‘अमूल मतलब विश्वास, किसानों का सशक्तिकरण…’, गुजरात डेयरी संघ के कार्यक्रम में बोले PM मोदी

नई दिल्ली,

पीएम मोदी गुरुवार को अहमदाबाद दौरे पर पहुंचे हैं. वह यहां गुजरात सहकारी दुग्ध विपणन महासंघ के स्वर्ण जयंती समारोह में शिरकत करेंगे. जानकारी के मुताबिक, पीएम मोदी कार्यक्रम स्थल पर पहुंच चुके हैं. यह कार्यक्रम अहमदाबाद के मोटेरा स्थित नरेंद्र मोदी स्टेडियम में हो रहा है.

पीएम मोदी ने कहा-
पीएम मोदी ने अपने संबोधन में अमूल ब्रांड की उपलब्धियां बताईं और इसे सहकार का सामर्थ्य बताया. उन्होंने कहा कि, छोटे- छोटे पशुपालकों की ये संस्था, आज जिस बड़े पैमाने पर काम कर रही, वही संगठन की शक्ति है. सहकार की शक्ति है. गुजरात के गांवों ने मिलकर 50 वर्ष पहले जो पौधा लगाया था वो आज विशाल वटवृक्ष बन गया है और इस विशाल वटवृक्ष की शाखाएं आज देश विदेश तक फैल चुकी हैं.

पीएम मोदी ने दी स्वर्ण जयंती की शुभकामनाएं
गुजरात कॉपरेटिव मिल्क मार्केटिंग फेडरेशन की स्वर्ण जयंती पर आप सभी को बहुत बहुत शुभकामनाएं. भारत की आजादी के बाद देश में बहुत से ब्रांड बने, लेकिन अमूल जैसा कोई नहीं. आज अमूल भारत के पशुपालकों के सामर्थ्य की पहचान बन चुका है. पीएम मोदी ने अमूल को विश्वास, विकास, जनभागीदारी, किसानों का सशक्तिकरण, आधुनिकता का समावेश, आत्मनिर्भर भारत की प्रेरणा बताया.

उन्होंने कहा कि,
अमूल यानी विश्वास,
अमूल यानी विकास,
अमूल यानी जनभागीदारी,
अमूल यानी किसानों का सशक्तिकरण,
अमूल यानी समय के साथ आधुनिकता का समावेश,
अमूल यानी आत्मनिर्भर भारत की प्रेरणा,
अमूल यानी बड़े सपने, बड़े संकल्प और उससे भी बड़ी सिद्धियां.

डेयरी सेक्टर की असली रीढ़, महिलाशक्ति: पीएम मोदी
भारत के डेयरी सेक्टर की असली रीढ़, महिलाशक्ति है. दूरगामी सोच के साथ लिए गए फैसले कई बार आने वाली पीढ़ियों का भाग्य कैसे बदल देते हैं, अमूल इसका एक उदाहरण है. अमूल भारत के पशुपालकों के सामर्थ्य की पहचान बन चुका है. गुजरात के गांवों ने मिलकर 50 वर्ष पहले जो पौधा लगाया था, वो आज विशाल वटवृक्ष बन गया है.

सवालाख से ज्यादा किसानों ने लिया हिस्सा
जीसीएमएमएफ के स्वर्ण जयंती समारोह में सवा लाख से ज्यादा किसान हिस्सा ले रहे हैं. जीसीएमएमएफ सहकारी समितियों के एकजुटता , उनकी उद्यमशीलता की भावना और किसानों के दृढ़ संकल्प का एक प्रमाण है, जिसने अमूल को दुनिया के सबसे मजबूत डेयरी ब्रांडों में से एक बना दिया है.

About bheldn

Check Also

कुर्सी उठाकर दे-दनादन, मंच से भाषण देते रहे नेता और पंडाल में कार्यकर्ताओं ने कर दिया ‘उलगुलान’

रांची वैसे तो किसी बड़ी क्रांति को ‘उलगुलान’ कहते हैं। माना जाता है कि आदिवासियों …