आज उगते हुए सूर्य को अर्ध्य अर्पित कर महापर्व छठ पूजा का होगा पारण

भोपाल

“कांच ही बांस के बहंगिया, बहंगी लचकत जाय,” “मारवो रे सुगवा धनुष फेक, सुग्गवा गिरय मुरझाय”, “पहिले पहिले छठी मैया : वरत कैलू तोहार” जैसे मधुरिम लोकगीतों के मध्य आज पूर्ण भक्तिमय एवं आस्था के साथ बिहार तथा उत्तर भारत का सबसे बड़ा त्यौहार महापर्व छठ के तीसरे दिन दिन रविवार को सूर्यदेव की आराधना हेतु अस्ताचल सूर्य को (प्रथम अर्घ्य) देकर उपास किया गया. छठी मैया के इस महापर्व में साक्षात देव सूर्य भगवान को बाँस के बने सूप में ठेकुआ, गन्ना, संतरा, सेव, मह्तावी, केला, मुली, सुथनी, हल्दी, नारियल, पुआ, लडुआ जैसे प्रकृति प्रदत अनाजों को पूर्ण पवित्रता एवं स्वच्छता के साथ परंपरागत रूप से तैयार प्रसाद के साथ पानी के कुंड में खड़े होकर अस्ताचलगामी सूर्य को अर्घ्य दिया गया. अर्घ्य देते समय श्रद्धालू भक्त एवं परिजनों ने दूध ढारकर भगवान सूर्य को अर्घ्य दिया.

इस महापर्व का पारण 20 नवंबर, 2023, दिन सोमवार को उदयगामी सूर्य को (पारण अर्घ्य) के पूर्ण होगा. आयोजन समिति के अध्यक्ष सतेन्द्र कुमार ने बताया कि इस महापर्व के सफल एवं पवित्रता के साथ आयोजन के लिए छठ पूजा आयोजन समिति एवं बिहार सांस्कृतिक परिषद् द्वारा हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी आयोजन में विशेष व्यवस्था की गयी थी।

एक महीने पूर्व से छठ घाट स्वच्छता अभियान को जारी रखते हुये पवित्रता एवं स्वछता के महापर्व छठ पूजनोत्सव की व्यापक तैयारी की गयी जिसमे समिति के सदस्यों एवं छठव्रती श्रद्धालुगण ने नगर निगम एवं बीएचईएल प्रशासन की सहायता से पूरे घाट एवं कुंड की सफाई की जिसका सतत अवलोकन परिषद की संरक्षक श्रीमती कृष्णा गौर, विधायक एवं पार्षद नीरज सिंह द्वारा किया जा रहा था.

भोपाल का सुव्यवस्थित, स्वच्छ एवं पर्यावरण संरक्षित छठ घाट का स्थान प्राप्त घाट पर अस्थायी स्नानघर, महिला छठव्रती के लिए चेंजिंग रूम, फव्वारे, मंच एवं स्वच्छता हेतु चलित टॉयलेट की विशेष व्यवस्था की गयी. इस अवसर पर छठवर्ती श्रद्धालुओ के लिए अर्ध्य देने, बैठने की समुचित एवं उत्तम व्यवस्था, नियोजित पार्किंग की व्यवस्था परिषद के कार्यकर्ताओं द्वारा की गयी.

महापर्व छठ पूजनोत्सव को भक्तिमय एवं धार्मिकता के साथ सरस्वती देवी मंदिर प्रांगण मे ही रविवार को छठ मईया के मधुरिम गीतो के साथ देवी जागरण एवं भजन गायन की मनमोहक एवं सुन्दर प्रस्तुति बिहार के प्रसिद्ध माँ कंकाली की टोली द्वारा दी गयी जिसे उपस्थित भक्तजनों ने काफी सराहा।

इस पावन अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप मे समिति की संरक्षक एवं विधायक, श्रीमती कृष्णा गौर, मनोज वर्मा, उप कलेक्टर, बिहार सांस्कृतिक परिषद के पूर्व अध्यक्ष बीएल सिंह, उच्च शिक्षा विभाग के ओएसडी अखिलेश शर्मा एवं अनेक गणमान्य अतिथि उपस्थित हुए एवं छठी मैय्या एवं भगवान सूर्य की पूजा अर्चना की।

उन्होंने चहुमुखी विकास के अपनी प्रतिवद्धता दोहराते हुए, स्थाई चेंजिंग रूम, स्नानागार, स्थाई मंच एवं सुगम आवागमन हेतु मंच बनाने की घोषणा मंच से किया। समिति के कार्यकर्ताओं, नगर निगम एवं भेल नगर प्रशासन के लोगो ने कठिन परिश्रम एवं लगन से प्रांगण की साफ-सफाई, लाईटिंग एवं साज–सज्जा करके पूजनोत्सव को यादगार बना दिया।

About bheldn

Check Also

साहू समाज भेल इकाई ने किया पौधरोपण

भोपाल। साहू समाज भेल इकाई के तत्वावधान में अयोध्या बायपास रोड स्थित दामखेड़ा में “एक …