कमलनाथ तो नहीं आए, लेकिन छिंदवाड़ा में बीजेपी ने लगा दी बड़ी सेंध! CM ने 1500 कांग्रेसियों को दिलाई एंट्री

छिंदवाड़ा,

मध्य प्रदेश कांग्रेस में कमलनाथ को लेकर संशय के बादल तो छंटने लगे हैं, लेकिन पार्टी को झटका लगने के सिलसिले पर ब्रेक नहीं लग पाया है. इस बार तो बीजेपी ने कमलनाथ का गढ़ माने जाने वाले छिंदवाड़ा में ही सेंध लगाई है और बीजेपी की तरफ से लीड रोल निभाया है मुख्यमंत्री मोहन यादव ने. यादव बुधवार को छिंदवाड़ा दौरे पर पहुंचे थे. वहां उन्होंने सबसे पहले 104 करोड़ के विकास कार्यों की सौगात दी, उसके बाद जनआभार यात्रा भी निकाली. सीएम मोहन यादव ने छिंदवाड़ा में कांग्रेस के दिग्गज नेताओं को भी बीजेपी में शामिल करवाया और संगठन को धार देने की कवायद में जुटा दिया. कांग्रेस के लिए इसे बड़ा झटका माना जा रहा है.

दरअसल, कमलनाथ के गढ़ छिंदवाड़ा में जिन नेताओं ने बीजेपी में एंट्री की है, वे अब तक कमलनाथ के करीबी चेहरे के तौर पर गिने जाते थे. बुधवार को बीजेपी में शामिल होने वालों में कांग्रेस के प्रदेश महासचिव उज्जवल सिंह चौहान, पार्षद, सरपंच, जनपद सदस्य और कार्यकर्ताओं के नाम हैं. इन सभी नेताओं ने बीजेपी में आस्था जताई है.

‘अभी और नेता छोड़ेंगे कांग्रेस?’
मुख्यमंत्री यादव ने छिंदवाड़ा में एक जनसभा को भी संबोधित किया और इन नेताओं का स्वागत किया. सीएम का कहना था कि अभी भी कई लोग ऐसे हैं, जो थोड़ा असमंजस में हैं. हालांकि, आने वाले दिनों में वो भी बीजेपी में शामिल होंगे. दुनिया में कोई भी ऐसा होने से नहीं रोक पाएगा. उन्होंने लोगों से छिंदवाड़ा लोकसभा क्षेत्र में बीजपी की जीत सुनिश्चित करने की भी अपील की. हालांकि, कांग्रेस का कहना है कि भगोड़ों के साथ छोड़ने से पार्टी पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा.

छिंदवाड़ा में 1500 कार्यकर्ताओं ने छोड़ी कांग्रेस
छिंदवाड़ा में बीजेपी के जिलाध्यक्ष ने दावा किया कि यहां करीब 1500 कार्यकर्ताओं ने कांग्रेस छोड़ी है और बीजेपी में शामिल हुए हैं. इनमें 700 से ज्यादा कार्यकर्ता नव निर्मित पांढुर्णा जिले के रहने वाले हैं. बीजेपी में शामिल होने वालों में पांढुर्ना नगर पालिका अध्यक्ष संदीप घाटोड़े, नगर पालिका पार्षद, पांढुर्ना जिला जनपद सदस्य, 16 सरपंच और अन्य शामिल हैं. पांढुर्णा विधानसभा सीट है और छिंदवाड़ा लोकसभा क्षेत्र के अंतर्गत आता है.

‘यह मोदी और बीजेपी सरकार का समय’
यादव ने कहा, हम 163 सीटों (विधानसभा चुनाव में) के जनादेश के साथ बीजेपी को सत्ता में लाने के लिए मध्य प्रदेश की जनता को धन्यवाद देने के लिए आज छिंदवाड़ा आया हूं. मुख्यमंत्री ने 104 करोड़ रुपये की विभिन्न विकास परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास भी किया. मोहन यादव का कहना था कि दुनिया की कोई भी ताकत पीएम मोदी के नेतृत्व में मध्य प्रदेश को विकास करने से नहीं रोक पाएगी. यह मोदी और बीजेपी सरकार का समय है. सिर्फ मोदी की वजह से मध्य प्रदेश के 2.5 करोड़ समेत देश में 25 करोड़ से ज्यादा लोग गरीबी से बाहर आ सके हैं. यादव ने इमलीखेड़ा हवाई पट्टी से जनसभा स्थल तक जन आभार यात्रा भी निकाली.

‘कांग्रेस बोली- संगठन पर नहीं पड़ेगा असर’
इस बीच, कांग्रेस प्रवक्ता आनंद बख्शी ने कहा, अगर कुछ कार्यकर्ता दूसरी पार्टियों में चले जाते हैं तो पार्टी और संगठन पर कोई असर नहीं पड़ेगा. उन्होंने कहा, हालांकि सवाल यह है कि ऐसे लोगों की अन्य पार्टियों में क्या स्थिति होगी? उन्हें कांग्रेस संगठन से ताकत मिली है.

मोदी लहर में भी बीजेपी को नहीं मिली कामयाबी
बताते चलें कि कमलनाथ ने छिंदवाड़ा में लगातार 9 बार लोकसभा का चुनाव जीता है. वे दो बार लगातार छिंदवाड़ा से विधायक भी चुने गए हैं. अभी यहां से कमलनाथ के बेटे नकुलनाथ सांसद हैं. यह एकमात्र ऐसा निर्वाचन क्षेत्र है, जिसे बीजेपी 2019 के चुनाव में कांग्रेस से छीनने में विफल रही थी. बीजेपी ने मध्य प्रदेश की कुल 29 में से 28 सीटों पर जीत हासिल की थी.

बीजेपी ने कमजोर सीट के रूप में किया चिह्नित
हाल ही में हुए विधानसभा चुनाव में भी कांग्रेस ने जीत का परचम लहराया और सातों सीटों पर कब्जा किया है. बीजेपी को छिंदवाड़ा में एक अदद जीत की तलाश है. यही वजह है कि पार्टी छिंदवाड़ा को कमजोर सीट के रूप में चिह्नित किए है और यहां संगठन को मजबूत करने के लिए दम भर रही है.

बताते चलें कि कमलनाथ के अगले राजनीतिक कदम के बारे में अटकलें थमने का नाम नहीं ले रही हैं. भले ही कांग्रेस नेता इस बात पर जोर दे रहे हैं कि नाथ पार्टी के साथ बने रहेंगे. कांग्रेस ने ही उनके राजनीतिक करियर को आकार दिया है. कांग्रेस महासचिव भंवर जितेंद्र सिंह ने मंगलवार को कहा, कमलनाथ के बीजेपी में शामिल होने की अटकलें सच नहीं हैं. उन्होंने दावा किया कि ऐसी बातें मीडिया और बीजेपी की उपज हैं. पार्टी के एक नेता ने कहा, 2 मार्च को मध्य प्रदेश में राहुल गांधी के नेतृत्व में भारत जोड़ो यात्रा प्रवेश कर रही है. उसमें नाथ भी हिस्सा लेंगे. एक दिन पहले ही कमलनाथ और अन्य नेता न्याय यात्रा की तैयारियों की समीक्षा के लिए वर्चुअल रूप से बैठक में शामिल हुए थे.

About bheldn

Check Also

नीतीश-लालू के कैंडिडेट पर भारी पड़ रहे पप्पू यादव! बिहार के पूर्णिया में उल्टा पड़ा सत्ता और विपक्ष का दांव

पूर्णिया बिहार के पूर्णिया लोकसभा सीट पर राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) बनाम ‘इंडियन नेशनल डेवलपमेंटल …