नए संसद भवन के उद्घाटन के बीच क्यों ध्यान खींच रही यह तस्वीर, BJP नेताओं से लेकर लोग भी कर रहे ट्वीट

नई दिल्ली

देश का दिल कहे जाने वाली राजधानी दिल्ली में नई संसद बनकर तैयार है। पीएम मोदी ने आज उसका उद्घाटन भी कर दिया। इसके बाद इसे देशवासियों को समर्पित कर दिया गया। इस नई संसद को जिस खूबसूरती से बनाया गया है, वह वाकई अपने-आप में काबिले-तारीफ है। इसकी दिवारों पर कई मनमोहक आर्टवर्क, पेंटिंग्स और म्यूरल्स लगाए गए हैं। कुलमिलाकर कहें तो प्रचीन इतिहास को बड़े ही शानदार तरीके से दिखाया गया है। आज सुबह से ही उद्घाटन के नई संसद की कई तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं। लेकिन, इनमें से एक तस्वीर ऐसी है जो चर्चा का विषय बन गई है। लोग इस तस्वीर की काफी तारीफ कर रहे हैं। ये तस्वीर में ऐसा क्या है। तस्वीर में संसद भवन की एक दीवार पर अखंड भारत का नक्शा बनाया गया है। यह आजादी और विभाजन के पहले का नक्शा है। लोगों के बीच इस नक्शे को लेकर बातें शुरू हो गईं। कुछ ने तो इसे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के दिए अखंड भारत का कॉन्सेप्ट बता दिया। वहीं इस नक्शे की फोटो कई बीजेपी नेताओं ने भी शेयर की है।

अखंड भारत का नक्शा और शुरू हो गई चर्चा
संसद भवन के अंदर की दीवारों पर भारत के पूर्व गृह मंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल और अंबेडकर के साथ चाणक्य तक का चित्र है। इसके अलावा भी कई ऐसा आर्टवर्क है जो बरबस ही आपको इसे देखने के लिए मोहित करता है। इन सबके बीच भारत के अखंड भारत के नक्शे की तस्वीर पर लोग सोशल मीडिया पर तरह-तरह के रिएक्शन दे रहे हैं। इस नक्शे में प्राचीन समय के महत्वपूर्ण साम्राज्यों और शहरों को दिखाया गया है। नक्शे में वर्तमान पाकिस्तान में स्थित तक्षशिला तक को दिखाया गया है। नक्शे के पास में ही एक पत्थर है जिसमें पुराने शिलालेख से लिखा एक लेख है। वहीं बगल में, दूसरे पत्थर में प्राचीन काल की मूर्तियां भी बनाई हुई हैं।

बीजेपी नेताओं ने भी ट्वीट की तस्वीर
भारतीय जनता पार्टी के संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी ने ट्वीट करते हुए कहा कि संकल्प स्पष्ट है- अखंड भारत। भारतीय जनता पार्टी की कर्नाटक इकाई ने नये संसद भवन के अंदर प्राचीन भारत, चाणक्य, सरदार वल्लभभाई पटेल और बी. आर. आंबेडकर और देश की सांस्कृतिक विविधता के भित्ति चित्रों सहित कलाकृतियों की तस्वीरें साझा कीं। भाजपा की कर्नाटक इकाई ने अपने ट्विटर हैंडल पर कहा, ‘यह हमारी गौरवपूर्ण महान सभ्यता की जीवंतता का प्रतीक है।’ मुंबई उत्तर-पूर्व से लोकसभा सदस्य मनोज कोटक ने ट्विटर पर कहा, ‘नई संसद में अखंड भारत। यह हमारे शक्तिशाली और आत्मनिर्भर भारत का प्रतिनिधित्व करता है।’

लोगों ने भी की दिल खोलकर तारीफ
ट्विटर पर कई लोगों ने नये संसद भवन में ‘अखंड भारत’ के चित्रण का स्वागत किया और पूछा कि क्या यह विपक्ष के समारोह के बहिष्कार का कारण था। राष्ट्रीय आधुनिक कला संग्रहालय के महानिदेशक अद्वैत गडनायक ने कहा, ‘हमारा विचार प्राचीन युगों के दौरान भारतीय विचारों के प्रभाव को चित्रित करना था। यह उत्तर-पश्चिमी क्षेत्र में वर्तमान अफगानिस्तान से लेकर दक्षिण-पूर्वी एशिया तक फैला हुआ है।’ गडनायक नये संसद भवन में प्रदर्शित कलाकृतियों के चयन में शामिल थे। RSS के अनुसार, अखंड भारत की अवधारणा अविभाजित भारत को संदर्भित करती है जिसका भौगोलिक विस्तार प्राचीनकाल में बहुत विस्तृत था। हालांकि, अब आरएसएस का कहना है कि अखंड भारत की अवधारणा को वर्तमान समय में सांस्कृतिक संदर्भ में देखा जाना चाहिए, न कि स्वतंत्रता के समय धार्मिक आधार पर भारत के विभाजन के राजनीतिक संदर्भ में।

आयुष नामक यूजर ने तस्वीर शेयर करते हुए लिखा कि संसद भवन में अखंड भारत का म्यूरल। बाला नामक यूजर ने लिखा कि वाह! संसद भवन के अंदर अखंड भारत का नक्शा। लेखक अमित थधानी ने लिखा कि नई संसद में अखंड भारत। कोई आश्चर्य नहीं कि वैचारिक रूप से उप-राष्ट्रवाद से जुड़े लोग इमारत में प्रवेश करने से इनकार कर रहे हैं।

About bheldn

Check Also

अरविंद केजरीवाल की गिरफ्तारी के खिलाफ AAP नेताओं और डॉक्टर विंग ने किया विरोध प्रदर्शन

नई​ दिल्ली, आम आदमी पार्टी (AAP) के नेताओं, कार्यकर्ताओं और डॉक्टर विंग ने सीएम अरविंद …