बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना की बेटी की वजह से भारत के सामने ये दुविधा

नई दिल्ली,

पड़ोसी देश नेपाल और बांग्लादेश को लेकर भारत धर्मसंकट की स्थिति में है. भारत के करीबी माने जाने वाले दोनों ही देशों ने विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के क्षेत्रीय निदेशक पद के लिए अपने उम्मीदवारों को नामांकित करने का फैसला किया है. 9-10 सितंबर को आयोजित हो रहे जी-20 शिखर सम्मेलन से इतर इस चुनाव को लेकर भी बात होने वाली है. ऐसे में भारत के लिए नेपाल और बांग्लादेश में से किसी एक को चुनना और उसके उम्मीदवार के पक्ष में वोट करना काफी मुश्किल होने वाला है.प्रधानमंत्री शेख हसीना के बेटी साइमा वाजेद बांग्लादेश की तरफ से WHO क्षेत्रीय निदेशक पद की उम्मीदवार हैं और नेपाल की तरफ से शंभू प्रसाद आचार्य पद के उम्मीदवार है. शंभू प्रसाद WHO के सबसे वरिष्ठ अधिकारियों में से एक हैं.

द हिंदू की एक रिपोर्ट के मुताबिक, WHO दक्षिण पूर्व एशिया क्षेत्रीय कार्यालय (SEARO) के निदेशक के लिए चुनाव नई दिल्ली में एक बंद कमरे में होगा. चुनाव 30 अक्टूबर से 2 नवंबर के बीच होगा और विजेता की घोषणा 11 सदस्य देशों के बहुमत के आधार पर की जाएगी.ये 11 देश हैं- बांग्लादेश, भूटान, उत्तर कोरिया, भारत, इंडोनेशिया, मालदीव, म्यांमार, नेपाल, श्रीलंका, थाईलैंड और तिमोर-लेस्ते. भारत की पूनम खेत्रपाल सिंह 2014 से SEARO निदेशक के पद पर हैं.

किसे वोट करेगा भारत?
बांग्लादेश और नेपाल, दोनों देशों में से भारत किसका साथ देगा? इस संबंध में भारत के सरकारी अधिकारियों ने कहा कि फैसला लेने में अभी काफी वक्त है. हालांकि, अधिकारियों ने ऐसे संकेत दिए हैं कि बांग्लादेशी उम्मीदवार का पलड़ा नेपाली उम्मीदवार पर भारी है. ऐसा इसलिए क्योंकि भारत-बांग्लादेश संबंध बेहद महत्वपूर्ण हैं और साइमा वाजेद को शेख हसीना का भी समर्थन हासिल है.

हालांकि, अधिकारियों ने यह भी कहा कि संयुक्त राष्ट्र प्रणाली के भीतर किसी भी चुनाव की तरह ही इस तरह के चुनाव में वोटिंग पारस्परिक संबंधों के आधार पर की जाती है. इसका मतलब यह है कि अगर कोई देश संयुक्त राष्ट्र में किसी देश का समर्थन कर रहा है तो वह अपने समर्थन के बदले में किसी दूसरे मुद्दे पर अपने लिए समर्थन मांग सकता है.

नेपाली उम्मीदवार शंभू प्रसाद की बात करें तो, वो फिलहाल WHO के महानिदेशक टेड्रोस गेब्रियेसस के कंट्री स्ट्रैटजी एंड सपोर्ट के डायरेक्टर हैं और WHO के जेनेवा मुख्यालय में नियुक्त हैं. इन्हें दक्षिण पूर्व एशिया क्षेत्रीय निदेशक (SEARO) पद के लिए एक अनुभवी उम्मीदवार माना जा रहा है.वहीं, बांग्लादेशी उम्मीदवार साइमा वाजेद एक मनोवैज्ञानिक हैं और बांग्लादेश की सरकार में सलाहकार हैं. वो उच्चस्तरीय राजनयिक अभियानों का हिस्सा रही हैं.

अपनी मां शेख हसीना के साथ भारत आ सकती हैं साइमा
सूत्रों का कहना है कि वो अपनी मां शेख हसीना के साथ जी-20 शिखर सम्मेलन के लिए भारत आएंगी. जी-20 के विशेष आमंत्रित देशों में बांग्लादेश का नाम भी शामिल है.WHO के महानिदेश गेब्रियेसस भी जी-20 बैठक में हिस्सा लेने के लिए दिल्ला आ रहे हैं. उनके साथ संगठन का एक बड़ा प्रतिनिधिमंडल भी आ रहा है. ऐसा माना जा रहा है कि पद के लिए वो अपने सहयोगी शंभू प्रसाद का समर्थन करेंगे. ऐसी उम्मीद है कि दोनों ही पक्ष SEARO के 11 सदस्यों के साथ-साथ उन देशों को भी अपने प्रभाव में लेने की कोशिश करेंगे जिनका इस क्षेत्र में प्रभाव है.

आशियान शिखर सम्मेलन में भी पहुंचीं साइमा
बुधवार को साइमा वाजेद बांग्लादेश के राष्ट्रपति मोहम्मद शहाबुद्दीन के साथ ASEAN शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए इंडोनेशिया गईं. वहां जकार्ता में उन्होंने इंडोनेशिया के विदेश मंत्री रेटनो मर्सुदी से मुलाकात की. माना जा रहा है कि वो वहां म्यांमार, थाईलैंड और तिमोर लेस्ते का समर्थन पाने की भी कोशिश करेंगी.

About bheldn

Check Also

वीडियो फुटेज डिलीट है, फोन फॉर्मेट हुआ है, ये आरोपी के बारे में बहुत कुछ बता रहा’, कोर्ट ने बिभव पर और क्या क्या कहा

नई दिल्ली दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट आम आदमी पार्टी की नेता एवं राज्यसभा सदस्य …