‘अहिल्या नगर’ नाम से जाना जाएगा अहमदनगर, अहिल्याबाई होल्कर जयंती पर सीएम शिंदे ने किया ऐलान

नई दिल्ली,

महाराष्ट्र सरकार इस वक्त तेजी से नाम परिवर्तन के मिशन पर है. बीते दिनों वर्सोवा सी लिंक का नाम वीर सावरकर सेतु करने के बाद बुधवार को अहमदनगर का नाम भी बदला गया है. महाराष्ट्र का अहमदनगर अब ‘अहिल्या नगर’ नाम से जाना जाएगा. सीएम एकनाथ शिंदे ने बुधवार को यह घोषणा की है.

बुधवार को मनाई गई 298वीं जयंती
अहिल्याबाई होल्कर, मालवा राज्य की रानी थीं और उनका जन्मस्थान अहमदनगर रहा है. बता दें कि यहां के चौंडी में अहिल्याबाई होल्कर की 298 वीं जयंती से जुड़ी सभा को संबोधित करते हुए सीएम शिंदे ने यह घोषणा की है. इस कार्यक्रम में सीएम एकनाथ शिंदे के साथ डिप्टी सीएम देवेंद्र फडणवीस भी मौजूद थे. सभा को संबोधित करते हुए देवेंद्र फडणवीस ने अहमदनगर जिले का नाम ‘अहिल्यादेवी होल्कर नगर’ करने की इच्छा जताई.

चौंडी में आयोजित सभा में किया ऐलान
बता दें कि, बुधवार को अहिल्या बाई होलकर की 298वीं जयंती मनाई जा रही है. इस मौके पर सीएम एकनाथ शिंदे चौंडी पहुंचे हुए थे. इसी दौरान उन्होंने अहमदनगर का नाम बदलने की घोषणा की. इससे पहले महाराष्ट्र की शिंदे सरकार ने औरंगाबाद का नाम बदल कर छत्रपति संभाजीनगर किया था और उस्मानाबाद का नाम चेंज कर धाराशिव किया था.

वीर सावरकर सेतु किया गया है वर्सोवा सी लिंक का नाम
बीते रविवार को ही सरकार ने वर्सोवा सी लिंक का नाम बदलकर वीर सावरकर के नाम पर ‘वीर सावरकर सेतु’ रखा है. वहीं, मध्य प्रदेश के इंदौर हवाईअड्डे का नाम ‘देवी अहिल्याबाई होलकर हवाईअड्डा’ पहले ही किया जा चुका है. उनके नाम पर मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र (सोलापुर) में दो विश्वविद्यालयों का नाम भी रखा गया है और देश की कई प्रमुख सड़कों और इमारतों का नामकरण अहिल्याबाई होल्कर के नाम पर है.

लोकप्रियता बढ़ाने वाला फैसला, लेकिन स्वागत योग्य: एनसीपी
अहमदनगर का नाम बदलने को लेकर एनसीपी की ओर से प्रतिक्रिया आई है. एनसीपी के प्रदेश अध्यक्ष और विधायक जयंत पाटिल ने कहा कि ‘हम अहमदनगर का नाम बदलकर अहिल्यानगर करने के सरकार के फैसले का स्वागत करते हैं. शिंदे फडणवीस सरकार की लोकप्रियता दिन-ब-दिन कम होती जा रही है और राज्य के लोग अब इसके बारे में जागरूक हो रहे हैं. इसलिए लोकप्रियता बढ़ाने के लिए इस तरह के फैसले लिए जा रहे हैं. हम फैसले का स्वागत करते हैं.

 

About bheldn

Check Also

असम की जेल में कैद खालिस्तानी अमृतपाल सिंह लड़ेगा लोकसभा चुनाव, जानें पंजाब की किस सीट से भरेगा पर्चा

चंडीगढ़ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत असम की जेल में बंद कट्टरपंथी सिख उपदेशक अमृतपाल …