बन गई बात…कांग्रेस-आम आदमी पार्टी के बीच गठबंधन का ऐसा हो सकता है फॉर्मूला

नई दिल्ली

आम आदमी पार्टी और कांग्रेस के बीच गठबंधन की घोषणा बस होते- होते रह गई है। विश्वस्त सूत्रों का कहना है कि दिल्ली में आम आदमी पार्टी 4-3 के फॉर्मूले पर सहमत थी लेकिन कांग्रेस दिल्ली में चार सीटों की मांग कर रही है। लेकिन सूत्रों का कहना है कि आम आदमी पार्टी ने कांग्रेस के सामने यही सवाल उठाया है कि आखिर किस आधार पर कांग्रेस दिल्ली में चार सीटें मांग रही है। दिल्ली विधानसभा में कांग्रेस के पास कोई सीट नहीं है और नगर निगम चुनाव में भी कांग्रेस का प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा था। हालांकि कांग्रेस 2019 के लोकसभा चुनाव के प्रदर्शन को आधार बना रही है।

सूत्रों का कहना है कि अब गेंद कांग्रेस के पाले में है और जैसे ही कांग्रेस आलाकमान 4-3 के फॉर्मूले को मंजूरी देता है तो गठबंधन का ऐलान हो सकता है। उधर सूत्र यह भी बता रहे हैं कि आम आदमी पार्टी गुजरात में दो और हरियाणा में एक लोकसभा सीट पर भी चुनाव लड़ सकती है और कांग्रेस ने इस बारे में सकारात्मक रूख दिखाया है। हालांकि चंडीगढ़ और गोवा में कांग्रेस द्वारा आम आदमी पार्टी को कोई सीट दी जानी मुश्किल है। यानी गठबंधन का ऐसा फॉर्मूला तैयार हो सकता है।

दिल्ली में गठबंधन को लेकर वैसे दोनों पार्टियां ही गंभीर है और आप के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल समेत कांग्रेस के बड़े नेता भी यह स्वीकार कर चुके हैं। अब देखना होगा कि गठबंधन में कौन सा चुनावी समीकरण तय होगा। आम आदमी पार्टी और कांग्रेस ने पंजाब में तो अलग- अलग लड़ने का मन बना लिया है। सूत्र बता रहे हैं कि मार्च में चुनावों की घोषणा होने वाली है और अब ज्यादा समय नहीं बचा है, ऐसे में दोनों पार्टियों के बीच गठबंधन की घोषणा जल्द हो सकती है।
बीते रविवार को कांग्रेस के एक सीनियर नेता के घर पर आप संयोजक अरविंद केजरीवाल और कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे के बीच बातचीत हुई थी, जिसमें बताया जा रहा है कि 4-3 के ही फॉर्मूले पर बात हुई थी। वहीं बुधवार इंडिया गठबंधन के लिए अच्छी खबर आई जहां सपा-कांग्रेस के बीच गठबंधन और सीटों का ऐलान हो गया।

About bheldn

Check Also

जिंदा है दाऊद इब्राहिम का सबसे बड़ा दुश्मन! 9 साल बाद सामने आई छोटा राजन की नई तस्वीर

नई दिल्ली, दाऊद इब्राहिम का जानी दुश्मन और दिल्ली की तिहाड़ जेल में बंद अंडरवर्ल्ड …