‘मैंने जीवन भर कांग्रेस के लिए काम किया, अब विकल्प तलाश रहा हूं’, इस्तीफे के बाद बोले अशोक चव्हाण

मुंबई,

महाराष्ट्र से बड़ी खबर सामने आ रही है. कांग्रेस के दिग्गज नेता और राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया है. इस्तीफे के बाद अशोक चव्हाण ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि मैंने इस्तीफा दे दिया है. एक दो दिन में मैं तय करूंगा कि आगे क्या करना है. मैंने जीवन भर कांग्रेस के लिए काम किया है, लेकिन अब विकल्प तलाश रहा हूं. चव्हाण ने कहा कि मैंने प्राथमिक सदस्यता और विधायक दल एवं कार्यसमिति से इस्तीफा दे दिया है. मैंने फिलहाल किसी विशेष पार्टी में शामिल होने का फैसला नहीं किया है. उन्होंने कहा कि मेरी किसी कांग्रेस विधायक या नेता से बात नहीं हुई है. मैं पार्टी के मुद्दों पर सार्वजनिक रूप से चर्चा नहीं करूंगा. पीएम के श्वेत पत्र और मेरे इस्तीफे का कोई संबंध नहीं है.

एक्स पर अपना बायो बदला
अशोक चव्हाण ने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष नाना पटोले को भेजे अपने पत्र में कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा देने का ऐलान किया. इसके तुरंत बाद अशोक चव्हाण ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर अपना बायो बदल दिया. पहले उनके बायो में सीडब्ल्यूसी सदस्य और कांग्रेस पार्टी का नाम था जिसे अब हटा लिया गया है.

अशोक चव्हाण के कदम पर शिवसेना UBT उद्धव ठाकरे ने हैरानी जताई है. उन्होंने कहा, ‘मैं अशोक चव्हाण को लेकर हैरान हूं, वह कल तक सीट बंटवारे में हिस्सा ले रहे थे और अचानक उन्होंने क्या बदल लिया. मुझे लगता है कि वह राज्यसभा के लिए गए हैं, हर कोई अपने बारे में सोच रहा है.’

10-12 विधायक जा सकते हैं साथ
अशोक चव्हाण ने आज सुबह 11.24 बजे विधानसभा अध्यक्ष राहुल नार्वेकर को विधायक पद से अपना इस्तीफा सौंपा. स्पीकर कार्यालय ने इस्तीफा स्वीकार कर लिया है. स्पीकर राहुल नार्वेकर ने इसकी पुष्टि की है. कहा जा रहा है कि वह बीजेपी से राज्यसभा जा सकते हैं. उनके साथ 10 से 12 विधायक भी पाला बदल सकते हैं. यह घटनाक्रम ऐसे समय में हो रहा है जब महाराष्ट्र कांग्रेस के दो वरिष्ठ नेता बाबा सिद्दीकी और मिलिंद देवड़ा कुछ समय पहले कांग्रेस को छोड़ चुके हैं.

अशोक चव्हाण के बारे में जानिए
अशोक चव्हाण मूलतः औरंगाबाद जिले की पैठण तहसील के रहने वाले हैं. लेकिन उनके पूर्वज नांदेड़ में आकर बसे और तब से वो नांदेडकर कहलाने लगे. उन्हें राजनीतिक विरासत पिता शंकरराव चव्हाण से मिली जो दो बार महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री रहे हैं. शंकरराव चव्हाण की ही बदौलत मराठवाड़ा में कांग्रेस मजबूत हुई और सत्ता विरोधी लहर होने के बावजूद कांग्रेस को कोई यहां से हिला नहीं पाया. पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण महाराष्ट्र में कांग्रेस का ऐसा चेहरा माने जाते हैं जो हर मुश्किल में पार्टी के साथ खड़े रहे हैं. मोदी लहर होने के बावजूद 2014 में नांदेड सीट से उन्होंने कांग्रेस को जीत भी दिलाई थी.

कांग्रेस से लगातार इस्तीफा दे रहे नेता
अशोक चव्हाण के इस्तीफे के बाद कांग्रेस के अन्य पदाधिकारियों के इस्तीफे का सिलसिला जारी है. पार्षद और मुंबई जिला अध्यक्ष जगदीश अमीन ने अपने पार्टी पद से इस्तीफा दे दिया है और डीसीएम देवेंद्र फडणवीस और भाजपा मुंबई अध्यक्ष आशीष शेलार की उपस्थिति में भाजपा में शामिल हो गए हैं. इसके अलावा कांग्रेस के पूर्व एमएलसी और नांदेड़ शहर उपाध्यक्ष अमर राजुरकर ने भी अपने पद से इस्तीफा दे दिया है.

About bheldn

Check Also

‘नीतीश का NDA में लौटना नुकसानदेह’, दीपांकर भट्टाचार्य ने JDU-BJP दोस्ती को लेकर किया बड़ा खुलासा, सियासी हलचल तय

पटना भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी-लेनिनवादी) लिबरेशन के नेता दीपांकर भट्टाचार्य ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश …