यूपी: दलित लड़की से रेप, बहन से छेड़खानी और पिता की हत्या… आरोपी BJP नेता पार्टी से निष्कासित, 6 पुलिसवाले सस्पेंड

महाराजगंज ,

उत्तर प्रदेश के महाराजगंज जिले में दलित किशोरी से रेप, उसके पिता की हत्या, बहन से छेड़खानी और भाई से मारपीट के मामले में आरोपी बीजेपी नेता राही मासूम रजा पर एक्शन हुआ है. उसे पार्टी से 6 वर्षो के लिए निष्कासित कर दिया गया है. आरोपी राही मासूम रजा बीजेपी अल्पसंख्यक मोर्चा का जिलाध्यक्ष था.

इतना ही नहीं राही मासूम रजा की मदद करने व पूरे प्रकरण में मध्यस्थता कर पीड़िता को रुपये दिलवाने के आरोप में महाराजगंज पुलिस मीडिया सेल में तैनात सिपाही आबिद अली व मददगार गुड्डू शाह को सोमवार को जेल भेज दिया गया. साथ ही आरोपित की सुपुर्दगी लेने वाले पुलिस अधीक्षक कार्यालय के परिवार परामर्श केंद्र के काउंसलर समशुल होदा खान को भी पद से हटा दिया गया है.

पुलिसकर्मियों पर गिरी गाज
महाराजगंज बीजेपी नेता प्रकरण मामले में नगर चौकी प्रभारी प्रवीन कुमार सिंह समेत पांच पुलिसकर्मियों के निलंबन और सदर कोतवाल रवि कुमार राय समेत 14 को लाइन हाजिर करने के बाद एसपी ने सोमवार को खाली जगह पर नई तैनाती दी है. पुलिस लाइन में तैनात उपनिरीक्षक घनश्याम समेत 17 पुलिसकर्मियों को कोतवाली में पोस्टिंग दी गई है.

पीड़िता के घर से बरामद रुपये के संबंध में पूछताछ
घटना के बाद पीड़िता द्वारा 164 का बयान बदले जाने के बाद पीड़िता के घर से छापेमारी में 9 लाख रुपये बरामद हुए हैं. बरामद रुपये के संबंध में पुलिस पीड़िता से बातचीत कर जानकारी इकट्ठा कर रही है. पुलिस को शक है कि पीड़िता द्वारा रुपये लेकर कही बयान को बदला तो नही गया है. दरअसल, राही मासूम रजा के खिलाफ दर्ज दुष्कर्म के मामले में उस वक्त यू-टर्न आ गया जब पीड़िता अपने बयान से पलट गई. उसने अपने बयान में सभी आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया.

पहले थाने से छोड़ा, अब हुआ फरार
बता दें कि राही मासूम रजा नेता पर हत्या, रेप, पाक्सो और एससी-एसटी जैसे संगीन धाराओं में केस दर्ज हुआ था. बताया जा रहा है कि पीड़िता के बयान के बाद पुलिस ने उसको दो लोगों की सुपुर्दगी में सौंप दिया था. इसके बाद से ही बीजेपी नेता रजा फरार हो गया. उसकी तलाश के लिए अब पुलिस यहां-वहां दबिश दे रही है.

मालूम हो कि घटना के 5 दिन बाद दबाव बनने पर पुलिस ने मुकदमा तो दर्ज कर लिया था और पूछताछ के लिए आरोपित बीजेपी नेता को कोतवाली भी लाई थी लेकिन महज कुछ ही घंटों में उसे छोड़ दिया गया. पुलिस अधीक्षक कार्यालय के परिवार परामर्श केंद्र के काउंसलर समशुल होदा खान और एक अन्य व्यक्ति की सुपुर्दगी में बीजेपी नेता को छोड़ा गया था. लेकिन रजा फरार हो गया. ऐसे में अब सुपुर्दगी में लेने वाले काउंसलर शमशुल होदा खान को परामर्श केंद्र में काउंसलर पद से हटा दिया गया है और पुलिस उनको लेकर यूपी के कई शहरों में रजा की तलाश कर रही है.

उधर, सदर कोतवाल द्वारा आरोपी को छोड़े जाने नाराज होकर एसपी डॉक्टर कौस्तुभ ने कोतवाल समेत 14 पुलिसकर्मियों को लाइन हाजिर करने के साथ ही चौकी प्रभारी सहित 5 पुलिस कर्मियों को सस्पेंड कर दिया. इस बीच बीजेपी ने राही मासूम रजा को 6 वर्षों के लिए निष्काषित कर दिया गया है.

About bheldn

Check Also

स्लॉटर हाउस में अमानवीय स्थिति, दबिश देकर पुलिस ने 57 नाबालिग बच्चों का किया रेस्क्यू

गाजियाबाद, उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद की क्राइम ब्रांच पुलिस और थाना मसूरी पुलिस की संयुक्त …