संदेशखाली में झाड़ू के साथ महिलाओं का विरोध प्रदर्शन, ममता के मंत्री बोले- हमें डेढ़ महीने की मोहलत दे दो

संदेशखाली,

पश्चिम बंगाल के संदेशखाली में पिछले कई दिनों से हंगामा मचा हुआ है. संदेशखाली के नजदीकी इलाके बरमाजुर में महिलाओं ने विरोध प्रदर्शन किया. इस दौरान महिलाओं ने TMC नेता अजीत मैती की गिरफ्तारी की मांग की. बता दें कि शनिवार को टीएमसी के स्थानीय नेता अजीत मैती के खिलाफ महिलाओं ने विरोध प्रदर्शन किया था.

बता दें कि TMC के एक प्रतिनिधिमंडल ने रविवार को लगातार दूसरे दिन पश्चिम बंगाल के संकटग्रस्त संदेशखाली का दौरा किया और उन ग्रामीणों की शिकायतें सुनीं, जो सत्तारूढ़ दल के स्थानीय नेताओं के कथित अत्याचारों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं. प्रतिनिधिमंडल में राज्य के मंत्री पार्थ भौमिक और सुजीत बोस शामिल थे, उन्होंने बरमाजुर क्षेत्र का दौरा किया, जहां हाल ही में हिंसक विरोध प्रदर्शन हुआ थाऔर स्थानीय लोगों से उनकी शिकायतों को दूर करने के लिए डेढ़ महीने का समय मांगा. लेकिन जैसे ही मंत्री सुजीत बोस और पार्थ भौमिक वहां से निकले तो बरमाजुर में एक स्थान पर स्थानीय महिलाओं ने विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया.

राज्य के मंत्रियों ने संदेशखाली में ग्रामीणों से अपनी मांगें लेकर आने का भी आग्रह किया. पार्थ भौमिक और सुजीत बोस ने राधाकृष्ण मंदिर में एक ‘कीर्तन’ में भाग लिया और वहां एक सभा को संबोधित किया. राज्य के सिंचाई मंत्री पार्थ भौमिक ने कहा कि हमें डेढ़ महीने का समय दीजिए. हमने वादा किया है कि जमीन हड़पने की जितनी भी घटनाएं सामने आई हैं, उनका सत्यापन किया जाएगा. हम सभी समस्याओं को एक बार में हल नहीं कर सकते. मुद्दों के समाधान के लिए आधिकारिक प्रक्रियाओं की जरूरत है.

उन्होंने दावा किया कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी क्षेत्र के प्रत्येक निवासी के आंसू पोंछने के लिए प्रतिबद्ध हैं. भौमिक ने कहा कि वह और अग्निशमन और आपातकालीन सेवा मंत्री सुजीत बोस आने वाले दिनों में नियमित रूप से क्षेत्र का दौरा करेंगे और ग्रामीणों के साथ बातचीत करेंगे.

उन स्थानीय टीएमसी नेताओं के खिलाफ कार्रवाई के बारे में पूछे जाने पर, जिनके खिलाफ महिलाओं सहित ग्रामीणों ने आरोप लगाए हैं, मंत्रियों ने कहा कि हमने उन्हें पहले ही पार्टी पदों से हटा दिया है और पुलिस ने जांच शुरू कर दी है. बोस ने सभा में कहा कि हम यहां आपकी बातें सुनने आए हैं. हमें बाहरी न समझें. मंत्रियों के साथ संदेशखाली विधायक सुकुमार महतो भी थे.

कोलकाता से लगभग 100 किलोमीटर दूर सुंदरबन की सीमा पर स्थित उत्तर 24 परगना जिले के नदी तटीय क्षेत्र संदेशखाली क्षेत्र में एक महीने से अधिक समय से स्थानीय टीएमसी नेता शेख शाहजहां के खिलाफ विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं. शेख शाहजहां फिलहाल फरार है. इलाके की लगभग 100 महिलाओं ने ‘सुजीत बोस गो बैक’ के पोस्टर लेकर टीएमसी मंत्रियों के दौरे का विरोध किया और स्थानीय टीएमसी मजबूत नेता शाहजहां की गिरफ्तारी की मांग की.

About bheldn

Check Also

J-K: डोडा में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़, सेना ने पूरे इलाके में की घेराबंदी

डोडा, जम्मू-कश्मीर के डोडा में सुरक्षा बलों और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़ का मामला सामने …