खुद को टेक्नॉलजी का बादशाह मानने वाले चीन की हुई घोर बेइज्जती, जैवलिन थ्रो के दौरान खुल गई पोल

हांगझाऊ

भारत के स्टार जैवलिन थ्रोअर नीरज चोपड़ा ने 19वें एशियन गेम्स में कमाल कर दिया। उन्होंने 88.88 मीटर दूर भाला फेंककर भारत के लिए सोने का तमगा जीता। भारत के ही किशोर जेना दूसरे स्थान पर रहे और उन्होंने सिल्वर मेडल अपने नाम किया। चीन के हांगझाऊ में आयोजित खेल के 11वें दिन भारत के खिलाड़ियों ने पदर्शन दमरार रहा। हालांकि इस दौरान एक विवाद भी सामने खड़ा हो गया।

दरअसल खुद को टेक्नॉलजी का बादशाह मानने वाले चीन की उस समय पोल खुल गई जब जैवलिन थ्रो के समय दूरी नापने वाली मशीन ने काम करना बंद कर दिया। इस कारण खेल को कुछ देर के लिए रोकना भी पड़ गया। मल्टी स्पोर्ट्स इवेंट में इस तरह की कमी दर्शाता है कि एशियन गेम्स के लिए चीन की तैयारी कैसी है।चीन दुनिया भर में अपने टेक्नॉलॉजी को लेकर सेखी बघारता है। हालांकि सच यह भी की चाइनीज टेक पर दुनिया का भी भरोसा बहुत कम ही है और इस बार तो उसे ही धोखा मिल गया।

बता दें कि भारत के नीरज चोपड़ा जब थ्रो करने के लिए आए तो उनके पहले प्रयास को फाउल दे दिया गया क्योंकि मशीन ने दूरी को नापी ही नहीं, यहां पर नीरज चोपड़ा की कोई गलती नहीं थी लेकिन फिर भी उनका पहला प्रयास खराब रहा। इसे लेकर नीरज चोपड़ा अधिकारियों से बात भी की लेकिन अंत में फाउल देने का ही निर्णय लिया गया।

इसका असर नीरज चोपड़ा पर साफ देखने को मिला और ऑफिशियल रूप से जब वह अपना थ्रो करने आए तो वह अपनी उस लय में नहीं लग रहे थे जैसा की वह शुरू में दिखे थे। नीरज इस तरह की व्यवस्था के कारण काफी निराश भी दिखे। हालांकि चौथे थ्रो तक आते-आते गोल्डन बॉय ने चीन में सोने की दूरी को नाप दी और गोल्ड मेडल अपने नाम किया।नीरज को अपने ही साथी किशोर जेना से भी कड़ी टक्कर देखने को मिली। एक समय ऐसा था जब जेना नीरज से आगे चल रहे थे। हालांकि वह अपनी बढ़त बरकरार नहीं रख सके और उन्हें दूसरे स्थान से संतोष करना पड़ा। इस तरह किशोर को सिल्वर मेडल मिला।

About bheldn

Check Also

IPL में कोहली की धाक… ऑरेंज कैप जीतकर रचा इतिहास, इस खिलाड़ी के सिर सजा पर्पल कैप

चेन्नई, इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) के 17वें सीजन का फाइनल मुकाबला 26 मई (रविवार) को …