तेलंगाना में थमा चुनाव प्रचार, अंतिम दिन ऑटो में चले राहुल, गजवेल में गरजे KCR, BJP ने डोर टू डोर लगाया जोर हैदराबाद:

हैदराबाद:

तेलंगाना में राज्य विधानसभा की 119 सीटों के लिए चुनाव प्रचार खत्म हो गया है। आखिरी दिन मतदताओं को लुभाने के लिए बीजेपी, कांग्रेस और सत्ताधारी बीआरएस ने प्रचार में पूरी ताकत झोंक दी। राज्य में 30 नवंबर को मतदान वोट डाले जाएंगे। राज्य में मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव (केसीआर) समेत 2,290 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं। राज्य में 3.26 करोड़ मतदाता हैं। मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) विकास राज ने बताया कि चुनाव के लिए 2.50 लाख से अधिक कर्मचारी ड्यूटी में तैनात होंगे। पूरे राज्य में धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लागू कर दी गई है। यहां भारत राष्ट्र समिति (बीआरएस) लगातार तीसरी बार सत्ता पाने की कोशिश में है, जबकि कांग्रेस वापसी के लिए जी जान लगा रही है। तेलंगाना के चुनाव परिणाम पांच राज्यों के साथ 3 दिसंबर को आएंगे।

आखिर तक चला चुनाव प्रचार
आगामी चुनाव में बीआरएस प्रमुख और राज्य के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव (केसीआर), उनके पुत्र केटी रामा राव, तेलंगाना प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष ए. रेवंत रेड्डी और भाजपा के लोकसभा सदस्य बंदी संजय कुमार, डी अरविंद और सोयम बापूराव समेत 2,290 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं। केसीआर कामारेड्डी और गजवेल से अपनी किस्मत आजमा रहे हैं। तो वहीं रेवंत रेड्डी कोडंगल और कामारेड्डी से चुनाव लड़ रहे हैं। प्रचार के अंतिम दिन सत्तारूढ़ भारत राष्ट्र समिति (बीआरएस), कांग्रेस और बीजेपी के शीर्ष नेताओं ने अंतिम दिन राज्य भर में चुनावी रैलियों को संबोधित किया और रोड शो में भाग लिया। मोटरसाइकिल रैलियां, पदयात्राएं, नुक्कड़ सभाएं, पब्लिक मीटिंग और घर-घर जाकर प्रचार करना शाम तक जारी रहा। उम्मीदवारों और उनकी पार्टियों ने मतदाताओं को लुभाने के लिए आखिरी कोशिश की।

हैट्रिक लगाने की कोशिश में BRS
बीआरएस ने 2018 के चुनावों में 119 सदस्यीय विधानसभा में 88 सीटें हासिल की थीं। अब यह यहां लगातार तीसरी बार सत्ता में आने की कोशिश कर रही है, जबकि कांग्रेस और बीजेपी दोनों सत्ता हासिल करने की कोशिश में हैं। कांग्रेस नेता राहुल गांधी, प्रियंका गांधी वाड्रा, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और राज्य कांग्रेस प्रमुख रेवंत रेड्डी ने पार्टी उम्मीदवार मयनामपल्ली हनुमंत राव के समर्थन में हैदराबाद के मल्काजगिरी निर्वाचन क्षेत्र में एक रोड शो के साथ अपना अभियान समाप्त किया। बीआरएस अध्यक्ष और मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव ने गजवेल निर्वाचन क्षेत्र में आखिरी चुनावी रैली की, जहां से वो फिर से चुनाव लड़ रहे हैं। वो कामारेड्डी से भी चुनाव लड़ रहे हैं। उनके बेटे और बीआरएस के कार्यकारी अध्यक्ष के. टी. रामाराव ने यहां एक चुनावी रैली को संबोधित किया।

राहुल गांधी ने की 23 सभाएं
राहुल गांधी ने 23 सार्वजनिक सभाओं को संबोधित करते हुए कांग्रेस के प्रचार अभियान का नेतृत्व किया। आखिरी दिन उन्होंनें ऑटो में सवारी की। प्रियंका गांधी ने 26 रैलियां की। मुख्यमंत्री चेहरे के रूप में देखे जाने वाले रेवंत रेड्डी ने राज्य के कई हिस्सों में 55 सार्वजनिक सभाओं को संबोधित किया। बीजेपी 111 निर्वाचन क्षेत्रों में उम्मीदवार खड़े किए हैं और शेष आठ को अभिनेता-राजनेता पवन कल्याण के नेतृत्व वाली अपनी सहयोगी जन सेना पार्टी (जेएसपी) के लिए छोड़ा है। बीआरएस की सहयोगी एआईएमआईएम नौ निर्वाचन क्षेत्रों में मैदान में है। बीआरएस के लिए केसीआर ने राज्य भर में 96 चुनावी रैलियां कर अभियान का नेतृत्व किया।

 

About bheldn

Check Also

‘नीतीश का NDA में लौटना नुकसानदेह’, दीपांकर भट्टाचार्य ने JDU-BJP दोस्ती को लेकर किया बड़ा खुलासा, सियासी हलचल तय

पटना भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी-लेनिनवादी) लिबरेशन के नेता दीपांकर भट्टाचार्य ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश …