वसुंधरा मुस्कुरा रही थीं फिर भी पीएम से दूरी की चर्चा क्यों?, साइडलाइन होने का दर्द चेहरे पर!

जयपुर/ जोधपुर

राजस्थान के जोधपुर में एक बार फिर पीएम नरेंद्र मोदी और पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के बीच दूरियां नजर आई। पूरी सभा के दौरान सियासत की नजरें पीएम मोदी और वसुंधरा के बीच अटकी रही। हालांकि वसुंधरा अपने ऊपर हावी तनाव को दबाने लिए मुस्कराती दिखाई दी, लेकिन सियासी जानकारों ने उनका तनाव भांप ही लिया। जयपुर, चित्तौड़गढ़ के बाद जोधपुर में भी पीएम नरेंद्र मोदी ने वसुंधरा को कोई तवज्जो नहीं दिया। जोधपुर की सभा में एक बार फिर वसुंधरा के साइड लाइन दिखे जाने को लेकर सियासी पारा लगातार चढ़ा हुआ है। इस दौरान भी पीएम मोदी और वसुंधरा के बीच किसी प्रकार की कोई वार्ता नहीं हुई। जिसको लेकर सियासी गलियारों में लगातार चर्चाओं का जोर पकड़ता जा रहा है।

वसुंधरा के चेहरे पर झलक रहा है तनाव
पीएम मोदी की सभाओं के दौरान वसुंधरा को साइड लाइन किए जाने का तनाव साफ देखा गया है। जयपुर में वसुंधरा का भाषण तक नहीं हुआ। इस दौरान भी मोदी ने वसुंधरा को पल भर के लिए भी नहीं देखा। इसके बाद से वसुंधरा के चेहरे पर लगातार चिंता की लकीरें साफ दिखाई दे रही है। गत दिनों अमित शाह और जेपी नड्डा जयपुर आए थे। इस दौरान वसुंधरा से काफी देर तक उनकी बातचीत हुई। हालांकि इस बैठक के बाद वसुंधरा काफी खुश नजर आई। इसको लेकर सियासत में कयास चला कि दोनों नेताओं ने वसुंधरा को मना लिया है। लेकिन एक बार फिर जोधपुर की सभा में साइड लाइन दिखी वसुंधरा को लेकर फिर बीजेपी की सियासत का पारा चढ़ गया है।

वसुंधरा की उम्मीदों को लेकर लगातार लग रहा है झटका
राजस्थान में विधानसभा चुनाव काफी नजदीक आ चुके हैं। ऐसे में अब तक वसुंधरा की चुनाव में भूमिका तय नहीं हो पाई है। इसको लेकर वसुंधरा काफी चिंतित और नाराज भी हैं। जिसका असर बीजेपी की परिवर्तन यात्राओं में देखने को मिला। इसके बाद पीएम मोदी की जयपुर, चित्तौड़गढ़ और जोधपुर में हुई सभाओं से एक बार फिर वसुंधरा और उनके समर्थकों की उम्मीदों को झटका लगा है। जब मोदी ने बार-बार इस बात को दोहराया कि राजस्थान में बीजेपी का चेहरा केवल ‘कमल के फूल’ का निशान होगा। मोदी ने बार बार यह बयान देकर साफ जाहिर कर दिया है कि राजस्थान में बीजेपी किसी के चेहरे पर चुनाव नहीं लड़ेगी। कहने का मतलब राजस्थान का चुनाव मोदी के चेहरे पर ही लड़ा जाएगा।

वसुंधरा को संबोधनों में भी नहीं मिल रही है जगह
वसुंधरा राजे के चेहरे पर बीजेपी की ओर से बेरुखी करने का तनाव साफ छलक रहा है। इसको लेकर राजनीतिक गलियारों में कई मायने निकाले जा रहे हैं। जयपुर, चित्तौड़गढ़ और जोधपुर में पीएम की सभाओं पर नजर डाली जाए तो, वसुंधरा को एक भी जगह पर संबोधन करने का समय नहीं दिया गया। पीएम मोदी की सभा में नेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़, गजेंद्र सिंह शेखावत और सीपी जोशी ही संबोधित करते हुए नजर आ रहे हैं। यह बात बात वसुंधरा समर्थकों को काफी खटक रही हैं।

वसुंधरा को लेकर कांग्रेस भी बना रही है निशाना
बीजेपी की ओर से वसुंधरा राजे को साइड लाइन किए जाने को लेकर कांग्रेस भी बीजेपी पर जमकर निशाना लगा रही है। इसको लेकर टोंक में पूर्व डिप्टी CM पायलट ने भी बड़ा बयान देते हुए बीजेपी पर तंज कसा। उन्होंने नड्डा के बयान पर पलटवार करते हुए कहा कि ‘अब तो बीजेपी को वसुंधरा जी पर नजर रखनी चाहिए। वह अब क्या करने वाली हैं, क्या नहीं। पायलट के इस बयान के बाद भाजपा की सियासत में जमकर हड़कंप मच गया है। वहीं इस बयान के माध्यम से पायलट ने यह कहने की कोशिश की है कि साइड लाइन किए जाने से वसुंधरा राजे आने वाले चुनाव में BJP से बगावत कर कोई बड़ा कदम उठा सकती हैं।

About bheldn

Check Also

स्लॉटर हाउस में अमानवीय स्थिति, दबिश देकर पुलिस ने 57 नाबालिग बच्चों का किया रेस्क्यू

गाजियाबाद, उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद की क्राइम ब्रांच पुलिस और थाना मसूरी पुलिस की संयुक्त …