वन नेशन वन इलेक्शन के जरिए राष्ट्रपति द्वारा गिराया जाएगा विपक्ष की सरकारो को : राकेश टिकैत

मैनपुरी

भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने मैनपुरी में केंद्र सरकार की ओर से प्रस्तावित वन नेशन वन इलेक्शन प्रस्ताव पर बड़ा हमला बोला है। दरअसल, केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार में देश में एक साथ चुनाव की वकालत करती नजर आ रही है। मतलब, लोकसभा चुनाव से लेकर विधानसभा और निकाय चुनाव तक को एक साथ कराने की योजना पर विचार किया जा रहा है। इसके लिए पूर्व राष्ट्रपति की अध्यक्षता में कमिटी के गठन की चर्चा है। माना जा रहा है कि संसद के विशेष सत्र में भी इस पर विचार किया जा सकता है। राकेश टिकैत ने इस मसले को अपने ही अंदाज में पेश किया। उन्होंने इस प्रकार के प्रस्ताव को राष्ट्रपति को अधिक अधिकार दिए जाने के रूप में पेश किया। उन्होंने कहा कि सरकार वन नेशन वन इलेक्शन के जरिए राष्ट्रपति को अधिक पावर देंगे। उन्होंने आशंका जताई कि जहां भी विपक्ष की सरकार बनेगी, उसे गिराया जाएगा। विपक्ष की सरकार को एक साल में गिरा दिया जाएगा। अगले चार सालों तक ऐसे प्रदेशों में राष्ट्रपति शासन लगाकर राज करेंगे।

सरकार अच्छा करेगी तो जीतेगी
किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि इस प्रकार की व्यवस्था ठीक नहीं है। लोकसभा चुनाव और घोसी उप चुनाव को लेकर भी किसान नेता ने अपनी प्रतिक्रिया दी। उन्होंने कहा कि जिसको इलेक्शन लड़ना है, यह उनका चुनाव है। उन्होंने कहा कि सरकार ठीक करेगी तो जनता उनके साथ चली जाएगी। अगर सरकार ठीक काम नहीं करेगी तो जनता दूसरी तरफ चली जाएगी। राकेश टिकैत के बयान को काफी अहम माना जा रहा है।

जी-20 का विरोध नहीं
किसान नेता ने कहा कि जी-20 इंटरनेशनल प्रोग्राम है। हर देश में होता है। उन्होंने कहा कि इस बार भारत देश को नेतृत्व करने का मौका मिला है। राकेश टिकैत ने कहा कि इसको लेकर दुनिया में बड़ा मैसेज जाता है। इसको लेकर हमारा कोई विरोध नहीं है। हालांकि, टिकैत ने चुनाव आयुक्त की नियुक्ति के मसले पर केंद्र सरकार पर हमला बोला। उन्होंने कहा कि सरकार हर संस्थानों पर अपना अधिकार करना चाहती है।

विपक्ष को जमीन पर उतरना होगा
विपक्षी गठबंधन I.N.D.I.A. को लेकर किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि विपक्षी दलों को एकजुट होकर लड़ना पड़ेगा। हालांकि, जमीन पर अभी तक गठबंधन के न दिखने की भी बात कही। उन्होंने कहा कि आंसू गैस का एक गोला नहीं चला है। अभी मुद्दे बहुत हैं। देश में केवल किसान संगठनों के मुद्दे नहीं हैं। बहुत सारे मुद्दे हैं, जिसको लेकर सड़क पर आने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि घर में सोने से काम नहीं चलेगा। सड़कों पर संघर्ष शुरू करना पड़ेगा। विपक्ष को मजबूत होना चाहिए।

राकेश टिकैत ने कहा कि अगर विपक्ष कमजोर होगा तो तानाशाहों का जन्म होगा। सबसे ज्यादा कब्जाधारी बीजेपी और संघ के लोग हैं। उन्होंने कहा कि बीजेपी और संघ के लोगों से अपनी जमीन बचाओ। विपक्ष को आंदोलन का रास्ता तैयार करना चाहिए। केंद्र सरकार की कमी पर खड़े होकर प्रदर्शन करना चाहिए। उन्होंने कहा कि हम राजनीति से दूर हैं। विपक्षी गठबंधन को उन्होंने सुझाव दिया कि सत्ता पाने के लिए एक होकर संघर्ष करो।

About bheldn

Check Also

तुम्‍हें नौकरी से न‍िकलवा देंगे… रघुराम राजन को कौन दे रहा था धमकी, फ‍िर पूर्व RBI गवर्नर ने क्‍या क‍िया?

नई दिल्‍ली: भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के पूर्व गवर्नर और अब शिकागो यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर …