सिद्धारमैया ने पलटा बोम्मई सरकार का पहला फैसला! नौकरी से हटाई गईं मारे गए BJP नेता प्रवीण नेत्तारू की पत्नी

बेंगलुरु

कर्नाटक में कांग्रेस सरकार ने दक्षिण कन्नड़ जिले में मारे गए भाजपा कार्यकर्ता प्रवीण कुमार नेत्तारू की पत्नी के सरकारी सेवाओं में अस्थायी नियुक्ति आदेश को वापस ले लिया है। मारे गए भाजपा युवा मोर्चा नेता की पत्नी नूतन कुमारी को पूर्व मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई के कार्यालय में अनुबंध के आधार पर ग्रुप सी पद की पेशकश की गई थी। कांग्रेस के इस फैसले को लेकर कर्नाटक में बहस छिड़ गई है।

बीजेपी युवा मोर्चा नेता प्रवीण की पत्नी नूतन कुमारी को पूर्व मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई के दफ्तेर में कॉन्ट्रैक्ट के आधार पर ग्रुप सी पद पर तैनाती दी गई थी। उन्होंने ड्यूटी पर रिपोर्ट की और मंगलुरु में काम करने की अपनी प्राथमिकता को पूर्व मुख्यमंत्री के सामने रखा। उनके अनुरोध के बाद उन्हें मंगलुरु में उपायुक्त कार्यालय के मुख्यमंत्री राहत कोष अनुभाग में सहायक का पद दिया गया था।

सरकार बदलते ही बदला फैसला
कर्नाटक विधानसभा चुनाव के बाद अब सिद्धारमैया और डीके शिवकुमार की सरकार ने यह फैसला वापस ले लिया है। सूत्रों ने कहा कि जब सरकारें बदलती हैं तो अस्थायी कर्मचारियों को आमतौर पर हटा दिया जाता है और नूतन कुमारी के लिए कोई विशेष विचार नहीं किया गया है।

प्रवीण नेत्तारू की हत्या क्यों हुई थी?
नेत्तारू की 26 जुलाई, 2022 को हत्या कर दी गई थी। मामले की जांच अब राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) कर रही है। प्रारंभिक जांच ने संकेत दिया था कि नेत्तारू की हत्या बदले की भावना से की गई। तीन हमलावरों समेत 10 से ज्यादा आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है।

बीजेपी नेता की पत्नी की नौकरी के लिए चला था अभियान
हिंदू कार्यकर्ताओं ने पूर्व बोम्मई सरकार से नूतन को सरकारी नौकरी देने का आग्रह करते हुए एक सोशल मीडिया अभियान चलाया। भाजपा ने नेत्तारू के परिवार के लिए एक घर भी बनवाया था। चुनाव से पहले इस मामले में खूब तूल पकड़ा था।

About bheldn

Check Also

विजयन के टारगेट करने पर कांग्रेस ने साफ किया CAA पर स्टैंड, चिदंबरम ने बताया सरकार बनने पर क्या करेंगे

तिरुवनंतपुरम कांग्रेस की अगुवाई वाली I.N.D.I.A अलायंस अगर सत्ता में आया तो पार्टी सीएए को …