महाराष्ट्र में आज चुनाव हुए तो बीजेपी की राह बेहद मुश्किल, सुब्रमण्यम स्वामी ने नेतृत्व को दी नींद से जागने की सलाह

नई दिल्ली

एकनाथ शिंदे के साथ मिलकर महाराष्ट्र में सरकार बनाना बीजेपी को खासा भारी पड़ सकता है। बीजेपी के पूर्व राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने अखबारी सर्वे का डाटा पोस्ट करके एक तस्वीर बयां की है। इसके मुताबिक आज चुनाव हुए तो बीजेपी का औंधे मुंह गिरना निश्चित है। महा विकास अघाड़ी बड़े आराम से उसे जोर की पटखनी देने की स्थिति में है। स्वामी ने बीजेपी के नेतृत्व को नींद से जागने की सलाह दी है।

सकल न्यूज पेपर सर्वे के आधार पर स्वामी ने बताया कि आज महाराष्ट्र में चुनाव होते हैं तो NDA का वोटिंग परसेंटेज महजद 39.3 फीसदी ही रहने वाला है। बीजेपी को 33.8 फीसदी वोट मिलने का अनुमान है जबकि शिंदे सेना को केवल 4.4 फीसदी ही वोट मिलने जा रहे हैं।

महाविकास अघाड़ी को 47.7 फीसदी वोट मिलने का अनुमान
दूसरी तरफ महा विकास अघाड़ी तेजी से अपना जनाधार बढ़ाती चली जा रही है। स्वामी के मुताबिक आज चुनाव होने की स्थिति में महाविकास अघाड़ी को 47.7 फीसदी वोट मिलने का अनुमान है। कांग्रेस के खाते में 19.9 फीसदी वोट जा सकते हैं तो एनसीपी के पास 15.3 फीसदी वोट रहने की उम्मीद हैं। ठाकरे सेना (उद्धव ठाकरे) के पास 12.5 फीसदी वोट रहने की उम्मीद सर्वे में जताई गई है। स्वामी की रिपोर्ट के मुताबिक आज चुनाव होने की स्थिति में महा विकास अघाड़ी बीजेपी नीत गठबंधन से 8.4 फीसदी ज्यादा वोट लेने की स्थिति में है।

स्वामी का कहना है कि बीजेपी को तुरंत अलर्ट होना चाहिए। महाराष्ट्र एक बड़ा सूबा है। अगर वहां पर बीजेपी इतनी बुरी तरह से हारी तो ये भविष्य के लिए ठीक नहीं होगा। बीजेपी नेतृत्व को तुरंत नींद से जागकर वो जरूरी कदम उठाने चाहिए जिनसे पार्टी की स्थिति मजबूत हो सके।

गौरतलब है कि पिछले साल उद्धव ठाकरे महाराष्ट्र के सीएम थे। लेकिन बीजेपी की शह पर उद्धव के मंत्री एकनाथ शिंदे ने बगावत की और अपने विधायकों को लेकर पहले गुजरात और फिर असम चले गए। उसके बाद उन्होंने बगावत का ऐलान कर दिया। विपरीत परिस्थितियां बनने के बाद उद्धव ने सीएम की कुर्सी से इस्तीफा दे दिया।

मुश्किल में शिंदे की शिवसेना
महाराष्ट्र में चुनाव से पहले ये सर्वे खासतौर पर एकनाथ शिंदे की चिंता बढ़ाने वाला है। एकनाथ शिंदे ने पिछले साल ही उद्धव ठाकरे से बगावत करके अपना अलग गुट बनाया और बीजेपी के साथ गठबंधन किया। इसके बाद एकनाथ शिंदे ने अपने विधायकों के साथ मिलकर मुख्यमंत्री पद की शपथ ली जबकि देवेंद्र फडणवीस डेप्युटी बने।

 

About bheldn

Check Also

सात फेरों की गांठ खोलकर दुल्‍हन बोली- शादी नहीं करनी, वजह सुनकर सब रह गए हैरान

कानपुर: कानपुर में बाराती उस समय हैरान रह गए जब दुल्‍हन ने चौथा फेरा लेने …