जब लोग पूछेंगे हमने क्या बनाया… संसद भवन के उद्घाटन पर बोले मजदूर- गर्व से कहेंगे संसद भवन बनाया

नई दिल्ली

देश के नए संसद भवन का रविवार (28 मई, 2023) को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाथों उद्घाटन किया गया। नए संसद भवन के उद्घाटन समारोह की शुरुआत पूजा से हुई। प्रधानमंत्री के साथ पूजा में लोकसभा स्पीकर ओम बिरला भी मौजूद रहे। पीएम मोदी ने नए संसद भवन के उद्घाटन के बाद भवन के निर्माण में काम करने वाले श्रमिकों को सम्मानित किया।

नरेंद्र मोदी सरकार की सबसे बड़ी परियोजनाओं में से एक नए आधुनिक संसद भवन को साकार करने के लिए दो साल से अधिक समय से हजारों मजदूर लगातार काम कर रहे हैं। किसी भी राजनीतिक विद्वेष से दूर 60,000 मजदूर और पर्यवेक्षक ऑन-साइट और ऑफ-साइट इमारत को तैयार करने के लिए चुपचाप काम कर रहे हैं।

60,000 मजदूर लगे थे नयी संसद भवन के निर्माण में
शनिवार को उद्घाटन से एक दिन पहले पूरे परिसर को बंद कर दिया गया था। केवल विशेष रूप से जांच की गई कारों, वीआईपी, सुरक्षा कर्मियों, पुलिस और अन्य कर्मचारियों को बूम बैरियर के माध्यम से अंदर जाने की अनुमति दी गयी थी। आयरन गेट 8 पर बैरिकेड्स लगा दिए गए थे जिससे होकर मजदूरों का आना-जाना लगा था।

मध्य प्रदेश के ग्वालियर के एक राजमिस्त्री, 40 वर्षीय अरुण का कहना है कि पिछले कुछ वर्षों से वह दिन में 12 घंटे काम कर रहे हैं और प्रति माह लगभग 17,000 रुपये कमाते हैं। उन्होंने बताया, “काम लगभग 99 प्रतिशत पूरा हो गया है। हमने दो शिफ्टों में 24×7 काम किया है। हम महामारी के दौरान भी नहीं रुके।” वह याद करते हैं कि इसकी शुरुआत फरवरी 2021 में उन्हें मिले एक फोन कॉल से हुई थी। अरुण ने बताया, “उन्होंने मुझसे पूछा कि क्या मैं दिल्ली में संसद भवन में काम कर सकता हूं। मैं ज्यादा खुश नहीं हो सकता था। ऐसे अवसर को कौन चूकना चाहेगा?”

उद्घाटन पर बोले मजदूर- गर्व से कहेंगे हमने संसद भवन बनाया
बिहार के एक वर्कर 24 वर्षीय इमरान का कहना है कि इमारत के कुछ हिस्सों में मचान का काम अभी भी जारी है और इसे पूरा होने में कुछ और महीने लगेंगे। मध्य प्रदेश के एक अन्य वर्कर रामदीन डागर का कहना है कि कुछ कक्षों में आवश्यक साज-सज्जा को छोड़कर भवन के अंदर अधिकांश काम किया जाता है। मध्य प्रदेश के एक राजमिस्त्री नरेश मुस्कुराते हुए कहते हैं, “एक दम जन्नत।”

अरुण, इमरान, नरेश और अन्य लोगों के लिए उनकी कड़ी मेहनत, पसीने के साथ यह वह भूमिका थी जो उन्होंने इतिहास के एक हिस्से के निर्माण में निभाई थी जिसे वे अपने साथ ले जाएंगे। मुरैना के रहने वाले राम मूर्ति कहते हैं, “काम बहुत कठिन था, लेकिन अगर लोग हमसे पूछें कि हमने क्या किया, तो हम कह सकते हैं कि हमने संसद भवन बनाया, वह भी दो साल में। हमने पूरी बिल्डिंग को हमारी आंखों के सामने बनते देखा है।

‘देश के लिए इतना तो करना पड़ेगा’
बिहार के 20 वर्षीय आकाश कुमार जो डामर बिछाने वाले समूह का हिस्सा हैं कहते हैं, “हम 15 घंटे से अधिक समय से 5-6 दिनों से काम कर रहे हैं। कुछ दिन हमसे इससे ज्यादा काम करने को कहा गया। अब जबकि परिसर के अंदर की सड़कें पक्की हैं, सांस लेने का समय है। उनके सहयोगी 27 वर्षीय सोहित कुमार शर्मा कहते हैं, “कल हम सिर्फ दो घंटे सोए थे। देश के लिए इतना तो करना पड़ेगा। हम संसद भवन के अंदर बैठने नहीं जा रहे हैं, पर अच्छा लगता है।

21 विपक्षी दलों ने नई संसद के उद्घाटन समारोह का किया बहिष्कार
वहीं, दूसरी ओर 21 विपक्षी दलों ने नई संसद के उद्घाटन समारोह का बहिष्कार कर दिया है। विपक्ष मांग कर रहा था कि संसद का उद्घाटन राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू द्वारा किया जाना चाहिए। इसके लिए उन्होंने शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट का भी रुख किया था, लेकिन वहां उनकी याचिका खारिज कर दी गई।

 

About bheldn

Check Also

एलन मस्‍क का बदल चुका है प्‍लान? टेस्‍ला के निकट भविष्‍य में भारत आने की संभावनाएं कम

नई दिल्‍ली भारत में टेस्‍ला की एंट्री पर बड़ा अपडेट है। मुमकिन है कि यह …