श्रद्धा के शव काटे, साक्षी को जिंदा 21 बार घोंपा… हैवानियत में आफताब से कम नहीं हत्यारा साहिल

नई दिल्ली

दिल्ली के शाहबाद डेयरी इलाके में साहिल ने जिस हैवानियत से साक्षी की हत्या कर दी, उससे पूरे देश में आक्रोश का माहौल है। साहिल ने बेरहमी से 21 बार साक्षी पर चाकू से वार किया। वो बीच सड़क पर हमले करता रहा। इस दौरान वहां कई लोग मूकदर्शक बनकर खड़े रहे। साहिल को किसी का डर नहीं था। उसके सिर पर खून इस कदर सवार था कि जब चाकू मारकर भी उसका दिल नहीं भरा तो उसने एक बड़ा पत्थर उठाकर पीड़िता पर फेंक दिया। इसके बाद वो साक्षी को लात मारकर वहां से फरार हो गया। इस हत्याकांड के बाद दिल्ली के श्रद्धा मर्डर केस की चर्चाएं फिर से तेज हो गई हैं। जिस हैवानियत से साहिल ने साक्षी का कत्ल किया वो किसी भी तरह से श्रद्धा के हत्यारे आफताब से कम नहीं है। आफताब ने श्रद्धा के शरीर के कई टुकड़े किए और फ्रिज में रखा, तो साहिल खुलेआम दरिंदगी से साक्षी की हत्या की।

आफताब से कम नहीं है साहिल
पिछले साल दिल्ली के महरौली इलाके में अपनी लिव-इन पार्टनर श्रद्धा के 35 टुकड़े करने वाले आफताब की कहानी ने भी इसी तरह देशभर में सबको दहला दिया था। उसने अपने कबूलनामे में इस बात का खुलासा किया कि उसने श्रद्धा का पहले खून किया, इसके बाद उसकी लाश के 35 टुकड़े किए। आफताब ने लाश के टुकड़े छिपाने के लिए एक फ्रिज खरीदा। वो धीरे-धीरे लाश के टुकड़ों को ठिकाने लगाता रहा। इतना ही नहीं पुलिस की जांच में पता चला कि आफताब के कई महिलाओं से संबंध थे। जब श्रद्धा की लाश फ्रिज में थी, तब भी आफताब दूसरी महिला को घर लाया और उसे श्रद्धा की अंगूठी गिफ्ट की। फिलहाल आफताब तिहाड़ जेल में है। वहीं उसने अदालत के सामने अपने गुनाह को कबूल करने से इनकार कर दिया है।

पूरे प्लान से किया साक्षी का मर्डर
साक्षी मर्डर केस में भी साहिल की हैवानियत ऐसी ही है। आफताब ने श्रद्धा की कत्ल करने के बाद लाश के टुकड़े किए, तो साहिल ने सरेआम साक्षी पर चाकूओं से कई वार किए। इतना ही नहीं वो एक बार साक्षी को मारकर आगे बढ़ा, लेकिन फिर वापस आकर एक बड़े पत्थर से साक्षी पर हमले किए। घटना का सीसीटीवी वीडियो भी सामने आया है, जिसमें साफ दिख रहा है कि साहिल पूरे प्लान के साथ साक्षी की हत्या करने आया था। उसे किसी का डर भी नहीं था।

‘गले में रुद्राक्ष की माला पहनता था साहिल’
साक्षी की एक दोस्त ने बताया है कि उसने कभी साहिल के बारे में मुझसे जिक्र नहीं किया था। साक्षी के घर में किसी बात को लेकर झगड़ा हो गया था इसलिए वो अपनी दोस्त के घर पर रह रही थी। साक्षी के दोस्त ने बताया कि साहिल ने अपना पूरा नाम नहीं बताया था। साहिल हिंदू होने का दावा करता था। वो गले में रुद्राक्ष की माला पहनता था और कलवा बांधता था। साहिल को लगता था कि साक्षी उसे प्यार करती थी, लेकिन ऐसा नहीं था, ये मामला एक तरफा प्यार का है।

About bheldn

Check Also

जमीन अधिग्रहण के बदले राज्य का मुआवजा कोई चैरिटी नहीं, सुप्रीम कोर्ट ने क्यों कही ये बात

नई दिल्ली सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि लोगों की जमीन अधिग्रहण के बाद सरकार …