धरती की कक्षा को छोड़ चांद की ओर बढ़ा जापान का ‘चंद्रयान’ स्लिम, चंदमामा से आज होगी मुलाकात?

टोक्‍यो

चांद के सतह को छूने की तमन्‍ना लेकर निकला जापान का स्लिम स्‍पेसक्राफ्ट अब धरती की कक्षा से बाहर निकल गया है। जापान की अंतरिक्ष एजेंसी जाक्‍सा ने बताया कि स्लिम ने शनिवार को अपने इंजन को चालू किया और धरती की कक्षा को छोड़ दिया। अब स्लिम यान अपने आखिरी पड़ाव यानि चांद की ओर कछुए की रफ्तार से बढ़ रहा है। जाक्‍सा ने बताया कि स्लिम ने धरती से 660 किमी की ऊंचाई पर दक्षिण अटलांटिक समुद्र के ऊपर अपने इंजन को चालू किया। अगर सबकुछ सही रहा तो स्लिम की चंद्रमा से पहली मुलाकात आज यानि 4 अक्‍टूबर को हो सकती है।

स्लिम स्‍पेसक्राफ्ट को 6 सितंबर को रवाना किया गया था। इसके साथ एक शक्तिशाली एक्‍सरे टेलिस्‍कोप गया है जिसका नाम XRISM रखा गया है। स्लिम के टीम के वैज्ञानिक ने पिछले कुछ सप्‍ताह तक अपने अंतरिक्षयान की पूरी जांच की और यह पता लगाने की कोशिश की कि उसके सभी सिस्‍टम काम कर रहे हैं या नहीं। इसके बाद अब स्लिम को चांद की सतह पर उतारने की तैयारी है। इस जांच के बाद ही अब स्लिम के इंजन को चालू किया गया। स्लिम जहां अब चांद की ओर बढेगा, वहीं XRISM टेलिस्‍कोप अभी धरती की कक्षा में बना रहेगा।

चांद पर कब उतरेगा स्लिम यान?
जाक्‍सा ने बताया कि स्लिम में अगर कोई जरूरी कदम नहीं उठाना पड़ा तो हमारी योजना 4 अक्‍टूबर को हम चांद से पहली मुलाकात करने जा रहे हैं। इस मुलाकात के बाद भी अभी स्लिम चांद पर उतरने नहीं जा रहा है। स्लिम चांद की बहुत लंबी और ऊर्जा बचाने वाली यात्रा पर निकला है। स्लिम के लॉन्‍च होने के बाद जाक्‍सा के अधिकारियों ने बताया था कि यह स्‍पेसक्राफ्ट 3 से 4 महीने बाद चांद की कक्षा में जाएगा और उसके एक से दो महीने बाद सतह पर उतरने का प्रयास कर पाएगा।

जापान अगर इस मिशन में सफल होता है तो यह उसके लिए ऐतिहासिक होगा। अब तक केवल सोवियत संघ, अमेरिका, चीन और भारत ही चंद्रमा पर सॉफ्ट लैंडिंग कर पाए हैं। स्लिम की लैंडिंग से एक और मील का पत्‍थर स्‍थापित होने जा रहा है। इस मिशन के तहत चांद के शिओली क्रेटर के अंदर लक्ष्‍य के 328 फुट के दायरे में लैंडिंग का प्रयास किया जाएगा। अगर यह सफल रहता है तो भविष्‍य में जाने वाले सभी मिशनों के लिए राह आसान हो जाएगी। यह न केवल चांद के लिए होगा बल्कि धरती के बाहर हर जगह के लिए फायदेमंद रहेगा।

About bheldn

Check Also

हमास ने इजरायल पर की मिसाइलों की बौछार, तेल अवीव में हाहाकार, 5 महीने बाद बड़ा हमला

तेल अवीव/नई दिल्ली, गाजा में हमास और इजरायल के बीच पिछले आठ महीने से जंग …