने कहा, सरकार समझौते का दवाब बना रही है. इस दौरान विनेश को भावुक भी देखा गया.

विनेश ने कहा, हमें नहीं पता कल कैसा होगा. जिंदा होंगे या नहीं. एक महीने से न्याय के लिए बैठे हैं. समर्थन के लिए आने वाले लोगों को डिटेन किया जा रहा है. मानो बृज भूषण देवता हो. उन्होंने कहा, हम कुछ चीजें क्लियर करना चाहते हैं. यहां बहुत मुश्किल से बैठे हैं. सरकार हम पर समझौते का दबाव बना रही है. लेकिन हम महिला पहलवान समझौते के लिए तैयार नहीं हैं. जो कंडीशन दी जा रही है, वह बदमाशों को गिरफ्तार करने की नहीं है.

‘पंजाब से आ रहीं महिलाओं को पुलिस ने रोक दिया’
उन्होंने कहा, कल होने वाली महिला सम्मान पंचायत होकर रहेगी. सरकार ने पंजाब से आ रही महिलाओं को भारी पुलिस बल तैनात करके रोक लिया है. अंबाला के गुरुद्वारा साहिब में रुकने का प्रबंध किया गया था, जिसे पुलिस थाने में तब्दील कर दिया गया है. धरने से जुड़े कई कार्यकर्ताओं के घर में छापेमारी हो रही है. अब भी छापेमारी चल रही है. पुलिस ने कल पूरी नई दिल्ली को बंद कर दिया है.

‘हमें बिना हिंसा के आगे बढ़ना है’
उन्होंने कहा, सभी से निवेदन है कि वह महिला सम्मान महापंचायत में जरूर पहुंचें. पुलिस हमारे ऊपर किसी भी तरह का बल प्रयोग करे- हम सब सहेंगे. बिना किसी हिंसा के हमें आगे बढ़ना है. यह देश की बेटियों का सवाल है. (विनेश फोगाट यहां भावुक हो गईं और रोने लगीं). बहुत छोटे बच्चे हैं. यह सब हमने पहले देखा नहीं है. हमें नहीं पता कि हमारा आने वाला कल कैसा होगा. हम जिंदा रहेंगे या मर जाएंगे.

‘जैसे हम अपराधी हों और बृजभूषण देवता?’
विनेश ने कहा, रेसलिंग करने वाले पिछले एक महीने से न्याय के लिए बैठे हुए हैं. न्याय दिलाने की बजाय और भी बहुत कुछ हो रहा है. समर्थन करने आ रहीं लड़कियों पर अत्याचार किया जा रहा है. जैसे हम लोग अपराधी हैं और बृजभूषण देवता है. पूरे देश का हम धन्यवाद करना चाहते है. जब तक जिंदा हैं. खड़े रहेंगे, झुकेंगे नहीं.

‘कौन दबाव बना रहा है? पहलवानों ने नहीं दिया जवाब’
पहलवानों से जब पूछा गया कि सरकार से कौन दवाब बना रहा है और किन-किन बातों पर समझौता करने कहा जा रहा है? इस सवाल का उन्होंने जवाब नहीं दिया. बता दें कि पिछले एक महीने से ज्यादा समय से दिल्ली में धरने पर बैठे पहलवानों ने ऐलान किया है कि वे रविवार सुबह साढ़े 11 बजे तक संसद के सामने महिला महापंचायत करेंगे.

सिंघु, गाजीपुर और टिकरी बॉर्डर से आएंगे समर्थक’
पहलवानों के समर्थन में हरियाणा से लोग सिंघु बॉर्डर के रास्ते आएंगे. अन्य समर्थकों के गाजीपुर बॉर्डर और टिकरी बॉर्डर के रास्ते आने की उम्मीद है. दिल्ली में पहलवानों के समर्थकों की ये भीड़ सुबह 7 बजे तक आने की संभावना है. ऐसे में पुलिसबल भी चौकन्ना हो गया है. सुबह साढ़े 10 बजे तक समर्थकों के जंतर-मंतर पहुंचने की उम्मीद है और 11:30 बजे तक वे संसद की ओर बढ़ जाएंगे.

 

About bheldn

Check Also

प्राइवेट प्रॉपर्टी पर हो सकता है किसी समुदाय या संगठन का हक, सुप्रीम कोर्ट के 9 जजों की बेंच ने क्या कहा?

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने आज कहा कि संविधान का उद्देश्य सामाजिक बदलाव की भावना …